🔆 आकलन एवं मूल्यांकन ( assessment and evaluation) 🔆

🌀 आकलन जितना अच्छे से करेंगे मूल्यांकन उतना ही अच्छा होगा|

🌀 आकलन ➡️ डेटा संचरण करना
🌀 मूल्यांकन ➡️ उपलब्धि का मापन करना

🌀 मूल्यांकन का संबंध आंकड़ों के विश्लेषण और व्याख्या से है जिस प्रकार की गलतियां हो रही हैं एवं उनको कैसे सुधार कर सकते हैं यानी जो गलतियां हुई है उनका कारण क्या है और इनको किस प्रकार सुधारा जा सकता है।

🔰 आकलन (assessment)➖
आकलन का मतलब – सूचना को एकत्रित करने की प्रक्रिया।

💫 विद्यार्थी के संदर्भ में किसी विषय के बारे में विश्लेषण प्रदान किया जाता है वही आकलन कहलाता है।

💫 आकलन में छात्रों को बिना ग्रेड या अंकित दिए बगैर प्रतिपुष्टि की जाती है ताकि अंतिम मूल्यांकन के पूर्व ही सुधार किया जा सके।

🎯 हूबा और फ्रीड के अनुसार ➖
आकलन सूचना संग्रहण तथा उस पर विचार विमर्श करने की प्रतिक्रिया है जिसे हम विभिन्न माध्यमों से प्राप्त करके यह समझ सकते हैं कि विद्यार्थी क्या जानता है क्या समझता है वह किस तरीके से समझता है अपने शैक्षिक अनुसंधान को परिणाम के रूप में व्यक्त कर सकते हैं जिसके द्वारा छात्र अधिगम में वृद्धि होती है।

🎯 इरविन के अनुसार ➖
आकलन छात्रों के अधिगम एवं स्वविकास का व्यवस्थित आधार का अनुमान है या किसी भी वस्तु को प्रभावित कर चयन रचना संग्रहण विश्लेषण व्याख्या सूचनाओं को उपर्युक्त प्रयोग का छात्र विकास तथा अधिगम को बनाने की प्रक्रिया है।

🌀 स्व-आकलन ➡️ सहपाठी आकलन

🌀 स्व-मूल्याकंन ➡️ सहपाठी मूल्यांकन

👉 रचनात्मक मूल्यांकन बड़े स्तर के लिए किया जाता है।

👉 रचनात्मक आकलन छोटे स्तर के लिए किया जाता है।

🎯 आकलन की आवश्यकता ➖
बच्चे का आकलन करना परिवार के लिए भी आवश्यक हो जाता है कि बच्चा किस प्रकार की प्रतिक्रिया तथा किस प्रकार की गतिविधियां या किस प्रकार की आदतों का निर्माण कर रहा है एवं किस दिशा में जा रहा है इसलिए आदि चीजों की जांच परिवार के द्वारा की जानी चाहिए।

🎯 विद्यार्थी के संदर्भ में आकलन➖
🌟 छात्र क्या जानते हैं ।

🌟छात्र की क्या रुचियां हैं ।

🌟विशिष्ट छात्र की क्या आवश्यकता है ।

🌟छात्र की योजना के अनुसार पाठ्यक्रम का चयन करने में भी आवश्यक होता है ।

🌟 छात्र का उचित स्थान किस जगह पर है।

🌟 कक्षा में छात्र का स्थान चयन करने में भी आवश्यक है।

🎯शिक्षक के संदर्भ में आकलन ➖
🌟 बच्चों की कौशल योग्यता क्षमता का पता लगाना।

🌟 शिक्षण विधि का चयन जिसमें बच्चे उस तत्व को जोड़ेंगे कैसे बच्चों की होती उस बिंदु के प्रति कैसे होगी

🌟 नई कक्षा में व्यवस्था में मदद के लिए बच्चे की आवश्यकता का पता लगा सकता है।

📝 Notes by ➖

✍️ Gudiya Chaudhary

🏹आकलन एवं मूल्यांकन🏹
⚖️(Assessment and Evaluation)⚖️

⚓आकलन जितना अच्छे से करेंगे मूल्यांकन उतना ही अच्छा होगा,
⚓आकलन ➡️डेटा संचरण करना
⚓मूल्यांकन➡️-उपलब्धि का मापन
⚓मूल्यांकन का संबंध आंकड़ों के विश्लेषण और व्याख्या से है (किस प्रकार की गलतियां हो रही हैं एवं उनको कैसे सुधारा सकते हैं)

