*Ncf 2005 की विशेषताएं/प्रमुख सुझाव* ✍️

1. प्राथमिक स्तर पर भाषा का माध्यम मातृभाषा होना चाहिए।

2. आगमन विधि- ज्ञात से अज्ञात, मूर्त से अमूर्त का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग हो।

3. विशाल पाठ्यक्रम और मोटी किताबें शिक्षा प्रणाली और सफलता का प्रतीक है।

4. मूल्य को उपदेश देकर नहीं बल्कि वातावरण देकर स्थापित करना चाहिए।

5. अभिभावक को सख्त संदेश दिया जाए कि बच्चे को छोटी उम्र में निपुण बनाने की आकांक्षा रखना गलत है।

6. बच्चे को स्कूल के बाहर जीवन से तनाव मुक्त वातावरण प्रदान करना।

7. अच्छे विद्यार्थी की धारणा में बदलाव अर्थात अच्छा विद्यार्थी वह है जो तर्कपूर्ण बहस के द्वारा अपने मौलिक विचार शिक्षा के समान प्रस्तुत करता है।

8. खेल आनंद के लिए खेलते हैं इसमें रिकॉर्ड बनाना/तोड़ना जैसी भावना को बढ़ावा नहीं देना चाहिए।

9. पुस्तकालय में बच्चे को पुस्तक का चयन स्वयं करने देना चाहिए।

10. सजा/पुरस्कार को सीमित रखना चाहिए।

11. शांति शिक्षा को बढ़ावा दें, महिलाओं के प्रति आदर हो।

12. पाठ्यक्रम बच्चे के चहुमुखी विकास पर अधारित हो।

13. समावेशी वातावरण तैयार करें।

*नोट्स* ✍️ *श्रेया राय* 🙏🙏

🏵️ Ncf 2005 की मुख्य विशेषताएं / प्रमुख सुझाव🏵️
🏵️1-प्राथमिक स्तर पर भाषा का माध्यम मातृभाषा होना चाहिए।
🏵️2-आगमन- ज्ञात से अज्ञात, मूर्त से अमूर्त का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग हो।
🏵️3-विशाल पाठ्यक्रम और मोटी किताबें शिक्षा प्रणाली में असफलता का प्रतीक है।
🏵️4-मूल्य को उपदेश देकर नहीं वातावरण देकर स्थापित करना चाहिए।
🏵️5-अभिभावक को सख्त संदेश दिया जाए कि बच्चे को छोटी उम्र में निपुण बनाने की आकांक्षा रखना गलत है।
🏵️6-बच्चे को स्कूल के बाहर जीवन से तनाव मुक्त वातावरण प्रदान करना चाहिए।
🏵️7-अच्छे विद्यार्थी की धारणा में बदलाव अर्थात अच्छा विद्यार्थी वह है जो तर्कपूर्ण बहस के द्वारा अपने मौलिक विचार शिक्षा के समान प्रस्तुत करता है।
🏵️8-खेल आनंद के लिए खेलते हैं, इसमें रिकॉर्ड बनाना/ रिकॉर्ड तोड़ना जैसी भावना को बढ़ावा ना दिया जाए।
🏵️9-पुस्तकालय में बच्चे को पुस्तक का चयन स्वयं करने दिया जाए।
🏵️10-सजा / पुरस्कार को सीमित करना चाहिए।
🏵️11-शांति शिक्षा को बढ़ावा दें, महिलाओं के प्रति आदर।
🏵️12-पाठ्यक्रम बच्चे के चौमुखी विकास पर आधारित हो।
🏵️13-बच्चे के लिए समावेशी वातावरण तैयार करें।
🏵️Thank you🏵️
🔹🏵️🔹 Notes by~VINAY SINGH THAKUR

राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा 2005
National Curriculum Framework 2005 (NCF-2005) की विशेषताएं/प्रमुख सुझाव :-

🏆प्राथमिक स्तर पर भाषा का माध्यम मातृभाषा होना चाहिए।

🏆आगमन – ज्ञात से अज्ञात, मूर्त से अमूर्त का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग हो।

🏆विशाल पाठ्यक्रम और मोटी किताबें शिक्षा प्रणाली में असफलता का प्रतीक है।

🏆मूल्य को उपदेश देकर नहीं बल्कि वातावरण देकर सिखाना चाहिए।

🏆अभिभावक को सख्त संदेश दिया जाए कि बच्चे को छोटी उम्र में निपुण बनाने की आकांक्षा रखना गलत है।

