🔆 अधिगम सिद्धांत ( Learning theory) 🔆
1. प्रयत्न और भूल का सिद्धांत का सिद्धांत ➖ थार्नडाईक (अमेरिका)
अन्य नाम से भी जानते हैं :-
उद्दीपन अनुक्रिया का सिद्धांत (S-R theory)
अधिगम का बंध सिद्धांत ( एस आर थ्योरी )
संबंध बाद या व्यवहार बांध से संबंधित है |
थार्नडाईक ने बिल्ली पर प्रयोग किया है |
यह सिद्धांत अभ्यास द्वारा सीखने पर बल देता है यह गणित और विज्ञान के लिए ज्यादा उपयोगी है इसमें त्रुटियों का निराकरण पर बल दिया जाता है |
2. अनुकूलित अनुक्रिया का सिद्धांत ( Classical conditioning theory) ➖
प्रवर्तक – पावलव (रूस)
शास्त्रीय अनुबंधन का सिद्धांत
प्राचीन अनुबंधन का सिद्धांत
संबंध प्रतिक्रिया का सिद्धांत
प्रयोग :- कुत्ता पर
यह सिद्धांत कहता है आदतो का निर्माण कृत्रिम उद्दीपक से संबंध प्रतिक्रिया द्वारा होता है इसी सिद्धांत के संबंध प्रतिवर्त सहज विधि का जन्म हुआ है
यह सिद्धांत भाषा विकास मनोवृति का निर्माण बुरी आदत से छुटकारा सुलेख अक्षर विन्यास जैसे विषय में उपयोगी है |
3. अंतर्दृष्टि का सिद्धांत / सूझ का सिद्धांत (Insight theory)➖
अन्य नाम :-
गेस्टाल्ट सिद्धांत
संबंधवाद व्यवहारवाद
प्रवर्तक कोहलर कोफ्का वर्दीमर
वनमानुष सुल्तान चिंपांजी पर प्रयोग
यह सिद्धांत स्वयं समस्या का हल खोजने के लिए प्रेरित करता है |
4. क्रिया प्रसूत अनुबंधन /सक्रिय अनुबंध का सिद्धांत / नैमित्तिक अनुबंधन थ्योरी ➖
यह संबंधवादी या व्यवहारवादी से संबधित है
प्रवर्तक बी एफ स्किनर
प्रयोग :- कबूतर और चूहा पर
यह सिद्धांत कहता है कि किसी को पुनर्बलन देखकर अच्छे कार्य के लिए प्रेरित किया जा सकता है यहां सही कार्य के लिए सकारात्मक और गलत कार्य के लिए नकारात्मक पुनर्बलन दिए जाने की बात कही गई है |
पुनर्बलन का मतलब है प्रेरक |
यह पुरस्कार भी हो सकता है और दंड भी |
5. प्रबलन का सिद्धांत (Reinforcement) ➖ पुनर्बलन
प्रवर्तक सी . एल . हल
न्यूनतम आवश्यकता का सिद्धांत ( Principal of mine requirement)
विधिक सिद्धांत (Legal principal theory)
ये संबंधबाद व्यवहारवाद से संबंधित है प्रयोग :- चूहों पर
इस सिद्धांत में व्यक्तिगत शिक्षा पर बल दिया जाता है यह सिद्धांत कहता है कि शिक्षक को विषय वस्तु तथा अधिगम को दोहराने पर बल देना चाहिए से बालक की आदत को बेहतर बनाया जा सकता है |
6. अनुकरण द्वारा अधिगम (Learning of simulation) ➖
प्रवर्तक मनोवैज्ञानिक – हैगार्ट
अधिगम की प्रक्रिया अनुकरण द्वारा पूर्ण की जा सकती है बच्चा जैसा देखता है वैसा करने का प्रयास करता है |
7. क्षेत्रीय सिद्धांत (Field theory) तलरूप सिद्धांत (Topology theory) अधिगम का प्राकृतिक दशा का सिद्धांत (Natural conditioning theory of learning)
प्रवर्तक :- कर्ट लेविन (Kurt Levin)
शिक्षक द्वारा आदि विद्यार्थियों को उनकी योग्यता और शक्ति के अनुसार उपयुक्त मनोवैज्ञानिक वातावरण उपलब्ध कराना चाहिए साथ ही प्राप्त उद्देश्यों को प्रभावी तरीके से निर्देशित किया जाना चाहिए इस सिद्धांत के तहत व्यवहार पर जोर देते हुए अभिप्रेरणा पर जोर दिया जाता है |
8. समीपता का सिद्धांत (Principal of proximity)
स्थानापन्न का सिद्धांत
प्रतिस्थापन का सिद्धांत
( Principal of substitution / Replacement) ➖
प्रवर्तक :- एडविन गुथरी (Edwin Guthrie)
यह सिद्धांत कहता है कि उत्तेजना और अनुक्रिया के बीच अधिकतम साहचर्य स्थापित करना चाहिए ताकि अधिगम की प्रक्रिया को प्रभावशाली बनाया जा सके |
9. अव्यक्त अधिगम का सिद्धांन्त ( Latent learning theory) /
चिन्ह आकार अधिगम का सिद्धान्त(Symbol size theory) /
चिन्ह पूर्णाकार वाद संभावना सिद्धांत (Symbol round possibility theory) ➖
प्रवर्तक – एडवर्ड टाॅलमैन ( Edward tolmen)
प्रतीक अधिगम –
अप्रकट अधिगम –
यह सिद्धांत कहता है कि सीखना संज्ञानात्मक मानचित्र बनाना है अध्यापक को चाहिए कि शैक्षिक उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए इनाम और दंड का प्रयोग करें |

Notes by ➖Ranjana Sen

🌟 *अधिगम सिद्धांत (Learning theory’s)* 🌟

अधिगम सिद्धांत को कई मनोवैज्ञानिकों के द्वारा दिया गया है,जो जो निम्न है-

💫 *१. प्रयत्न और भूल का सिद्धांत:-*
यह सिद्धांत अमेरिकी मनोवैज्ञानिक थोर्नडाइक के द्वारा दिया गया है।
प्रयत्न और भूल के सिद्धांत को कई नामों से जाना जाता है जो इस प्रकार हैं–