🎯आकलन
आकलन का मतलब है➡️ सूचना को एकत्रित करने की प्रक्रिया।
🎯विद्यार्थी के संदर्भ में किसी विषय के बारे में विश्लेषण प्रदान किया जाता है, वही आकलन कहलाता है।

🎯आकलन में छात्रों को बिना ग्रेड या अंक दिए बगैर प्रतिपुष्टि आ जाता है ताकि अंतिम मूल्यांकन के पूर्व ही सुधार किया जा सके।

🌈हूबा और फ्रीड के अनुसार

🎯आकलन सूचना संग्रहण तथा उस पर विचार विमर्श करने की प्रक्रिया है जिन्हें हम विभिन्न माध्यमों से प्राप्त करके यह समझ सकते हैं कि विद्यार्थी क्या जानता है क्या समझता है वह किस तरीके से समझता है अपने शैक्षिक अनुसंधान को प्रणाम के रूप में व्यक्त कर सकते हैं जिसके द्वारा छात्र अधिगम में वृद्धि होती है।

🌈इरविन के अनुसार

🎯आकलन छात्रों के अधिगम एवं स्व विकास का व्यवस्थित आधार का अनुमान है या किसी भी वस्तु को प्रभावित कर चयन रचना संग्रहण विश्लेषण व्याख्या सूचनाओं को उपयुक्त प्रयोग का छात्र विकास तथा अधिगम को बनाने की प्रक्रिया है।

➡️स्व-आकलन; ➡️स्वा मूल्यांकन
👇👇। 👇👇
🏹सहपाठी आकलन। 🏹सहपाठी मूल्यांकन

👉रचनात्मक मूल्यांकन बड़े स्तर के लिए की जाती है;
👉रचनात्मक आकलन छोटे स्तर के लिए किया जाता है।

🏋️योगात्मक मूल्यांकन एवं योगात्मक आकलन🏋️

🎯आकलन की आवश्यकता÷

✨बच्चे का आकलन करना परिवार के लिए भी आवश्यक हो जाता है कि बच्चा किस प्रकार की क्रिया किस प्रकार की गतिविधियां वह किस प्रकार की आदतों का निर्माण हो रहा है एवं किस दिशा में हो रहा है इसलिए आदि चीजों जांच की जाती है।

✨विद्यार्थी 👉 विद्यार्थी के संदर्भ में आकलन
✨छात्र क्या जानते हैं;
✨छात्र की क्या रुचियां है
✨विशिष्ट छात्र की क्या आवश्यकता है
✨छात्र की योजना के अनुसार पाठ्यक्रम का चयन करने में भी आवश्यक होता है।
✨छात्र का उचित स्थान किस जगह पर है
✨कक्षा में छात्र का स्थान चयन करने में भी आवश्यक है।

🎯शिक्षक हेतु आकलन महत्वपूर्ण होने के निम्नलिखित कारण है÷
✨बच्चों की कौशल योग्यता क्षमता का पता लगाना।

✨शिक्षण विधि का चयन ( जिसमें बच्चे उस तत्व को जोड़ेंगे कैसे)।

✨नई कक्षा के व्यवस्था में मदद के लिए
बच्चे की आवश्यकता का पता लगा सकता है।

TAT➡️ Thematic Appreciation Test

💫Notes by ÷ $hikhar pandey 💫

🌺 आकलन और मूल्यांकन🌺
(Assessment 8A and ud evaluation)

🖊️ आकलन जितना अच्छी तरह से होगा मूल्यांकन उतना अच्छा होगा

🦚🌺 आकलन🌺🦚

आकलन का आशय है सूचनाओं को एकत्रित करने की प्रक्रिया।

🎯विद्यार्थियों के संदर्भ में किसी विषय के बारे में निर्णय प्रदान करना आकलन कहलाता है
🎯आकलन में छात्रों को बिना ग्रेट या अंक दिए अथवा ग्रीटिंग के फीडबैक दिया जाता है ताकि शैक्षिक उद्देश्यों की प्राप्ति में अंतिम मूल्यांकन के पूर्व सुधार संभव हो सके