🏆बच्चे को स्कूल के बाहर जीवन से तनाव मुक्त वातावरण प्रदान करना।

🏆अच्छे विद्यार्थी की धारणा में बदलाव अर्थात अच्छा विद्यार्थी वह है जो तर्कपूर्ण बहस के द्वारा अपने मौलिक विचार शिक्षा किसी सामने प्रस्तुत करता है।

🏆खेल आनंद के लिए खेलते हैं। इसमें रिकॉर्ड तोड़ना या बनाना जैसी भावना को बढ़ावा ना दें।

🏆पुस्तकालय में बच्चे को पुस्तक का चयन स्वयं करने दें।

🏆सजा/पुरस्कार को सीमित करना चाहिए।

🏆शांतिपूर्ण शिक्षा में बढ़ावा दें, महिलाओं के प्रति आदर का भाव रखें।

🏆पाठ्यक्रम बच्चे के चहुँमुखी विकास पर आधारित हो।

🏆समावेशी वातावरण तैयार रखें।

⭐⭐⭐
✍️✍️By -Awadhesh Kumar ✍️✍️
_____________________________

🌼🌼Ncf-2005 की प्रमुख सुझाव या विशेषताएं🌼🌼🌼
🌼1. प्राथमिक स्तर पर भाषा का माध्यम मातृभाषा होना चाहिए

🌼2.आगमन — ज्ञात से अज्ञात मूर्त से अमूर्त का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग होना चाहिए

🌼3. विशाल पाठ्यक्रम और मोटी किताबें शिक्षा प्रणाली असफलता का प्रतीक है

🌼4. मूल्य को उपदेश देकर नहीं वातावरण देकर स्थापित करना चाहिए

🌼5. अभिभावक को सख्त उद्देश्य दिया जाए कि बच्चे को छोटी उम्र में निपुण बनाने की आकांक्षा रखना गलत है

🌼6.बच्चे को स्कूल के बाहर जीवन से तनाव मुक्त वातावरण प्रदान करना

🌼7.अच्छे विद्यार्थी की धारणा में बदलाव अर्थात अच्छा विद्यार्थी वह है जो तर्कपूर्ण बहस के द्वारा अपने मौलिक विचार शिक्षा के समान प्रस्तुत करता है खेल आनंद आनंद के लिए खेलते हैं

🌼8. खेल आनंद के लिए खेलते हैं , इसमें रिकॉर्ड बनाना/ तोड़ना जैसी भावना को बढ़ावा नहीं देना चाहिए

🌼9.पुस्तकालय में बच्चे को पुस्तक का चयन स्वयं करने देना चाहिए

🌼10. सजा /पुरस्कार को सीमित करना चाहिए

🌼11.शांति शिक्षा को बढ़ावा दें ,महिलाओं के प्रति आदर की भावना होनी चाहिए

🌼12. पाठ्यक्रम बच्चों के चहुमुखी विकास विकास पर आधारित होना चाहिए

🌼13. समावेशी वातावरण तैयार करना चाहिए..

By manjari soni🌼🌼

🌸🌸 ncf-2005 की मुख्य विशेषताएं/प्रमुख सुझाव🌸🌸

✍🏻1- प्राथमिक स्तर पर भाषा का माध्यम मातृभाषा होना चाहिए।

✍🏻 2-आगमन–ज्ञात से अज्ञात, मूर्त से अमूर्त ज्यादा से ज्यादा प्रयोग होता है।

✍🏻3-विशाल पाठ्यक्रम और मोटी किताबों की शिक्षा प्रणाली असफलता का प्रतीक है।

✍🏻4-मूल्य को उपदेश देकर नहीं वातावरण देकर स्थापित करना चाहिए।

✍🏻5-अभिभावक को सख्त आदेश दिया जाए कि बच्चों को छोटी उम्र में निपुण बनाने की आकांक्षा रखना गलत है।

✍🏻6-बच्चों को स्कूल के बाहरी जीवन से तनाव मुक्त वातावरण प्रदान करना।

✍🏻7-अच्छे विद्यार्थी की धारणा में बदलाव अर्थात अच्छा विद्यार्थी वह है जो तर्क पूर्ण बहस के द्वारा अपने मौलिक विचार शिक्षा के समान प्रस्तुत करता है।