✨ *उद्दीपन अनुक्रिया सिद्धांत (S.R. Theory’s)*

✨ *अधिगम का बंध सिद्धांत*

👉🏻 थार्नडाइक संबंधवाद और व्यवहारवाद दोनों के अंतर्गत आते हैं।

👉🏻 इन्होंने ने अपना प्रयोग – “भूखी बिल्ली (🐈)”पर किया था।

✨ थार्नडाइक द्वारा यह सिद्धांत अभ्यास द्वारा सीखने पर बल देता है। और यह घड़ी और विज्ञान में ज्यादा उपयोगी है। इस सिद्धांत में कृतियों का निराकरण हो इस पर बल दिया जाता है।

💫 *२. अनुकूलित अनुक्रिया का सिद्धांत:-*

✨ अनुकूलित अनुक्रिया के जनक रूसी वैज्ञानिक “I.P. पावलाव” है।

✨ *शास्त्रीय अनुबंध का सिद्धांत (Classical conditional theory)*

✨ *प्राचीन अनुबंधन का सिद्धांत*

✨ *संबद्ध प्रतिक्रिया का सिद्धांत (Theory of relative response)*

👉🏻 *प्रयोग – कुत्ते (🐕) पर*

✨ यह सिद्धांत कहता है ,कि आदतों का निर्माण “कृत्रिम उद्दीपक” से संबद्ध प्रतिक्रिया द्वारा होता है।
इस सिद्धांत से संबद्ध प्रतिवर्ष (सहज) विधि का जन्म हुआ। यह सिद्धांत भाषा विकास, मनोवृति का निर्माण, बुरी आदत से छुटकारा, सुलेख, अक्षर विन्यास जैसे विषय में उपयोगी है।

💫 *३. अंतर्दृष्टि का सिद्धांत/सूझ का सिद्धांत (Insight theory)*

यह सिद्धांत गेस्टाल्ट/ गेस्टालट्वाद , संबंधवाद, व्यवहारवाद से जुड़ा हुआ है।

👉🏻 इस सिद्धांत में “कोहलर, कोफका और वर्दीइमर” का नाम आता है।

👉🏻 *प्रयोग – वनमानुष (सुल्तान नामक चिंपैंजी) 🦍 पर किया था।*

✨ यह सिद्धांत स्वयं समस्या का हल खोजने के लिए प्रेरित करता है।

💫 *क्रिया प्रसूत अनुबंधन का सिद्धांत:-*

✨ *सक्रिय अनुबंधन का सिद्धांत (Operent conditioning theory)*

✨ *नैमित्तिक/अनुबंध थ्योरी (Causal contact)*

👉🏻 यह सिद्धांत “B.F. स्किन” द्वारा दिया गया है। यह संबंधवाद और व्यवहारवाद दोनों के अंतर्गत आते हैं।

👉🏻 *प्रयोग–चूहा (🐁) और कबूतर (🕊️)*

✨ यह सिद्धांत कहता है, कि किसी को पुनर्बलन देकर अच्छे कार्य के लिए प्रेत किया जा सकता है। इसमें सही कार्य के लिए सकारात्मक और गलत कार्य के लिए नकारात्मक पुनर्बलन दिए जाने के बाद कहीं गई है।

👉🏻 पुनर्बलन (Reinforcement) का मतलब है “प्रेरक”।

👉🏻 यह पुरस्कार भी हो सकता है और दंड भी हो सकता है।

💫 *५. प्रबलन का सिद्धांत (Reinforcement):-*

👉🏻 प्रबलन का सिद्धांत “C.L Hull” के द्वारा दिया गया है।
यह व्यवहारवादी और संबंधवादी दोनों के अंतर्गत आते हैं।

✨ *न्यूनतम आवश्यकता का सिद्धांत (Principle of minimum requirement)*

👉🏻 *विधिक सिद्धांत (Legal principle theory)*

👉🏻 *प्रयोग–चूहा (🐁)*

✨ इस सिद्धांत में “व्यक्तिगत शिक्षा”पर बल दिया जाता है।

✨ यह सिद्धांत कहता है ,कि शिक्षक को विषय वस्तु तथा अधिगम को दोहराने पर बल देना चाहिए। इससे बालक के आदत को बेहतर बनाया जा सकता है।

💫 *६. अनुकरण द्वारा अधिगम/अनुकरण का सिद्धांत (Learning by simulation):-*

👉🏻 यह सिद्धांत मनोवैज्ञानिक “हैगार्ट”के द्वारा दिया गया है।

✨ इस सिद्धांत में अधिगम की प्रक्रिया “अनुकरण द्वारा”ही पूर्ण की जा सकती है। बच्चा जैसा देखता है वैसा करने का प्रयास करता है।

💫 *७. क्षेत्रीय सिद्धांत (Field theory):-*

✨ *तल रूप सिद्धांत (Topology theory)*

✨ *अधिगम का प्राकृतिक दशा का सिद्धार्थ (Natural conditioning theory of learning)*

👉🏻 यह सिद्धांत “कर्ट लेविन (Kurt levin)”के द्वारा दिया गया है।

✨ यह सिद्धांत शिक्षक द्वारा विद्यार्थियों की उनकी योग्यता और शक्ति के अनुसार उपयुक्त मनोवैज्ञानिक वातावरण उपलब्ध कराना चाहिए, साथ ही साथ प्राप्त उद्देश्य को प्रभावी तरीके से निर्देशित किया जाना चाहिए।

✨ इस सिद्धांत के तहत व्यवहार पर जोर देते हुए“अभिप्रेरणा”पर जोर दिया जाता है।

💫 *८. समीपता का सिद्धांत (Principle of proximity):-*
✨ *स्थापना का सिद्धांत*

✨ *समिपय का सिद्धांत*

✨ *प्रतिस्थापना का सिद्धांत (principle of substitution replacement)*

👉🏻 यह सिद्धांत “एडविन गुथरी(Edwin Guthrie) के द्वारा दिया गया है।

✨ यह सिद्धांत कहता है, की “उत्तेजना”और “अनुक्रिया”के बीच अधिकतम साहचर्य स्थापित करना चाहिए, ताकि अधिगम की प्रक्रिया को और प्रभावशाली बनाया जा सके।