🎯हुबा एवं फ्रीड के अनुसार🖊️

“आकलन सूचना -संग्रहण तथा उस पर विचार- विमर्श की प्रक्रिया है,जिन्हें हम विभिन्न माध्यमों से प्राप्त कर यह समझ सकते हैं कि विद्यार्थी क्या जानता है, समझता है,अपने शैक्षिक अनुभवों से प्राप्त ज्ञान को परिणाम के रूप में व्यक्त कर सकता है जिसके द्वारा छात्र अधिगम में वृद्धि होती है

🎯इरविन के अनुसार🖊️
“आकलन छात्रों के अधिगम एवं विकास का व्यवस्थित आधार का अनुमान है। यह किसी भी वस्तु को परिभाषित कर चयन, रचना, संग्रहण, विश्लेषण, व्याख्या तथा सूचनाओं का उपयुक्त प्रयोग कर छात्र विकास तथा अधिगम को बढ़ाने की प्रक्रिया है”।

🎯 स्व आकलन➖ सहपाठी आकलन
🎯 स्व मूल्यांकन➖ सहपाठी मूल्यांकन

👉🏼 रचनात्मक मूल्यांकन बड़े स्तर के लिए किया जाता है

👉🏼 रचनात्मक आकलन छोटे स्तर के लिए किया जाता है

🎯 आकलन की आवश्यकता➖
बच्चों का आकलन करना परिवार के लिए भी आवश्यक हो जाता है कि बच्चे किस प्रकार की प्रतिक्रिया तथा किस प्रकार की गतिविधियां या किस प्रकार की आदतों का निर्माण कर रहे हैं एवं किस दिशा में जा रहे हैं इसलिए यदि चीजों की जांच परिवार के द्वारा की जानी चाहिए

🎯 विद्यार्थी के संदर्भ में आकलन➖
💥 छात्र क्या जानता है।

💥 छात्र की रुचियां क्या है।

💥 विशिष्ट छात्र की क्या आवश्यकताएं हैं

💥 छात्र की योजना के अनुसार पाठ्यक्रम का चयन में भी आवश्यक होता है

💥 छात्र का उचित स्थान किस पर है

💥 कक्षा में छात्र का स्थान चयन करने में भी आवश्यक है

🎯 शिक्षक के संदर्भ में आकलन➖
💥 बच्चों की कौशल योग्यता क्षमता का पता लगाना।

💥 नई कक्षा में व्यवस्था में मदद के लिए बच्चों की आवश्यकता का पता लगा सकता है

🖊️🖊️📚📚 Notes by….. Sakshi Sharma📚📚🖊️🖊️

🌸 आकलन एवं मूल्यांकन 🌸

🌸( Assessment and Evaluation🌸)

💫 आकलन जितना अच्छे ढंग से करेंगे मूल्यांकन उतने ही अच्छे ढंग से होगा,

🌸 आकलन 👉डेटा संचरण करना
🌸 मूल्यांकन 👉 उपलब्धि का मापन करना
💫 मूल्यांकन का समर्थन छात्र की उपलब्धि से है
💫 आकलन का समर्थन आंकड़ों के विश्लेषण एवं व्याख्या से है
🔥 आकलन (Assessment)🔥
आकलन का तात्पर्य है- सूचनाओं को एकत्र करने की प्रक्रिया
🌼 विद्यार्थी के सन्दर्भ में किसी भी विषय के बारे में विश्लेषण प्र प्रधान किया जाता है वही आकलन है।
🌼 आकलन में छात्रों को बिना ग्रेड या अंक दिए feedback दिया जाता है, ताकि अंतिम मूल्यांकन के पूर्व ही सुधार कर लिया जाता है
🌺हुडा और फ्रीड के शब्दों में 👉 आकलन सूचना संग्रहण तथा उस पर विचार विमर्श की प्रक्रिया है जिन्हें हम विभिन्न माध्यमों से प्राप्त करके ये समझ सकते है कि विद्यार्थी करता जानता है,करता समझता है ,अपने शैक्षिक अनुभव से प्राप्त ज्ञान को परिणाम के रूप में प्रस्तुत कर सकता है जिसके द्वारा छात्र अधिगम में वृद्धि हो सके।
🌺 इरविन के अनुसार – आकलन छात्रों के अधिगम एवं विकास का व्यवस्थित आधार पर अनुमान है,यह किसी भी वस्तु को परिभाषित कर चयन, रचना ,संग्रहण , विश्लेषण, व्याख्या और सूचनाओं का उपयुक्त प्रयोग कर छात्र विकास तथा अधिगम को लड़ाने की प्रक्रिया है