✍🏻8-खेल आनंद के लिए खेलते हैं इसमें रिकॉर्ड बनाना/ तोड़ना जैसी भावनाओं को बढ़ावा ना दें।

✍🏻9-पुस्तकालय में बच्चों को पुस्तक का चयन स्वयं करने दे।

✍🏻10-सजा /पुरस्कार को सीमित करना चाहिए।

✍🏻11-शांति शिक्षा को बढ़ावा दें, महिलाओं के प्रति आदर की भावना विकसित करना चाहिए।

✍🏻12-पाठ्यक्रम बच्चों के चहुंमुखी विकास पर आधारित होनी चाहिए।

✍🏻13-समावेशी वातावरण तैयार करें।

✍🏻📚📚 Notes by….. Sakshi Sharma📚📚✍🏻
NCF 2005 की विशेषताएं / प्रमुख सुझाव ~~~
✍️1~ प्राथमिक स्तर पर भाषा का माध्यम मातृभाषा होना चाहिए l
✍️2~ आगमन विधि अर्थात ज्ञात से अज्ञात की ओर सरल से कठिन की ओर ज्यादा से ज्यादा प्रयोग हो l
✍️3~ विशाल पाठ्यक्रम और मोटी किताबें शिक्षा प्रणाली असफलता का प्रतीक है l
✍️4~मूल्य को उपदेश देकर नहीं वातावरण देकर स्थापित करना चाहिए |
✍️5~अभिभावक को सख्त संदेश दिया जाए कि बच्चों को छोटी उम्र में निपुण बनाने की आकांक्षा रखना गलत है l
✍️6~बच्चे को स्कूल के बाहर जीवन से तनाव मुक्त वातावरण प्रदान करना l
✍️7~अच्छे विधार्थी की धारणा मे बदलाव अर्थात्‌ अच्छा विधार्थी वह है जो तर्क पूर्ण बहस के द्वारा अपने मौलिक विचार शिक्षा के समान प्रस्तुत करता है l
✍️8~खेल आनंद के लिए खेलते है इनसे रिकार्ड बनाना / तोड़ना जैसी भावना को बढावा ना दे l
✍️9~पुस्तकालय मे बच्चे को पुस्तक का चयन स्वयं करने दे l
✍️10~सजा / पुरस्कार को सीमित करना चाहिए l
✍️11~शान्ति शिक्षा को बढ़ावा देना, महिलाओं के प्रति आदर l
✍️12~पाठ्यक्रम बच्चों के चहुंमुखी विकास पर आधारित हो l
✍️13~बच्चों के लिए समावेशी वातावरण तैयार करें l

🚩✍️🚩📚📚📒📒📃
Notes By ~ Alakh Niranjan Vishwakarma
⛳राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा 2005 की विशेषताएं/प्रमुख सुझाव ⛳

1. प्राथमिक स्तर पर भाषा का माध्यम मातृभाषा होना चाहिए।

2.. Ncf 2005 आगमन विधि पर आधारित हो, जिसमें ज्ञात से अज्ञात,मूर्त से अमूर्त का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग हो ।

3. विशाल पाठ्यक्रम और मोटी किताबी शिक्षा प्रणाली असफलता का प्रतीक होती है इससे बचा जाना चाहिए।

4. मूल्य को उपदेश देकर नहीं बल्कि वातावरण देखकर स्थापित करना चाहिए।

5. अभिभावक को सख्त संदेश दिया जाए कि बच्चे को छोटी उम्र में निपुण बनाने की आकांक्षा रखना गलत है।

6. बच्चे को स्कूल के बाहरी जीवन से तनाव मुक्त वातावरण प्रदान करना चाहिए।

7. अच्छे विद्यार्थी की धारणा में बदलाव अर्थात अच्छा विद्यार्थी वह है जो तर्कपूर्ण बहस के द्वारा अपने मौलिक विचार शिक्षा के सम्मान प्रस्तुत करता है।

8. खेल आनंद के लिए खेलते हैं इसमें रिकॉर्ड बनाना या तोड़ना जैसी भावना को बढ़ावा ना दें।