💫 *९.अव्यक्त अधिगम का सिद्धांत (Lalent learning theory):-*

✨ *चिन्ह आकार अधिगम सिद्धांत (Symbol size theory)*

✨ *चिन्ह पूर्णाकावाद सिद्धांत ( Symbol round possibility theory)*

✨ *अप्रकटअधिगम (अव्यक्त)*

👉🏻 यह सिद्धांत “एडवर्ड टोलमान (Edward Tollman)”के द्वारा दिया गया है।

✨ यह सिद्धांत कहता है, कि सीखना “संज्ञानात्मक मानचित्र”बनाता है।

👉🏻 अध्यापक के शैक्षिक उद्देश्य– अध्यापक को चाहिए कि शैक्षिक उद्देश्य प्राप्त करने के लिए, इनाम और दंड का प्रयोग करें।

✍🏻✍🏻✍🏻 *Notes by – Pooja* ✍🏻✍🏻✍🏻

🌼🌼अधिगम सिद्धांत(learning theories)🌼🌼

🌼🌼1. प्रयत्न और भूल का सिद्धांत–
🌼 प्रवर्तक- थार्नडाइक (अमेरिका )
🌼अधिगम का सिद्धांत
🌼 एस .आर . थ्योरी
🌼 उद्दीपन अनुक्रिया सिद्धांत
🌼संबंधबाद
🌼व्यवहारवाद
🌼प्रयोग- बिल्ली पर प्रयोग
🌼🌼यह सिद्धांत अभ्यास के द्वारा सीखने पर बल देता है चर गणित और विज्ञान के लिए ज्यादा उपयोगी है इसमें त्रुटियों का निराकरण पर बल दिया जाता है

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

🌼🌼2.अनुकूलित अनुक्रिया का सिद्धांत-
🌼 classical conditional theory
🌼शास्त्रीय अनुबंधन का सिद्धांत
🌼प्राचीन अनुबंधन का सिद्धांत
🌼संबंधित प्रतिक्रिया का सिद्धांत
🌼 प्रवर्तक- पावलव (रूस)
🌼 प्रयोग-कुत्ता पर
🌼🌼यह सिद्धांत कहता है कि आदतों का निर्माण क्रतिम् उद्दीपक से संबंध में प्रतिक्रिया द्वारा होता है इसी सिद्धांत से संबंध प्रतिवर्ष (सहज )विधि का जन्म हुआ यह सिद्धांत भाषा विकास, मनोवृति का निर्माण बुरी आदत से छुटकारा सुलेख ,अक्षर ,विन्यास जैसे विषय में उपयोगी है

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

🌼🌼3.अंतर्दृष्टि का सिद्धांत-
🌼 सूझ का सिद्धांत
🌼 insight theory
🌼गेस्टाल्ट सिद्धांत
🌼संबंधबाद
🌼व्यवहारवाद
🌼प्रवर्तक- कोहलर ,कोफका, वर्दिमर वनमानुष
🌼 प्रयोग-सुल्तान चिंपैंजी पर प्रयोग
🌼🌼यह सिद्धांत स्वयं समस्या का हल खोजने के लिए प्रेरित करता है

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

🌼🌼4.क्रिया प्रसूत अनुबंधन का सिद्धांत
🌼 सक्रिय अनुबंधन का सिद्धांत
🌼नैमित्तिक अनुबंधन थ्योरी
🌼 संबंधवादी
🌼व्यवहारवादी
🌼 प्रवर्तक- बीएफ स्किनर
🌼 प्रयोग- कबूतर और चूहा पर प्रयोग
🌼🌼यह सिद्धांत कहता है कि किसी को पुनर्बलन देकर अच्छे कार्य के लिए प्रेरित किया जा सकता है यह सही कार्य के लिए सकारात्मक और गलत कार्य के लिए नकारात्मक पुनर्बलन दिए जाने की बात कही गई है पुनर्बलन का मतलब होता है यह पुरस्कार भी हो सकता है और दंड भी।।

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

🌼🌼5.प्रबलन का सिद्धांत( पुनर्बलन)
🌼 प्रवर्तक- C. L. Hull
🌼विधि का सिद्धांत (legal principal theory)
🌼न्यूनतम आवश्यकता का सिद्धांत
🌼 प्रयोग- चूहा
🌼 इस सिद्धांत में व्यक्तिगत शिक्षा पर बल दिया जाता है सिद्धांत कहता है कि शिक्षक को विषय वस्तु तथा अधिगम को दोहराने पर बल देना चाहिए इससे बालक की आदत को बेहतर बनाया जा सकता है
🌼 संबंधबाद
🌼व्यवहारवाद

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

🌼🌼6.अनुकरण द्वारा अधिगम
🌼learning of stimulation
🌼 अनुकरण का सिद्धांत
🌼 प्रवर्तक-मनोवैज्ञानिक हैगार्ट
🌼अधिगम की प्रक्रिया अनुकरण द्वारा पूर्ण की जा सकती है बच्चा जैसा देखता है वैसा करने का प्रयास करता है

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

🌼🌼7.क्षेत्रीय सिद्धांत ( field theory)
🌼 तलरूप सिद्धांत (topology theory)
🌼अधिगम का प्राकृतिक दशा का सिद्धांत
🌼 प्रवर्तक- kurt levin ( कर्ट लेविन)
🌼🌼शिक्षक द्वारा विद्यार्थी को उनकी योग्यता और शक्ति के अनुसार उपयुक्त मनोवैज्ञानिक वातावरण उपलब्ध कराना चाहिए साथ ही प्राप्त उद्देश्यों को प्रभावी तरीके से निर्देशित किया जाना चाहिए इस सिद्धांत के तहत व्यवहार पर जोर देते हुए अभिप्रेरणा पर जोर दिया जाता है

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

🌼🌼8. समीपता का सिद्धांत
🌼principle of proximity)
🌼स्थानापन्न का सिद्धांत
🌼प्रतिस्थापन का सिद्धांत
🌼 प्रवर्तक- एडविन गुथरी
🌼 यह सिद्धांत कहता है कि उत्तेजना और अनुक्रिया के बीच अधिगम साहचर्य स्थापित करना चाहिए ताकि अधिगम की प्रक्रिया को और प्रभावशाली बनाया जा सके

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

🌼 🌼9. अव्यक्त अधिगम का सिद्धांत
🌼 latent learning theory
🌼 चिन्ह आकार अधिगम
🌼 चिन्ह पूर्णकार वाद संभावना सिद्धांत
🌼 प्रतीक अधिगम
🌼 अप्रकट अधिगम
🌼🌼 यह सिद्धांत कहता है कि सीखना ज्ञानात्मक मानचित्र बनाना है अध्यापक को चाहिए कि शैक्षिक उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए इनाम और दंड का ही प्रयोग करें