💫 रचनात्मक मूल्यांकन बड़े स्तर के लिए की जाती है
💫 रचनात्मक आकलन छोटे स्तर के लिए प्रयोग किया जाता है
🌟 आकलन की आवश्यकता 🌟
बच्चों का आकलन करना परिवार के लिए भी आवश्यक हो जाता है कि बच्चा किस प्रकार की प्रतिक्रिया तथा किस प्रकार की गतिविधियां या किसी प्रकार की आदतों का निर्माण कर रहा है एवं किस दिशा में जा रहा है इसलिए इन सभी चीजों की जांच परिवार के द्वारा की जानी चाहिए।
🌺 विद्यार्थी के सन्दर्भ में आकलन 🌺
✨छात्र क्या जानता है
✨छात्र की रूचि करता है
✨ छात्र की विशिष्ट आवश्यकता करता है
✨ छात्र की योजना के अनुसार पाठ्यक्रम का चयन करने में भी आवश्यक होता है
✨ छात्र का उचित स्थान किस जगह पर है
✨कक्षा में छात्र का स्थान चयन करने में भी आवश्यक है
🌼 शिक्षक हेतु आकलन महत्त्वपूर्ण होने के कारण🌼
🌷 बच्चो की कौशल, योग्यता, क्षमता का पता लगाना
🌹शिक्षण विधियों का चयन करना
🌷 नई कक्षा की व्यवस्था में मदद के लिए बच्चों की आवश्यकता का पता लगाया जा सकता है

💥🔥Notes by ÷ Babita yadav 💥🔥

🔆 आकलन और मूल्यांकन (Assessment and Learning) ➖

आकलन मूल्यांकन का एक भाग है जिनका उद्देश्य बच्चे को आगे बढ़ाना और उनके हर पक्ष का निरीक्षण करना होता है |
आकलन ऐसा करना चाहिए कि मूल्यांकन में पहले ही सुधार हो जाए |
मूल्यांकन का संबंध छात्र की उपलब्धि से जबकि आकलन का संबंध आंकड़ों के विश्लेषण और व्याख्या से है |

🎯 आकलन (Assessment) ➖

आकलन का अर्थ सूचना को एकत्रित करने की प्रक्रिया है |

विद्यार्थियों के संदर्भ में किसी विषय के बारे में विश्लेषण प्रदान किया जाता है वही आकलन है |

इसमें बच्चों को बिना ग्रेड या बिना अंक प्रदान किए फीडबैक दिया जाता है ताकि अंतिम मूल्यांकन की पूर्व में ही सुधार कर लिया जाए |

आकलन के संबंध में विभिन्न मनोवैज्ञानिकों ने अपने-अपने प्रस्तुत किए➖

💫 हुबा और फ्रीड के अनुसार➖

” आकलन सूचना संग्रहण तथा उस पर विचार विमर्श की प्रक्रिया है जिन्हें हम विभिन्न माध्यमों से प्राप्त करके समझ सकते हैं कि विद्यार्थी क्या जानता है क्या समझता है अपने शैक्षिक अनुभव से प्राप्त ज्ञान को परिणाम के रूप में व्यक्त कर सकता है जिसके द्वारा छात्र अधिगम में वृद्धि होती है “|

💫 इरविन के अनुसार ➖

,”छात्रों के अधिगम एवं विकास पर व्यवस्थित आधार का अनुमान है यह किसी भी वस्तु को परिभाषित कर चयन, रचना, कहानी ,विश्लेषण, व्याख्या और सूचनाओं का उपयुक्त प्रयोग कर छात्र विकास द्वारा अधिगम को बढ़ाने की प्रक्रिया है ” |

🎯 आकलन की आवश्यकता➖

आकलन की आवश्यकता छात्र और शिक्षक दोनों के लिए उपयोगी है |
💫 विद्यार्थी के संदर्भ में➖
शिक्षक विद्यार्थी के संबंध में यह पता लगा सकता है कि छात्र क्या जानते हैं ,,छात्र की रूचि क्या है, उनकी विशिष्ट आवश्यकता क्या है क्या पाठ्यक्रम का चयन करने में, कक्षा में छात्र का स्थान चयन करने में आदि के संदर्भ में आकलन की आवश्यकता होती है |

🎯 शिक्षक के संदर्भ में ➖

इसके माध्यम से शिक्षक बच्चे की कौशल योग्यता, क्षमता, का पता लगाना शिक्षण विधि का चयन, नई कक्षा की व्यवस्था में मदद की आवश्यकता का पता लगा सकते हैं इस मूल्यांकन के कारण बच्चों की कमियों का पता लगाकर उसमें सुधार कर सकते है |