9. पुस्तकालय में बच्चों को पुस्तक का चयन स्वयं करने दे।

10. सजा एवं पुरस्कार को सीमित करना चाहिए।

11. शांति शिक्षा को बढ़ावा दें महिलाओं के प्रति आदर का भाव विकसित करें।

12. पाठ्यक्रम बच्चे के चहुमुखी विकास पर आधारित होना चाहिए।

13. बच्चों के लिए समावेशी वातावरण तैयार करें।

📝 by Shivee Kumari📝

🌟 *NCF–2005 की मुख्य विशेषताएं/प्रमुख सुझाव* 🌟

💫 *१.* प्राथमिक स्तर पर भाषा का माध्यम मातृभाषा होनी चाहिए।

💫 *२.* आगमन विधि का प्रयोग, ज्ञात से अज्ञात, मूर्त से अमूर्त का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग हो।

💫 *३.* विशाल पाठ्यक्रम और मोटी किताबें शिक्षा प्रणाली असफलता का प्रतीक है।

💫 *४.* मूल्य को उपदेश देकर नहीं ,वातावरण देकर स्थापित करना चाहिए।

💫 *५.* अभिभावक को सख्त उपदेश दिया जाए कि, बच्चे को छोटी उम्र में निपुर्ण बनाने की आकांक्षा रखना गलत है।

💫 *६.* बच्चे को स्कूल के बाहर जीवन से तनाव मुक्त वातावरण प्रदान करना।

💫 *७.* अच्छे विद्यार्थी की धारणा में बदलाव अर्थात अच्छा विद्यार्थी वह है, जो तर्कपूर्ण बहस के द्वारा अपने मौलिक विचार शिक्षक के सामने प्रस्तुत करता है।

💫 *८.* खेल आनंद के लिए खेलते हैं, इसके रिकॉर्ड बनाना/तोड़ना जैसी भावना को बढ़ावा ना दें।

💫 *९.* पुस्तकालय में बच्चे को पुस्तक का चयन स्वयं करने दे।

💫 *१०.* सजा / पुरस्कार को सीमित करना चाहिए।

💫 *११.* शांति शिक्षा में बढ़ावा दे, महिलाओं के प्रति आदर तथा जिम्मेदारियों का नजरिया होना चाहिए।

💫 *१२.* पाठ्यक्रम बच्चे के चहुमुखी विकास पर आधारित हो।

💫 *१३.* बच्चों के लिए समावेशी वातावरण तैयार करें।

✍🏻✍🏻✍🏻 *Notes by – Pooja* ✍🏻✍🏻✍🏻

🌱🌱(Characteristics of NCF-2005)🌱🌱
(राष्ट्रीय पाठ्यचर्या रुपरेखा की विशेषताएं एवं प्रमुख सुझाव)

💞 प्राथमिक स्तर पर भाषा का माध्यम मातृभाषा होना चाहिए।

💞राष्ट्रीय पाठ्यचर्या रुपरेखा ;आगमन विधि पर आधारित है
,
✍️जिसमें ज्ञात से अज्ञात
✍️मूर्त से अमूर्त का,
✍️उदाहरण से नियम
✍️प्रत्यक्ष से प्रमाण
✍️स्थूल से सूक्ष्म, इत्यादि की ओर
✍️ ज्यादा से ज्यादा प्रयोग में लाई जाए;

💞विशाल पाठ्यक्रम और मोटी किताबी शिक्षा प्रणाली असफलता का प्रतीक होती है।

💞मूल्य को उपदेश देकर नहीं बल्कि वातावरण देकर स्थापित करना चाहिए।

💞 अभिभावक को सख्त संदेश दिया जाए कि बच्चे को छोटी उम्र में निपुण बनाने की आकांक्षा रखना गलत है।

💞बच्चे को स्कूल के बाहरी जीवन से तनाव मुक्त वातावरण प्रदान करना चाहिए।

💞अच्छे विद्यार्थी की धारणा में बदलाव अर्थात अच्छा विद्यार्थी वह है जो तर्कपूर्ण बहस के द्वारा अपने मौलिक विचार शिक्षा के समान प्रस्तुत करता है।

💞बच्चे विभिन्न प्रकार के खेल खेलते है और ये खेल वे आनंद प्राप्त करने के लिए खेलते हैं इसमें रिकॉर्ड बनाना या तोड़ना जैसी भावना को पनपने ना दें।