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

By manjari soni🌼🌼🌼

🔆 अधिगम के सिद्धांत➖

🎯 प्रयत्न और त्रुटि का सिद्धांत➖

इस सिद्धांत को

1) उद्दीपन अनुक्रिया का सिद्धांत(S-R THEORY )

2)अधिगम का बंध सिद्धांत

3) यह सिद्धांत संबंध बाद एवं व्यवहार बाद से संबंधित है |

इस सिद्धांत का प्रतिपादन थार्नडाइक ने किया था |

इन्होंने बिल्ली पर प्रयोग किया था | इस सिद्धांत के अनुसार अभ्यास द्वारा सीखने पर बल दिया जाता है यह गणित और विज्ञान के लिए ज्यादा उपयोगी इसलिए इसमें त्रुटियों के निराकरण पर बल दिया जाता है |

🎯 अनुकूलित अनुक्रिया का सिद्धांत( Conditioning thepry) ➖

इस सिद्धांत को

1) शास्त्रीय अनुबंधन सिद्धांत,

2) प्राचीन अनुबंधन का सिद्धांत

3) संबध प्रतिक्रिया का सिद्धांत (Theory off relative response)

आदि नामों से जाना जाता है

इस सिद्धांत के प्रतिपादक पावलव है और इसका प्रयोग कुत्ते पर किया गया था |

यह सिद्धांत कहता है कि आदतों का निर्माण कृत्रिम उद्दीपक से संबंधित प्रतिक्रिया द्वारा होता है |

इस सिद्धांत से संबंध प्रतिवर्त (सहज )विधि का जन्म हुआ है |

यह सिद्धांत भाषा विकास, मनोवृति का निर्माण, बुरी आदत से छुटकारा, सुलेख, अक्षर विन्यास, जैसे विषयों का में उपयोगी है |

🎯 अंतर्दृष्टि का सिद्धांत या सूझ का सिद्धांत ( Insight theory)➖

इस सिद्धांत को गेस्टाल्ट सिद्धांत के नाम से भी जाना जाता है |

यह सिद्धांत भी संबंध बाद एवं व्यवहार बाद से जुड़ा हुआ है |

इस के प्रतिपादक कोहलर, कोफ्का और वर्दाइमर को माना जाता है |

इन्होंने वनमानुष सुल्तान चिंपैंजी पर प्रयोग किया था यह सिद्धांत स्वयं समस्या का हल खोजने के लिए प्रेरित करता है |

🎯 क्रिया प्रसूत अनुबंध का सिद्धांत➖

इस सिद्धांत को

1) सक्रिय अनुबंध का सिद्धांत

2) ऑपरेटर कंडीशनिंग थ्योरी
(Operant conditong theory)

3) नैमित्तिक अनुबं थ्योरी (Casual contract)

आदि नामों से जाना जाता है |

यह सिद्धांत भी संबंध बाद और व्यवहारवाद से जुड़ा हुआ है |

इस सिद्धांत के प्रवर्तक बी.एफ स्किनर को माना जाता है |

इन्होंने कबूतर और चूहे पर प्रयोग किया था |

यह सिद्धांत कहता है कि किसी को का पुनर्बलन देकर प्रेरित किया जा सकता है |

यह सही कार्य के लिए सकारात्मक और गलत कार्य के लिए नकारात्मक पुूनर्बलन देने की बात कही गई है |