𝙉𝙤𝙩𝙚𝙨 𝙗𝙮➖ 𝙍𝙖𝙨𝙝𝙢𝙞 𝙎𝙖𝙫𝙡𝙚

🌼🍀🌺🌸🌼🍀🌺🌸🌼🍀🌺🌸🌻🌺🌸🌹

🌼🌼आकलन और मूल्यांकन 🌼🌼
🌼🌼assesment and evalution 🌼

🌼मूल्यांकन का संबंध– छात्र की उपलब्धि से है
🌼आकलन का संबंध –आंकड़ों के विश्लेषण/ व्याख्या सी है

🌼🌼आकलन (assesment)–
🌼आकलन का मतलब है– सूचना को एकत्रित करने की प्रक्रिया ।।
🌼🌼विद्यार्थी के संदर्भ में किसी भी विषय के बारे में विश्लेषण प्रदान करना वही आकलन है!!
🌼🌼आकलन में छात्रों को बिना ग्रेड/ अंक दिए बिना ही फीडबैक( feedback) दिया जाता है ताकि अंतिम मूल्यांकन के पूर्व सुधारा कर लिया जाए

🌼🌼 हुबाऔर फ्रेड के अनुसार🌼🌼 आकलन सूचना संग्रह तथा उस पर विचार विमर्श की प्रक्रिया है जिन्हें हम विभिन्न माध्यमों से प्राप्त कर यह समझ सकते हैं कि-
विद्यार्थी क्या जानता है ,क्या समझता है ,अपने शिक्षक अनुभव से प्राप्त ज्ञान को परिणाम के रूप में व्यक्त कर सकता है जिसके द्वारा छात्र अधिगम में वृद्धि होती है !!

🌼🌼🌼 इरविन (Erwin)– आकलन, छात्रों के अधिगम स्व विकास का व्यवस्थित आधार का अनुमान है यह किसी भी वस्तु को परिभाषित कर चयन ,रचना ,संग्रहण, विश्लेषण, व्याख्या और सूचनाओं का उपयुक्त प्रयोग कर छात्र विकास तथा अधिगम को बढ़ाने की प्रक्रिया है!!!

🌼🌼need of assesment (आकलन की आवश्यकता )🌼🌼

🌼🌼विद्यार्थी के संदर्भ में—-
🌼 छात्र क्या जानते हैं
🌼छात्र की रुचि क्या है
🌼छात्र की विशिष्ट आवश्यकता क्या है
🌼छात्र की योग्यता के अनुसार पाठ्यक्रम का चयन करने में
🌼कक्षा में छात्र का स्थान चयन करने में

🌼🌼 शिक्षक हेतु ——
🌼बच्चे की कौशल योग्यता क्षमता का पता लगाना
🌼 शिक्षण विधि का चयन
🌼 नई कक्षा की व्यवस्था में मदद
🌼बच्चों की आवश्यकता का पता लगाया जा सकता हैं!!!!

By manjari soni🌼🌼🌼

🌹🌹 *आकलन और मूल्यांकन* 🌹🌹
🌹 *Assessment & Evaluation 🌹*

आकलन :-
आकलन का संबंध आंकड़ों के विश्लेषण / व्याख्या से है।

मूल्यांकन :-
मूल्यांकन का संबंध छात्र की उपलब्धि से है।

🌺 *आकलन*

आकलन का महत्व है , सूचना को एकत्रित करने की प्रक्रिया ।
विद्यार्थी के संदर्भ में किसी भी विषय के बारे में जो विश्लेषण प्रदान किया जाता है ,वही आकलन है। आकलन में छात्रों को बिना ग्रेड या अंक दिए बिना ही Feedback दिया जाता है ताकि अंतिम मूल्यांकन के पूर्व ही सुधार कर लिया जाये।

*(Huba & freed) हुबा और फ्रीड के अनुसार :-*

आकलन सूचना संग्रहण तथा उस पर विचार विमर्श की प्रक्रिया हैं , जिन्हें हम विभिन्न माध्यमों से प्राप्त करके यह समझ सकते हैं कि विद्यार्थी क्या जानता है , समझता है , अपने शैक्षिक अनुभव से प्राप्त ज्ञान को परिणाम के रूप में व्यक्त कर सकता है जिसके द्वारा छात्र अधिगम में वृद्धि होती है।