💞 पुस्तकालय में बच्चों को पुस्तक का चयन स्वयं करने दे।

💞सजा एवं पुरस्कार को सीमित रखना चाहिए।

💞 शांति शिक्षा को बढ़ावा दें महिलाओं के प्रति आदर, वा जिम्मेदारी का नजरिया होना चाहिए।

💞पाठ्यक्रम बच्चे के चहुमुखी विकास पर आधारित होना चाहिए।

💞 बच्चों के लिए समावेशी वातावरण तैयार करें।

🎯Written by- $hikhar pandey🎯

🎉राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा 2005 की विशेषताएं/प्रमुख सुझाव

1. प्राथमिक स्तर पर भाषा का माध्यम मातृभाषा होना चाहिए।

2.. Ncf 2005 आगमन विधि पर आधारित हो, जिसमें ज्ञात से अज्ञात,मूर्त से अमूर्त का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग हो ।

3. विशाल पाठ्यक्रम और मोटी किताबी शिक्षा प्रणाली असफलता का प्रतीक होती है इससे बचा जाना चाहिए।

4. मूल्य को उपदेश देकर नहीं बल्कि वातावरण देखकर स्थापित करना चाहिए।

5. अभिभावक को सख्त संदेश दिया जाए कि बच्चे को छोटी उम्र में निपुण बनाने की आकांक्षा रखना गलत है।

6. बच्चे को स्कूल के बाहरी जीवन से तनाव मुक्त वातावरण प्रदान करना चाहिए।

7. अच्छे विद्यार्थी की धारणा में बदलाव अर्थात अच्छा विद्यार्थी वह है जो तर्कपूर्ण बहस के द्वारा अपने मौलिक विचार शिक्षा के सम्मान प्रस्तुत करता है।

8. खेल आनंद के लिए खेलते हैं इसमें रिकॉर्ड बनाना या तोड़ना जैसी भावना को बढ़ावा ना दें।

9. पुस्तकालय में बच्चों को पुस्तक का चयन स्वयं करने दे।

10. सजा एवं पुरस्कार को सीमित करना चाहिए।

11. शांति शिक्षा को बढ़ावा दें महिलाओं के प्रति आदर का भाव विकसित करें।

12. पाठ्यक्रम बच्चे के चहुमुखी विकास पर आधारित होना चाहिए।

13. बच्चों के लिए समावेशी वातावरण तैयार करें।

✍🏻 by raziya khan

🔆 Ncf -2005 की मुख्य विशेषताएं या प्रमुख सुझाव ➖

⭕ एनसीएफ के अनुसार प्राथमिक स्तर पर बच्चे की भाषा का माध्यम मातृभाषा में होना चाहिए |

क्योंकि प्रत्येक बच्चे के घर का वातावरण जैसा होता है बच्चे वैसा ही सीखते है इसलिए शिक्षण पर भाषा का भी बहुत अधिक प्रभाव पड़ता है |

⭕ आगमन विधि( ज्ञात से अज्ञात, मूर्त से अमूर्त, विश्लेषण से संश्लेषण ) का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग होना चाहिए |

⭕ विशाल पाठ्यक्रम और मोटी किताबें शिक्षा प्रणाली की असफलता का प्रतीक है |

⭕ मूल्य को उपदेश देकर नहीं बल्कि उचित वातावरण देकर स्थापित करना चाहिए |

⭕ अभिभावक को सख्त संदेश दिया जाए कि छोटी उम्र में बच्चे को निपुण बनाने की आकांक्षा गलत है |

⭕ बच्चे को स्कूल के बाहर जीवन से तनाव मुक्त वातावरण प्रदान करना चाहिए |

⭕ अच्छे विद्यार्थी की धारणा में बदलाव, अर्थात अच्छा विद्यार्थी वह है जो तर्क पूर्ण बहस के द्वारा अपने मौलिक विचार शिक्षक के सामने प्रस्तुत करता है |

⭕ बच्चे मनोरंजन या आनंद के लिए खेल खेलते हैं इसलिए रिकार्ड बनाना, तोड़ना जैसी भावनाओं को बढ़ावा देना नहीं है |