पुनर्बलन का मतलब होता है प्रेरक |

यह पुरस्कार भी हो सकता है और दंड भी हो सकता है |

नोट्स बाय➖ रश्मि सावले

🌻🌸🍀🌻🌼🌸🌺🍀🌻🌼🌸🌺🍀🌻🌼🌺🍀🌸🌼🌺🍀🌸🌸🌸

🏵️🏵️ अधिगम सिद्धांत 🏵️🏵️
*🏵️1- प्रयत्न और भूल का सिद्धांत (trail error)*
🔹 थार्नडाइक(अमेरिका)
🔸 उद्दीपन अनुक्रिया सिद्धांत (S-R theory)
🔸 अधिगम का बंध सिद्धांत (एस.आर थ्योरी)
🔹 थार्नडाइक संबंध बाद और व्यवहारवाद विचारधाराओं को मानने वाले थे।
🔹 इन्होंने बिल्ली पर प्रयोग किया था।
👉 यह सिद्धांत अभ्यास द्वारा सीखने पर बल देता है।
👉 एक गणित और विज्ञान के लिए ज्यादा उपयोगी है।
👉इसमें त्रुटियों का निराकरण हो इस पर बल दिया जाता है।
*🏵️2-अनुकूलित अनुक्रिया का सिद्धांत(classical conditioning theory)*
🔹 शास्त्रीय अनुबंध का सिद्धांत
🔹 प्राचीन अनुबंध का सिद्धांत
🔹 संबंध प्रतिक्रिया का सिद्धांत
🔹 Theory of relative response
🔸 इन सिद्धांतों को पावलव ने दिया जो रूस के मनोवैज्ञानिक थे।
🔸 इन्होंने कुत्ते पर प्रयोग किया था।
👉 यह सिद्धांत कहता है, आदतों का निर्माण कृत्रिम उद्दीपक से संबद्ध प्रतिक्रिया द्वारा होता है।
👉 इसी सिद्धांत से संबद्ध प्रतिवर्त (सहज) विधि का जन्म हुआ।
👉 यह सिद्धांत भाषा विकास, मनोवृति का निर्माण, बुरी आदत से छुटकारा, सुलेख, अक्षर विन्यास जैसे विषय में उपयोगी है।
🏵️3- *अंतर्दृष्टि का सिद्धांत/ (सूझ का सिद्धांत) insight theory*
🔸 गेस्टाल्ट सिद्धांत
🔸 यह भी संबंध बाद और व्यवहारवाद से जुड़ा हुआ है।
🔹 इस सिद्धांत में कोहलर, कोफ्का और वर्दीमर का नाम आता है।
👉 बनमानुस सुल्तान नामक चिंपांजी पर प्रयोग किया था।
👉 यह सिद्धांत स्वयं समस्या पर हल खोजने के लिए प्रेरित करता है।
🏵️4- *क्रिया प्रसूत अनुबंधन का सिद्धांत*
🔹 सक्रिय अनुबंधन का सिद्धांत
🔹 Operent conditioning theory
🔹 नैमित्तिक अनुबंधन थ्योरी (causal contact)
🔸 इस सिद्धांत को *B.F Skinner* ने दिया।
🔸 यह भी संबंध बाद और व्यवहारवाद दोनों को मानने वाले थे।
🔸 इन्होंने कबूतर और चूहा पर प्रयोग किया।
👉 यह सिद्धांत कहता है कि किसी को पुनर्बलन देकर अच्छे कार्य के लिए प्रेरित किया जा सकता है।
यहां सही कार्य के लिए सकारात्मक और गलत कार्य के लिए नकारात्मक पुनर्बलन दिए जाने की बात कही गई है।
पुनर्बलन का मतलब होता है- *प्रेरक* यह पुरस्कार भी दे सकता है और दंड भी।
*🏵️ *5-प्रबलन का सिद्धांत* (Reinforcement theory)
🔸 प्रबलन का सिद्धांत *C. L hall* के द्वारा दिया गया है यह व्यवहारवादी और संबंध वादी को मानने वाले थे।
*🔹न्यूनतम आवश्यकता का सिद्धांत* (principle of minimum requirement
🔹 विधिक सिद्धांत legal principle theory
🔸 *प्रयोग -चूहे पर*
👉 इस सिद्धांत में व्यक्तिगत शिक्षा पर बल दिया जाता है।
👉 यह सिद्धांत कहता है कि शिक्षक को विषय वस्तु तथा अधिगम को दोहराने पर बल देना चाहिए इससे बालक की आदत को बेहतर बनाया जा सकता है।
*🏵️6-अनुकरण द्वारा अधिगम/ अनुकरण का सिद्धांत* (learning by simulation)
🔸 यह सिद्धांत मनोवैज्ञानिक *हैगार्ट* के द्वारा दिया गया है।
👉 इस सिद्धांत में अधिगम की प्रक्रिया अनुकरण द्वारा ही पूर्ण की जा सकती है बच्चा जैसा देखता है वैसा करने का प्रयास करता है।
🏵️7- *क्षेत्रीय सिद्धांत* (field theory)
🔹 *तल रूप सिद्धांत(Topology theory*
🔹 _*अधिगम का प्राकृतिक दशा का सिद्धांत (natural conditioning theory of learning)*_
🔸 यह सिद्धांत *kurt levin* के द्वारा दिया गया है।
👉 यह सिद्धांत शिक्षक द्वारा विद्यार्थियों को उनकी योग्यता और शक्ति के अनुसार उपयुक्त मनोवैज्ञानिक वातावरण उपलब्ध कराना चाहिए साथ ही प्राप्त उद्देश्यों को प्रभावी तरीकों से निर्देशित किया जाना चाहिए।
इस सिद्धांत के तहत व्यवहार पर जोर देते हुए अभिप्रेरणा पर जोर दिया जाता है।
🏵️ *8-समीपता का सिद्धांत* (principle of of proximity)
🔸 स्थानापन्न का सिद्धांत
🔸 प्रतिस्थान का सिद्धांत
(Principle of substitution replacement)
🔹 यह सिद्धांत Edwin Guthri के द्वारा दिया गया है।
👉 यह सिद्धांत कहता है की उत्तेजना और अनुक्रिया के बीच अधिकतम साहचर्य स्थापित करना चाहिए।
ताकि अधिगम की प्रक्रिया को और प्रभावशाली बनाया जा सके।
*🏵️9-अव्यक्त अधिगम का सिद्धांत* (lalent learning theory)
🔹 इस सिद्धांत को Edward Tolman द्वारा दिया गया है।
🔸 चिन्ह आकार अधिगम
(Symbol size theory)
🔸 चिन्ह पूर्णाकारबाद संभावना सिद्धांत
(Symbol round possibility theory)
🔹 प्रतीक अधिगम
🔹 अप्रकट अधिगम
👉 यह सिद्धांत कहता है कि सीखना संज्ञानात्मक मानचित्र बनाना है।
अध्यापक को चाहिए कि शैक्षिक उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए इनाम और दंड का प्रयोग करें।

🔹🔸🔹
🏵️🌸🏵️✍️ *NOTES BY≈VINAY SINGH THAKUR*

*अधिगम का सिद्धांत*💥
*(Learning theories)*💥

*1. प्रयत्न और भूल का सिद्धांत*🌸🌸

यह सिद्धांत थार्नडाइक ने दिया था। वह अमेरिका के मनोवैज्ञानिक थे।
इस सिद्धांत का अन्य नाम ” अनुक्रिया सिद्धांत” , “अधिगम का बंध सिद्धांत” , “संबंध वाद”, “व्यवहारवाद” आदि नामों से जाना जाता है। थार्नडाइक ने बिल्ली पर अपना प्रयोग किया था।
यह सिद्धांत अभ्यास द्वारा सीखने पर बल देता है। यह गणित और विज्ञान के लिए ज्यादा उपयोगी है इसमें त्रुटियों का निराकरण पर बल दिया जाता है।

*2. अनुकूलित अनुक्रिया का सिद्धांत*🌸🌸

यह सिद्धांत रूसी मनोवैज्ञानिक पावलव ने दिया था।
इन्होंने अपना प्रयोग कुत्ते पर किया था।
इस सिद्धांत का अन्य नाम “शास्त्रीय अनुबंधन का सिद्धांत”, “प्राचीन अनुबंधन का सिद्धांत”, “संबंध प्रतिक्रिया का सिद्धांत” है।

यह सिद्धांत कहता है आदतों का निर्माण कृत्रिम उद्दीपक से संबद्ध प्रतिक्रिया द्वारा होता है। इस सिद्धांत से संबद्ध प्रतिवर्त(सहज) विधि का जन्म हुआ।
यह सिद्धांत भाषा विकास, मनोवृति का निर्माण, बुरी आदत से छुटकारा, सुलेख, अक्षर विन्यास जैसे विषय में उपयोगी है।

*3. अंतर्दृष्टि का सिद्धांत* 🌸🌸

इसका अन्य नाम “सूझ का सिद्धांत”,”गेस्टाल्ट का सिद्धांत”,”संबंध वाद का सिद्धांत”,”व्यवहारवाद का सिद्धांत”आदि नामों से जाना जाता है।
यह सिद्धांत कोहलर, कोफ्का , वर्दीमर ने दिया था।
इस सिद्धांत का प्रयोग ‘सुल्तान’ नामक चिंपांजी (वनमानुष) पर किया गया था।
यह सिद्धांत स्वयं समस्या का हल खोजने के लिए प्रेरित करता है।