*(Ervin) इरविन के अनुसार* :-

आकलन छात्रों के अधिगम एवं विकास का व्यवस्थित आधार का अनुमान है।
यह किसी भी वस्तु को परिभाषित कर चयन , रचना , संग्रहण , विश्लेषण , व्याख्या और सूचनाओं का उपयुक्त प्रयोग कर छात्र विकास तथा अध्ययन को बढ़ाने की प्रक्रिया है।

🌹 *आकलन की आवश्यकता* 🌹
🌹 *Need of Assessment* 🌹

आकलन की आवश्यकता निम्न प्रकारों से होती है :-

1. 🌲 *विद्यार्थी के संदर्भ में :* –

👉छात्र क्या जानते हैं।
अर्थात छात्र कितना जानते हैं , क्या जानते हैं, इसमे आकलन की आवश्यकता होती है।

👉छात्र की रुचि क्या है।
आकलन की आवश्यकता ये जानने में भी होती है कि छात्र की रुचि क्या है , किस चीज में है।

👉छात्र की विशिष्ट आवश्यकता क्या है।
आकलन की आवश्यकता ये जानने में भी होती है कि छात्र की विशिष्ट आवश्यकता क्या है, क्या छात्रों के शिक्षण के लिए आवश्यक है।

👉छात्र की योग्यता के अनुसार पाठ्यक्रम का चयन करेंगे।
आकलन की आवश्यकता इसमें भी होती है कि छात्र कितना जानता है, कितना ज्ञान है, अतः जिस आधार पर ही पाठ्यक्रम का चयन करेंगे।

👉कक्षा में छात्र का स्थान चयन करने में आवश्यकता।
छात्रों के आकलन से ही कक्षा में छात्रों का स्थान , शैशिक स्तर का चयन कर पाते हैं।

2. 🌲 *शिक्षक हेतु ( शिक्षक के संदर्भ में )*

👉बच्चों के कौशल , योग्यता , क्षमता का पता लगाना।
अर्थात शिक्षक हेतु आकलन की आवश्यकता उपर्युक्त योग्यताओं का पता लगाने में होती है।

👉शिक्षण विधि का चयन।
आकलन की आवश्यकता के आधार पर ही शिक्षक छात्रों के लिए विभिन्न शिक्षण विधियों का चयन कर पाते हैं।

👉नई कक्षा की व्यवस्था में मदद।
आकलन के आधार पर ही शिक्षक नयी कक्षाओं की व्यवस्था करने में मदद कर पाते हैं।

👉बच्चों की आवश्यकता का पता लग सकता है।
आकलन की आवश्यकता के आधार पर ही शिक्षक बच्चों की विभिन्न शैशिक आवश्यकताओं आदि का पता लगा सकते हैं।

🌹✒️✒️ *Notes by – जूही श्रीवास्तव ✒️✒️🌹*

आकलन और मूल्यांकन

Assessment and Evaluation

” आकलन ऐसा कर लो कि मूल्यांकन सही हो”

मूल्यांकन का संबंध है छात्र की उपलब्धि से है आकलन संबंध आंकड़ों के विश्लेषण/ व्याख्या से है

आकलन– इंप्रूवमेंट
मूल्यांकन –जज करना

” आकलन”
आकलन का अर्थ होता है सूचना को एकत्र करने की प्रक्रिया विद्यार्थी के संदर्भ में किसी भी विषय के बारे में विश्लेषण प्रदान किया जाता है वही आकलन है आकलन में छात्रों को बिना ग्रेड या अंक दिए फीडबैक दिया जाता है ताकि अंतिम मूल्यांकन के पूर्व ही सुधार कर लिया जाए

हुबा और फ्रीड (Huba and Fread) :- आकलन सूचना संग्रहण तथा उस पर विचार विमर्श की प्रक्रिया है जिन्हें हम विभिन्न माध्यमों से प्राप्त करके यह समझ सकते हैं कि विद्यार्थी क्या जानता है समझता है अपने शैक्षिक अनुभव से प्राप्त ज्ञान को परिणाम के रूप में व्यक्त कर सकता है जिसके द्वारा छात्र अधिगम में वृद्धि होती है