⭕ बच्चे को पुस्तक का चयन स्वयं करने दिया जाए |

⭕ सजा या पुरस्कार को सीमित करना चाहिए |

⭕ शांति शिक्षा को बढ़ावा दें, महिलाओं के प्रति आदर करना चाहिए |

⭕ पाठ्यक्रम बच्चे के चहुंमुखी विकास पर आधारित होना चाहिए |

⭕ शिक्षक को कक्षा कक्ष का समावेशी वातावरण तैयार करना चाहिए |

नोट्स बाय➖ रश्मि सावले

🌻🌼🍀🌹🌸🌻🌼🍀🌹🌸🌼🍀🌹🌻🌸🌼🍀🌹🌻🌸

एनसीएफ 2005 (ncf )विशेषताएं या प्रमुख सुझाव

ncf-2005 में मुख्य विशेषताओं का वर्णन किया गया है
1 प्राथमिक स्तर पर भाषा का माध्यम मातृभाषा होना चाहिए

2 आगमन ज्ञात से अज्ञात मूर्त से अमूर्त का ज्यादा प्रयोग हो

3 विशाल पाठ्यक्रम और मोटी किताबे शिक्षा प्रणाली का असफलता का प्रतीक है

4 मूल को उपदेश देकर नहीं वातावरण देकर स्थापित करना चाहिए

5 अभिभावक को सकते संदेश दिया जाए कि बच्चों को छोटी उम्र में निपुण बनाने की आकांक्षा रखना गलत है

6 अच्छे विद्यार्थी की धारणा में बदलाव अर्थात अच्छा विद्यार्थी वह है जो तर्कपूर्ण बहस के द्वारा अपनी मौलिक विचार शिक्षा के समान प्रस्तुत करता है

7 बच्चे को स्कूल के बाहर जीवन से तनाव मुक्त वातावरण प्रदान करना

8 खेल आनंद के लिए खेलते हैं इसके रिकॉर्ड बनाना तोड़ना जैसी भावना को बढ़ावा ना देना

9 पुस्तकालय में बच्चों को पुस्तक का चयन स्वयं करने दें

10 सजा पुरस्कार को सीमित करना चाहिए।

11 शांति शिक्षा को बढ़ावा दें महिलाओं के प्रति आदर

12 पाठ्यक्रम बच्चे के चहूमुखी विकास पर आधारित हो

13 समावेशी वातावरण तैयार करें

🙏🙏🙏🙏sapna sahu🙏🙏🙏🙏

🪔NCF-2005 की विशेषताएं और प्रमुख सुझाव📚

♦️ प्राथमिक स्तर पर भाषा का माध्यम मातृभाषा होना चाहिए।

♦️ बच्चों को आगमन विधि से पढ़ाया जाना चाहिए ताकि उनमें चीजों के प्रति अवधारणा विकसित हो सके।

♦️ विशाल पाठ्यक्रम और मोटी किताबें शिक्षा प्रणाली के असफलता का प्रतीक है।

♦️ मूल्य को उपदेश देकर नहीं वातावरण देकर स्थापित करना चाहिए।

♦ अभिभावक को सख्त संदेश दिया जाए कि बच्चों को छोटी उम्र में निपुण बनाने की आकांक्षा रखना गलत है।

♦️ बच्चों को,स्कूल के बाहर जीवन से तनाव मुक्त वातावरण प्रदान करना।

♦️अच्छा विद्यार्थी की धारणा में बदलाव अर्थात अच्छा विद्यार्थी वह है जो तर्कपूर्ण बहस के द्वारा अपने मौलिक विचार शिक्षा के समान प्रस्तुत करता है।

♦️ खेल आनंद के लिए खेलते हैं इसमें रिकॉर्ड बनाना या तोड़ना जैसी भावना को बढ़ावा ना दें।

♦️ पुस्तकालय में बच्चे को पुस्तक का चयन स्वयं करने दे।

♦️ सजा या पुरस्कार को सीमित करना चाहिए

♦️ शांति शिक्षा को बढ़ावा दें और महिलाओं के प्रति आदर पूर्ण व्यवहार करें।

♦️ पाठ्यक्रम बच्चे के चहुमुखी विकास पर आधारित हो।

♦️ समावेशी वातावरण तैयार करें।

🤗Notes By Akanksha 🤗
🌸🎊📚🤗🙏

🌹 NCF – 2005 की विशेषतायें / प्रमुख सुझाव 🌹

1. प्राथमिक स्तर पर भाषा का माध्यम मातृभाषा होना चाहिए।

2. आगमन विधि का प्रयोग हो जैसे ज्ञात से अज्ञात , मूर्त से अमूर्त आदि का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग होना चाहिए।