*4. क्रिया प्रसूत अनुबंधन का सिद्धांत*🌸🌸

इसका अन्य नाम “सक्रिय अनुबंधन का सिद्धांत”,”नैमित्तिक अनुबंधन सिद्धांत”,”संबंध वादी का सिद्धांत”,”व्यवहारवादी का सिद्धांत” आदि है।
यह सिद्धांत बी एफ स्किनर ने दिया था। इन्होंने चूहे और कबूतर पर अपना प्रयोग किया था।
यह सिद्धांत कहता है कि किसी को पुनर्बलन देकर अच्छे कार्य के लिए प्रेरित किया जा सकता है यहां सही कार्य के लिए सकारात्मक और गलत कार्य के लिए नकारात्मक पुनर्बलन दिये जाने की बात कही गई है। पुनर्बलन का मतलब होता है प्रेरक। यह पुरस्कार भी हो सकता है और दंड भी।

*5. प्रबलन का सिद्धांत*🌸🌸

इस सिद्धांत को सी.एच.हल ने दिया था। इसका अन्य नाम “पुनर्बलन का सिद्धांत”, “विधिक सिद्धांत”, “न्यूनतम आवश्यकता का सिद्धांत”, “संबंध वाद का सिद्धांत”, “व्यवहारवाद का सिद्धांत” आदि है।
इन्होंने चूहे पर अपना प्रयोग किया था। इस सिद्धांत में व्यक्तिगत शिक्षा पर बल दिया जाता है यह सिद्धांत कहता है कि शिक्षकों विषय वस्तु तथा अधिगम को दोहराने पर बल देना चाहिए इससे बालक की आदत को बेहतर बनाया जा सकता है।

*6. अनुकरण द्वारा अधिगम*🌸🌸

यह सिद्धांत हैगार्ट ने दिया था।
अधिगम की प्रक्रिया अनुकरण द्वारा भी पूर्ण की जा सकती है बच्चा जैसा देखता है वैसा करने का प्रयास करता है। यही अनुकरण का सिद्धांत है।

*7. क्षेत्रीय सिद्धांत*🌸🌸

इस सिद्धांत कर्ट लेविन ने दिया था।
इसका अन्य नाम “तलरुप सिद्धांत”, “अधिगम का प्राकृतिक दिशा का सिद्धांत” है।
शिक्षक द्वारा विद्यार्थी को उनकी योग्यता और शक्ति के अनुसार उपयुक्त मनोवैज्ञानिक वातावरण उपलब्ध कराना चाहिए साथ ही प्राप्त उद्देश्यों को प्रभावी तरीके से निर्देशित किया जाना चाहिए। सिद्धांत के तहत व्यवहार पर जोर देते हुए अभिप्रेरणा पर जोर दिया जाता है।

*8. समीपता का सिद्धांत*🌸🌸

यह सिद्धांत एडविन गुथरी ने दिया था।
इसका अन्य नाम “स्थानापन्न का सिद्धांत”,”प्रतिस्थापन का सिद्धांत”है।
यह सिद्धांत कहता है कि उत्तेजना और अनुक्रिया के बीच अधिकतम साहचर्य स्थापित करना चाहिए ताकि अधिगम की प्रक्रिया को और प्रभावशाली बनाया जा सके।

*9. अव्यक्त अधिगम का सिद्धांत*🌸🌸

यह सिद्धांत एडवर्ड टोलमैन ने दिया था। इसका अन्य नाम “चिन्हाकार अधिगम”, “चिन्ह पूर्ण आकारवाद संभावना सिद्धांत”,” प्रतीक अधिगम” “अप्रकट अधिगम” है।
रस सिद्धांत कहता है कि सीखना संज्ञानात्मक मानचित्र बनाना है अध्यापक को चाहिए कि शैक्षिक उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए पुरस्कार और दंड का प्रयोग करें।

*नोट्स – श्रेया राय*✍️🙏😊

🖊️ अधिगम के सिद्धांत🖊️

🌹 प्रयत्न और भूल का सिद्धांत( trial and error theory)➖

♦️ यह सिद्धांत थ्रोनडाईक में 1903 ईस्वी में दिया।

♦️यह सिद्धांत संबंध बाद और व्यवहारवाद पर आधारित है।

♦️ इन्होंने बिल्ली पर प्रयोग किया।

♦️ यह सिद्धांत अभ्यास द्वारा सीखने पर बल देता है।

♦️ यह गणित और विज्ञान के लिए ज्यादा उपयोगी है।

♦️ इसमें त्रुटियों का निराकरण हो,इस पर बल दिया जाता है।

♦️इस सिद्धांत के अन्य नाम:

➖ उद्दीपन-अनुक्रिया सिद्धांत
➖ अधिगम का बंध सिद्धांत
➖ stimulus response theory(S-R Theory)

🌹 अनुकूलित अनुक्रिया का सिद्धांत:-

♦️ यह सिद्धांत पावलव(रूस ) ने 1904 में दिया।

♦️ इन्होंने कुत्तों पर प्रयोग किया.

♦️ इस सिद्धांत का कहना है कि आदतों का निर्माण कृत्रिम उद्दीपक से संबंध प्रतिक्रिया द्वारा होता है।

♦️ इसी सिद्धांत से संबंध प्रतिवर्त (सहज)विधि का जन्म हुआ। इसे ही artificial stiumulus कहते हैं।

♦️ यह सिद्धांत निम्न रूप से उपयोगी है:-
➖ भाषा विकास
➖ मनोवृति का निर्माण
➖ बुरी आदत से छुटकारा
➖ सुलेख
➖ अक्षर विन्यास

🌹 अंतर्दृष्टि का सिद्धांत( Insight theory):

♦️ इस सिद्धांत को सोच के सिद्धांत के नाम से जाना जाता है।

♦️ सूझ का सिद्धांत गेस्टाल्टवादी सिद्धांत है। गेस्टाल्ट का अर्थ पूर्ण आकार होता है।