इरविन (Erwin ):- आकलन छात्रों की अधिगम एवं विकास का व्यवस्थित आधार का अनुमान है यह किसी भी वस्तु को परिभाषित कर चयन रचना संग्रह विश्लेषण व्याख्या और सूचनाओं का उपयुक्त प्रयोग करें छात्र विकास तथा अधिगम को बढ़ाने की प्रक्रिया है

स्व आकलन—– सहपाठी आकलन

स्व मूल्यांकन—– सहपाठी मूल्यांकन

रचनात्मक मूल्यांकन “बड़े स्तर “के लिए होता है
रचनात्मक आकलन “छोटे स्तर” के लिए होता है

आकलन की आवश्यकता
need of assessments

विद्यार्थी के संदर्भ में——-

छात्र क्या जानते हैं
छात्रों की रुचि क्या है
छात्र की विशिष्ट आवश्यकता क्या है
छात्र की योग्यता के अनुसार पाठ्यक्रम का चयन करना
कक्षा में छात्र का स्थान चयन करना

शिक्षक हेतु——-

बच्चे की कौशल योग्यता या क्षमता का पता लगाना

शिक्षण विधि का चयन करना
नई कक्षा की व्यवस्था में मदद
बच्चे की आवश्यकता का पता लगाना

🙏🙏🙏🙏sapna sahu 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

Assesment(आकलन )

अर्थ =🔅सूचना को एकत्रित करने की प्रक्रिया है
🔅विद्यार्थी के संदर्व मे किसी भी विषय के बारे मे विश्लेषण प्रदान किया जाता हैं, वही आकलन हैं।
🔅आकलन मे, छात्रों को बिना अंक या ग्रेड दिए बिना ही फीडबैक दिया जाता हैं,, ताकि अंतिम मूल्यांकन के पूर्व ही सुधार कर लिया जाये

🔴आकलन के संदर्व मे, अलग अलग शिक्षाविदो ने अपने अपने राय दिए। इनमे से कुछ इसतरह हैं –

🔸हुबा और फ्रीड (Huba and freed ) के अनुसार ➖

आकलन, सूचना संग्रहण तथा उसपर विचार विमर्श करने की प्रक्रिया हैं, जिन्हे हम विभिन्न माध्यमों से प्राप्त करके यह समझ सकते हैं कि विद्यार्थी क्या जानता है, समझता हैं । अपने शैक्षिक अनुभवों से प्राप्त ज्ञान को परिणाम के रूप में व्यक्त कर सकते हैं, जिसके द्वारा छात्र अधिगम में वृद्धि होती हैं।

🔹इरविन (Erwin) के अनुसार आकलन छात्रों के अधिगम एवं विकास का व्यवस्थित आधार का अनुमान है, किसी भी वस्तु को परिभाषित कर चयन, रचना , संग्रहण, विश्लेषण, व्याख्या और सूचनाओं का उपयुक्त प्रयोग कर छात्र विकास तथा अधिगम को बढ़ाने की प्रक्रिया है।

🛑आकलन रचनात्मक भी हो सकता है और योगात्मक भी भी हो सकता है।

🌿आकलन की
आवश्यकता :-
🌿आकलन की आवश्यकता निम्न संदर्भ में छात्रों के लिए होती है:-

✨ विद्यार्थी के संदर्भ में।
✨ छात्र क्या जानते हैं उसमें।
✨ छात्र की किस में रुचि है।
✨ छात्र को किन चीजों की विशिष्ट आवश्यकता है।
✨ छात्र की योग्यता के अनुसार पाठ्यक्रम का चयन करने में।
✨ कक्षा में, छात्रों का स्थान चयन करने में।

🛑 एक शिक्षक को, आकलन की आवश्यकता:-

🌻 बच्चे के कौशल योग्यता और क्षमता का पता लगाने के लिए।
🌻 शिक्षण विधि के चयन मे।
🌻 नई कक्षा की व्यवस्था में मदद।
🌻 छात्रों की आवश्यक सामग्रीता का पता लगाने के लिए।

♦️ Notes By आकांक्षा ♦️🙏🏻🤟🏻✌🏻👍🏻

🏹आकलन और मूल्यांकन🏹
(Assessment and evaluation)

🌾मूल्यांकन का संबंध छात्र की उपलब्धि से है

💫आकलन का संबंध आंकड़ों के विश्लेषण व्याख्या से है

🏹आकलन(assessment) :-

आकलन का संबंध मतलब सूचनाओं को एकत्रित करने की प्रक्रिया विद्यार्थी के संदर्भ में किसी भी विषय के बारे में विश्लेषण प्रदान किया जाता है वही आकलन है। आकलन में छात्राओं को बिना ग्रेड या अंक दिए फीडबैक दिया जाता है ताकि अंतिम मूल्यांकन के पूर्व ही सुधार कर लिया जाय।

