Date ➖ 16/06/2021
Time- 8.00 am

⚫ व्यक्तित्व की विशेषताएं

  1. सामाजिकता➖ समाज में रहकर व्यक्ति समाज से अंत: क्रिया द्वारा व्यक्ति मे सामाजिक विकास होता है। समग्र व्यक्तित्व का विकास समाज में रहकर ही भली भांति होता है, सामाजिकता व्यक्तित्व की प्रमुख विशेषता है।
  2. लक्ष्य प्राप्ति की ओर अग्रसर होना➖ प्रत्येक व्यक्ति का एक उद्देश होता है उसका उद्देश्य क्या होता है, कैसे प्राप्त करता है, इन सब को देखकर व्यक्ति का अंदाजा लगाया जा सकता है।
  3. आत्म चेतना ➖आत्म चेतना का तात्पर्य है स्वयं के संबंध में सचेत रहना। आत्म चेतना के कारण व्यक्ति इस बात पर विशेष ध्यान देता है कि अन्य व्यक्ति उसे किस नजर से देखते हैं।
    लोग यह समझ पाते हैं कि किस वजह से अन्य लोग उनकी प्रशंसा करते हैं या निंदा करते हैं ,बालक या पशु में इसका अभाव होता है।
  4. परिवेश के साथ समायोजन➖ परिवेश के अनुसार ढालना और परिवेश को अपना अनुकूल बनाना।
    समायोजन के कारण ही व्यक्ति अपने व्यवहार में परिवर्तन लाता है।
    किसी के व्यवहार को देखकर यह अनुमान लगाया जा सकता है कि उन्होंने परिवेश और परिस्थिति के साथ कैसा समायोजन किया है।
  5. दैहिक और मानसिक स्वास्थ्य➖ मानव मनोदैहिक जीव है ,मन + शरीर व्यक्ति का शारीरिक स्वास्थ्य भी अच्छा हो व्यक्ति का मानसिक स्वास्थ्य भी अच्छा हो।
  6. अनवरत विकास➖ व्यक्तित्व की एक प्रधान विशेषता है कि व्यक्ति के विकास में कभी भी व्यवधान नहीं पड़ता है ।
    जन्म से मृत्यु तक जारी रहता है।
  7. अथाह उत्साह➖ जीवन में कठिन से कठिन संघर्ष में भी उत्साह से युक्त व्यक्ति कभी घबराता नहीं है, विपरीत से विपरीत परिस्थिति में भी उत्साहित व्यक्ति सफलता प्राप्त करता है।
  8. एकता➖ दैहिक, बौद्धिक, नैतिक, सामाजिक , संवेग
    व्यक्ति इन सभी तथ्यों के इकाई के रूप में कार्य करता है।

🐢🐢 व्यक्तित्व का वर्गीकरण

शारीरिक रचना के आधार पर वर्गीकरण
क्रेश्मर/ क्रेचमर का वर्गीकरण ➖

  1. लंब काय➖ लंबे दुबले पतले
    यह व्यक्ति अलग अलग रहना पसंद करते हैं ।
    दूसरों की आलोचना में आनंद लेते हैं लेकिन अपने आलोचना सहन नहीं कर पाते।
  2. सुडोल काय➖ सामान्य कद
    स्वस्थ और पुष्टकाय व्यक्ति व्यक्तित्व सामान्य रहता है
    इनमें सामंजस की क्षमता अधिक होती है।
  3. गोल काय ➖छोटा कद स्वस्थ व्यक्ति आरामतलबी, विनोही स्वभाव।
  4. मिश्रित काय➖ तीनों वर्गीकरण का मिश्रित रूप है।

🐢🐢 स्वभाव के आधार पर वर्गीकरण

गलौन अपने व्यक्तित्व को स्वभाव के आधार पर चार प्रकार बताएं➖
1: उग्र स्वभाव➖ भ शक्तिशाली, उग्र स्वभाव
ऐसे व्यक्ति को क्रोध बहुत शीघ्र जाता है