♦️ यह सिद्धांत संबंध बाद और व्यवहारवाद से संबंधित है।

♦️ यह सिद्धांत कोहलर, कोफ़ा और वरदाइमर द्वारा दिया गया।

♦️यह प्रयोग सुल्तान चिंपांजी पर किया गया ।

♦️यह सिद्धांत स्वयं समस्या का हल खोजने के लिए प्रोत्साहित करता है।

🌹 क्रिया प्रसूत अनुबंधन का सिद्धांत:

♦️ इस सिद्धांत के अन्य नाम:
➖ सक्रिय अनुबंधन का सिद्धांत (operate conditioning theory)
➖ नैमित्तिक अनुबंध थ्योरी
➖ Response Stimulus Theory

♦️ यह सिद्धांत संबंध बाद और व्यवहारवाद से संबंधित है।

♦️ इस सिद्धांत को बी.एफ स्किनर ने दिया। इन्होंने कबूतर और चूहों पर प्रयोग किया।

♦️ सिद्धांत कहता है कि किसी को पुनर्बलन देकर अच्छे कार्य के लिए प्रेरित किया जा सकता है।

♦️ यहां सही कार्य के लिए नकारात्मक और गलत कार्य के लिए नकारात्मक पुनर्बलन दिए जाने की बात कही गई है।

♦️ पुनर्बलन का मतलब यह होता है ‘प्रेरक’। यह पुरस्कार भी हो सकता है और दंड भी।

🎊Notes By Akanksha🎊
🌸🙏
💫 अधिगम सिद्धांत💫 (earning theories)

🌸1-प्रयत्न और भूल का सिद्धांत➖
🌺 प्रवर्तक-थार्नडाइक यह अमेरिका के निवासी थे
🌺 अधिगम का सिद्धांत
🌺 एस .आर .थ्योरी
🌺 उद्दीपन अनुक्रिया सिद्धांत
🌺 संबंधवाद
🌺 व्यवहारवाद
🌺 प्रयोग-बिल्ली पर

🌸🌸 यह सिद्धांत अभ्यास के द्वारा सीखने पर बल देता है

💫 अनुकूलित अनुक्रिया का सिद्धांत➖
🌺 शास्त्रीय अनुबंधन का सिद्धांत
🌺 प्राचीन अनुबंधन का सिद्धांत
🌺 संबंध प्रतिक्रिया का सिद्धांत
🌺 प्रवर्तक-पावलव रूस के निवासी थे
🌺 प्रयोग-कुत्ते पर
🌸🌸 यह सिद्धांत कहता है की आदतों का निर्माण कृत्रिम उद्दीपक से संबंध में प्रतिक्रिया द्वारा होता हैएक ऐसी प्रक्रिया है जिसके द्वारा उद्दीपन तथा अनुक्रिया के बीच एक साहचर्य स्थापित हो जाता है इस सिद्धांत का प्रतिपादन 1904 में हुआ था।

3.💫 अंतर्दृष्टि का सिद्धांत➖

🌺 सूझ का सिद्धांत
🌺 गेस्टाल्ट सिद्धांत
🌺 संबंधवाद
🌺 व्यवहारवाद
🌺 प्रवर्तक-कोहलर, कोफ्फा, वर्दीमर
🌺 प्रयोग-वनमानुष सुल्तान नामक चिंपौजी
🌺 यह सिद्धांत स्वयं समस्या का हल खोजने के लिए प्रेरित करता है।

💫 4, क्रिया प्रसूत अनुबंधन का सिद्धांत➖
🌺 सक्रिय अनुबंधन का सिद्धांत
🌺नैमित्तिक अनुबंधन थ्योरी
🌺 संबंधवादी
🌺 व्यवहारवादी
🌺 प्रयोग-कबूतर और चूहे पर
यह सिद्धांत कहता है कि किसी को पुनर्बलन देकर अच्छे कार्य के लिए प्रेरित किया जा सकता है यह सही कार्य के लिए सकारात्मक और गलत कार्य के लिए नकारात्मक पुनर्बलन किए जाने की बात कही गई है पुनर्बलन का मतलब होता है यह पुरस्कार भी हो सकता है और दंड भी।

💫 5, प्रबलन का सिद्धांत
🌺 प्रवर्तक-C.L.Hull
🌺 बुद्धि का सिद्धांत
🌺 न्यूनतम आवश्यकता का सिद्धांत
🌺 प्रयोग-चूहा
🌺 इस सिद्धांत में व्यक्तिगत शिक्षा पर बल दिया जाता है सिद्धांत कहता है कि शिक्षक को विषय वस्तु तथा अधिगम को दोहराने पर बल देना चाहिए इससे बालक की आदत को बेहतर बनाया जा सकता है।
🌺 संबंधवाद
🌺 व्यवहारवाद

💫 6. अनुकरण द्वारा सिद्धांत➖
🌺 अनुकरण का सिद्धांत
🌺 प्रवर्तक-मनोवैज्ञानिक हैगार्ट
🌺 अधिगम की प्रक्रिया अनुकरण द्वारा पूर्ण की जा सकती है बच्चा जैसा दिखता है वैसा करने का प्रयास करता है।

💫7. क्षेत्रीय सिद्धांत➖
🌺 तलरुप सिद्धांत
🌺 अधिगम का प्राकृतिक दशा का सिद्धांत
🌺 प्रवर्तक-कर्ट लेविन
🌺 शिक्षक द्वारा विद्यार्थी को उसकी योगिता और शक्ति के अनुसार उपयुक्त मनोवैज्ञानिक वातावरण उपलब्ध कराना चाहिए साथ ही प्राप्त उद्देश्य को प्रभावी तरीके से निर्देशित किया जाना चाहिए इस सिद्धांत के तहत व्यवहार पर जोर देते हुए अभिप्रेरणा पर जोर दिया जाता है।

💫8. समीपता का सिद्धांत➖
🌺 स्थानापन्न का सिद्धांत
🌺 प्रति स्थापन का सिद्धांत
🌺 प्रवर्तक-एडमिन गुथरी
🌺 यह सिद्धांत कहता है कि उत्तेजना और अनुक्रिया के बीच अधिगम सहचर्य स्थापित करना चाहिए ताकि अधिगम की प्रक्रिया को और प्रभावशाली बनाया जा सके।

💫9. अव्यक्त अधिगम का सिद्धांत➖

🌺 चिन्ह आकार अधिगम
🌺 चिन्ह पूर्णकार वाद संभावना सिद्धांत
🌺 प्रतीक अधिगम
🌺अप्रकट अधिगम
🌺 यह सिद्धार्थ कहता है कि सीखना ज्ञानात्मक मानचित्र बनाना है अध्यापक को चाहिए कि शैक्षणिक उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए इनाम और दंड का ही प्रयोग करें।