🎯हुबा और फ्रीड (Huba&freed):-
आकलन सूचना संग्रह तथा उस पर विचार विमर्श की प्रक्रिया है जिन्हें हम विभिन्न माध्यम से प्राप्त करके यह समझ सकते हैं कि विद्यार्थी क्या जानता है क्या समझता है और अपने शैक्षिक अनुभव से प्राप्त ज्ञान को परिणाम के रूप में व्यक्त कर सकता है जिसके द्वारा छात्रा अधिगम में वृद्धि होती है।

🌈Erwin (इरविन) :-
आकलन छात्र के अधिगम एवं विकास का व्यवस्थित आधार का अनुमान है यह किसी भी वस्तु को परिभाषित कर चयन ,रचना, संग्रहण, विश्लेषण ,व्याख्या और सूचनाओं का उपयुक्त प्रयोग कर छात्र विकास तथा अधिगम को बढ़ाने की प्रक्रिया है।

💫आकलन की आवश्यकता (need of assessment):–

आकलन की आवश्यकता विद्यार्थी के संदर्भ में……..

👉छात्र क्या जानते हैं ।
👉छात्र की रूचि क्या है ।
👉छात्र की विशिष्ट आवश्यकता क्या है।
👉 छात्र योग्यता के अनुसार पाठ्यक्रम का चयन करने में।
👉 कक्षा में छात्र का स्थान चयन करने में।

🎯आकलन की आवश्यकता शिक्षक के संदर्भ में :-

💫बच्चे की कौशल योग्यता क्षमता का पता लगाना ।
👉शिक्षण विधि का चयन ।
👉नई कक्षा के व्यवस्था में मदद।
💫बच्चे की आवश्यकता का पता लग सकता है।
🌻💐🌾🌹🙏Notes by-SRIRAM PANJIYARA 🌈🌸💥🌺🙏

🚥आकलन और मूल्यांकन🚥

😎मूल्यांकन का संबंध छात्र की उपलब्धि से है

😎आकलन का संबंध छात्र के विश्लेषण व्याख्या से है
👉 आकलन :—आकलन का मतलब सूचना को एकत्रित करने की प्रक्रिया

विद्यार्थी के संदर्भ में किसी भी विषय के बारे में विश्लेषण प्रदान किया जाता है वही आकलन है

🧐 आकलन में छात्रों को बिना ग्रेड या अंक दिए फीडबैक दिया जाता है ताकि अंतिम मूल्यांकन के पूर्व भी सुधार कर लिया जाए

🤓हुवा एंड फ्रीड :—आकलन सूचना संग्रहण करते हैं तथा उस पर विचार विमर्श की प्रक्रिया है जिन्हें हम विभिन्न माध्यमों से प्राप्त कर के यह समझ सकते हैं कि विद्यार्थी क्या जानते हैं, समझते हैं ,अपने शैक्षिक अनुभवों से प्राप्त ज्ञान को परिणाम के रूप में व्यक्त कर सकता है जिसके द्वारा छात्र अधिगम में वृद्धि होती है

👨‍🦱इरविन:— आकलन छात्रों के अधिगम एवं विकास का व्यवस्थित आधार का अनुमान है यह किसी वस्तु को परिभाषित कर चयन ,रचना, संग्रहण, विश्लेषण ,व्याख्या और सूचनाओं को उपयुक्त प्रयोग कर छात्र विकास तथा अधिगम को बढ़ाने की प्रक्रिया है

🚥आकलन की जरूरत

🌻विद्यार्थी के संदर्भ में :—

👉छात्र क्या जानते हैं
👉छात्र की क्या रूचि है
👉 छात्र की विशिष्ट आवश्यकता क्या है
👉छात्र की योग्यता के अनुसार पाठ्यक्रम का चयन करने में
👉कक्षा में छात्र का स्थान चयन करने में

2️⃣शिक्षक हेतु

👉बच्चे की कौशल योग्यता क्षमता का पता लगाना
👉शिक्षण विधि का चयन
👉नई कक्षा के व्यवस्था में मदद
👉बच्चे की आवश्यकता को पता लगा सकते हैं

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

Notes by:—sangita bharti📝

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.