  1. चिंता ग्रस्त ➖चिंतित रहते हैं उदास दुखी दब्बू निराशावादी
  2. नीरूत्साहि ➖ उत्साह हीन शांतिप्रिय, आलसी
  3. उत्साही ➖ उत्साही से पूर्ण, व्यक्तित्व ,आशावादी, क्रियाशील

Notes by ➖ निधि तिवारी🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿

(3) आत्म चेतना ➖

आत्म चेतना से तात्पर्य है स्वयं के संबंध में सचेत रहना आत्म चेतना के कारण व्यक्ति इस बात पर विशेष ध्यान देता है कि अन्य व्यक्ति उसे किस नजर से देखते हैं |
लोग यह समझ पाते हैं कि किस वजह से अन्य लोगों की प्रशंसा करते हैं यह निंदा करते हैं बालक या पशु में इसका अभाव रहता है |

(4) परिवेश के साथ समायोजन ➖

परिवेश के अनुसार ढलना और परिवेश को अपने अनुकूल बनाना समायोजन के कारण ही व्यक्ति अपने व्यवहार में परिवर्तन लाता है |
किसी के व्यवहार को देखकर यह अनुमान लगाया जा सकता है कि उन्होंने परिवेश और परिस्थिति के साथ कैसा समायोजन किया है |

(5) दैहिक और मानसिक स्वास्थ्य ➖

मानव मनोदैहिक जीव है मन और शरीर व्यक्ति का शारीरिक स्वास्थ्य भी अच्छा वह व्यक्ति का मानसिक स्वास्थ्य अच्छा होना चाहिए |

(6) अनवरत विकास ➖ व्यक्तित्व की एक प्रधान विशेषता है कि व्यक्ति के विकास में कमी भी व्यवधान नहीं पड़ता जन्म से मृत्यु तक जारी रहता है |

(7) अथाह उत्साह ➖

जीवन के कठिन से कठिन संघर्ष में उत्साह से युक्त व्यक्ति कभी घबराता नहीं है |
विपरीत से विपरीत परिस्थिति में उत्साह ही व्यक्ति सफलता प्राप्त करता है |

(8) एकता ➖

व्यक्ति इन सभी तथ्यों के इकाई के रूप में कार्य करता है |

व्यक्तित्व – दैहिक बौद्धिक नैतिक सामाजिक संवेग

व्यक्तित्व का वर्गीकरण ➖

शारीरिक रचना के आधार पर वर्गीकरण क्रेश्मर (क्रेचमर) का वर्गीकरण ➖

(1) लंबकाय –
लंबे दुबले पतले
यह व्यक्ति अलग रहना पसंद करते हैं दूसरे दूसरों की आलोचना में आनंद लेते हैं लेकिन अपनी आलोचना सहन नहीं कर सकते |

(2) सुडौलकाय –
सामान्य कद
स्वास्थ्य और पुष्टकाय व्यक्ति
व्यक्तित्व सामान्य रहता है |
इसमें सामंजस्य की क्षमता अधिक होती है |

(3) गोलकाय –
छोटा कद स्वस्थ्य
व्यक्ति आरामतलबी विनोही स्वभाव

(4) मिश्रितकाय – तीनो वर्गीकरण का मिश्रित रूप है |

स्वभाव के आधार पर वर्गीकरण ➖

गलैन ने व्यक्तित्व को स्वभाव के आधार पर चार प्रकार में बांटा गया है
(1) उग्र स्वभावी — शक्तिशाली उग्र स्वभाव ऐसे व्यक्ति को क्रोध बहुत शीघ्र आता है
(2) चिंता ग्रस्त — जो लोग चिंतित रहते हैं उदास दब्बु निराशावादी
(3) निरूत्साही — उत्साह हीन शांतिप्रिय आलसी
(4) उत्साही — उत्साह से परिपूर्ण व्यक्तित्व आशावादी क्रियाशील

Notes by ➖ Ranjana Sen

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.