3. विशाल पाठ्यक्रम और मोटी किताबें शिक्षा प्रणाली की असफलता का प्रतीक है।
अतः इसीलिए NCF 2005 ने इसे स्वीकार नहीं किया है।

4. मूल्यों को उपदेश देकर नहीं बल्कि वातावरण देकर स्थापित करना चाहिए।

अर्थात बच्चों से प्रत्येक कार्यों की उम्मीद से पहले हमें स्वयं ही उन कार्यों को करके प्रत्यक्ष रूप से बच्चों को दिखाना चाहिए। जैसे –

प्रत्येक अभिभावक अपने बच्चों से बोलते हैं कि मोबाईल मत चलाओ अपनी पढ़ाई करो और हम खुद उनके सामने मोबाईल चलाते रहते हैं तो ये गलत है क्योंकि इस तरह की उम्मीद रखने से पहले अभिभावकों को स्वयं ही उस प्रकार से उन कार्यों को करके बच्चों को दिखाना होगा तभी बच्चे आपको देखकर आगे बढ़ेंगे क्योंकि बच्चे अपने से बड़ों का / वातावरण का अवलोकन करके ही सीखते हैं।

5. अभिभावकों को सख्त संदेश दिया जाए कि बच्चे को छोटी उम्र में निपुण बनाने की आकांक्षा रखना गलत है।

6. बच्चों को विद्यालय के बाहर जीवन से तनाव मुक्त वातावरण प्रदान करना चाहिये।

7. अच्छे विद्यार्थी की धारणा में बदलाव अर्थात अच्छा विद्यार्थी वह है जो तर्क पूर्ण बहस के द्वारा अपने मौलिक विचार शिक्षा के समान प्रस्तुत करता है।

8. खेल आनंद के लिए खेलते हैं इसमें रिकॉर्ड बनाना / तोड़ना जैसी भावनाओं को बढ़ावा न दें।

9. पुस्तकालय में बच्चों को पुस्तक का चयन स्वयं करने दें।

10. सजा / पुरस्कार को सीमित करना चाहिये।

11. शांति पूर्ण शिक्षा को बढ़ावा दें –
महिलाओं के प्रति आदर आदि।

12. पाठ्यक्रम बच्चों के चहुँमुखी विकास पर आधारित होना चाहिए।

13. कक्षा कक्ष का समावेशी वातावरण तैयार करें।

🌹✒️ Notes by – जूही श्रीवास्तव ✒��

💫🔅 NCF – 2005 की प्रमुख सुझाव या विशेषताएं : –
1⃣ प्राथमिक स्तर पर भाषा का माध्यम मातृभाषा होना चाहिए |
2⃣ आगमन ज्ञात से अज्ञात मूर्त से अमूर्त का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग होना चाहिए |
3⃣ विशाल पाठ्यक्रम और मोटी किताबे शिक्षा प्रणाली असफलता का प्रतीक है |
4⃣ मूल्य को उपदेश देकर नहीं वातावरण देकर स्थापित करना चाहिए |
5⃣ अभिभावकों को सख्त उद्देश्य दिया जाए कि बच्चे को छोटी उम्र में निपुण बनाने की आशंका रखना गलत है |
6⃣ बच्चे को स्कूल के बाहर जीवन से तनाव मुक्त वातावरण प्रदान करना है | 7⃣ अच्छे विद्यार्थी की धारणा में बदलाव अच्छा विद्यार्थी वह है जो तर्कपूर्ण बहस के द्वारा अपने मौलिक विचार शिक्षा के समान प्रस्तुत करता है |
8⃣ खेल आनंद के लिए खेलते हैं इसमें रिकॉर्ड बनाना / तोड़ना जैसी भावनाओं को बढ़ावा नहीं देना चाहिए |
9⃣ पुस्तकालय ने बच्चे को पुस्तक का चयन स्वयं करने देना चाहिए |
🔟 सजा / पुरुस्कार को सीमित करना चाहिए |
11. शांति शिक्षा को बढ़ावा दे महिलाओं के प्रति आदर की भावना होनी चाहिए |
12. पाठ्यक्रम बच्चों के चहुमुखी विकास पर आधारित होना चाहिए |
13. समावेशी वातावरण तैयार करना चाहिए |
Notes by – Ranjana Sen

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.