✍🏻📚📚 Notes by..,… Sakshi Sharma📚📚✍🏻

_____________________________
अधिगम सिद्धांत
(Learning Theories)
_____________________________
*️⃣ प्रयास और भूल का सिद्धांत
(Trial and Error theory)
🕯️प्रतिपादक : थार्नडाइक (Thorndike)
🕉️अन्य नाम :
🌿उद्दीपन अनुक्रिया सिद्धांत (S-R Theory)
🌿अधिगम का बंध सिद्धांत

📎संबंधवाद एवम् व्यवहारवाद से संबंधित है।

☯️प्रयोग (experiment) : बिल्ली (Cat) पर

🔷तथ्य (Fact)
#️⃣यह सिद्धांत अभ्यास द्वारा सीखने पर बल देता है।
#️⃣यह गणित और विज्ञान के लिए ज्यादा उपयोगी है।
#️⃣इसमें त्रुटियों के निराकरण पर बल दिया जाता है।

*️⃣ अनुकूलित अनुक्रिया का सिद्धांत (Classical Conditioning T)
🕯️प्रतिपादक : पावलव (I. P. Pavlov)

🕉️अन्य नाम
🌿शास्त्रीय अनुबंधन का सिद्धांत
🌿प्राचीन अनुबंधन का सिद्धांत
🌿संबंध प्रतिक्रिया का सिद्धांत

☯️प्रयोग : कुत्ते(🐕) पर

🔷तथ्य (Fact)
#️⃣यह सिद्धांत कहता है कि अल्टो का निर्माण कृत्रिम उद्दीपक से संबंध प्रतिक्रिया द्वारा होता है।
#️⃣इसी सिद्धांत से संबद्ध प्रतिवर्ष सहज विधि का जन्म हुआ।
#️⃣यह सिद्धांत भाषा विकास मनोवृत्ति का निर्माण बुरी आदत से छुटकारा सुलेख अंतर विन्यास जैसे विषय के लिए उपयोगी हैं।

*️⃣ अंतर्दृष्टि का सिद्धांत अथवा सिद्धांत (Insight Theory)
🕯️प्रतिपादक : कोहलर, कोफ्का, वर्दीमर
🕉️अन्य नाम :
🌿गेस्टाल्टवाद का सिद्धांत
🌿संबंध का सिद्धांत
🌿व्यवहारवाद का सिद्धांत

🔷तथ्य (Fact) : #️⃣यह सिद्धांत समस्या का हल स्वयं ही खोजने के लिए प्रेरित करता है।

*️⃣ क्रिया प्रसूत अनुबंधन का सिद्धांत (Operant Conditioning Theory)
🕯️प्रतिपादक : बीएफ स्किनर (BF Skinner)
🕉️अन्य नाम :
🌿सक्रिय अनुबंधन का सिद्धांत
🌿नैमित्तिक अनुबंधन का सिद्धांत
🌿यांत्रिक अनुबंधन का सिद्धांत
🌿साधनात्मक अनुबंधन का सिद्धांत
🌿R-S theory

☯️प्रयोग : कबूतर और चूहा पर

*️⃣ प्रबलन का सिद्धांत (Reinforcement Theory)
🕯️प्रतिपादक : C L Hull

🕉️अन्य नाम
🌿न्यूनतम आवश्यकता का सिद्धांत (Principle of Minimum Requirement)
🌿विधिक सिद्धांत (Legal Principle)
☯️प्रयोग : चूहा

🔷तथ्य (Fact) :
#️⃣इस सिद्धांत में व्यक्तिगत शिक्षा पर बल दिया जाता है।
#️⃣सिद्धांत कहता है कि शिक्षक को विषय वस्तु तथा अधिगम को दोहराने पर बल देना चाहिए इससे बालक की आदत को बेहतर बनाया जा सकता है।

*️⃣ अनुकरण द्वारा अधिगम
अनुकरण का सिद्धांत (Learning pp Simulation)
🕯️प्रतिपादक : हैगार्ट

🔷तथ्य (Fact) :
#️⃣अधिगम की प्रक्रिया अनुकरण द्वारा भी पूर्ण की जा सकती है।
#️⃣बच्चा जैसा दिखता है वैसा करने का प्रयास करता है।

*️⃣ क्षेत्रीय सिद्धांत (field theory)
🕯️प्रतिपादक : कर्ट लेविन (Kurt Lewin)
🕉️अन्य नाम
🌿तलरूप का सिद्धांत
🌿अधिगम का प्राकृतिक दशा का सिद्धांत

🔷तथ्य (Fact) :
#️⃣शिक्षक द्वारा विद्यार्थियों को उनकी योग्यता और शक्ति के अनुसार उपयुक्त मनोवैज्ञानिक वातावरण उपलब्ध कराना चाहिए। साथ ही प्राप्त उद्देश्यों को प्रभावी तरीके से निर्देशित किया जाना चाहिए।
#️⃣इस सिद्धांत के तहत व्यवहार पर जोर देते हुए अभिप्रेरणा पर जोर दिया जाता है।

*️⃣ समीपता का सिद्धांत (Principle of Proximity)
🕯️प्रतिपादक : एडविन गुथरी (Edwin Guthari)
🕉️अन्य नाम :
🌿स्थानापन्न का सिद्धांत(Principle of Placement)
🌿प्रतिस्थापन का सिद्धांत (Principle of Sinstitution)
🔷तथ्य (Fact) :
#️⃣यह सिद्धांत कहता है कि उत्तेजना और अनुक्रिया के बीच अधिकतम साहचर्य स्थापित करना चाहिए ताकि अधिगम की प्रक्रिया को और अधिक प्रभावशाली कराया जा सके।

*️⃣ अव्यक्त अधिगम का सिद्धांत(Latent Learning Theory)
🕯️प्रतिपादक : एडवर्ड टालमैन(Edward Tolman)
🕉️अन्य नाम :
🌿चिह्न आकार अधिगम (Symbol Size Theory)
🌿 चिन्ह पूर्णाकारवाद संभावना सिद्धांत (Symbol Round Position Theory)
🌿अप्रकट अधिगम

🔷तथ्य (Fact) :
#️⃣यह सिद्धांत कहता है कि शिक्षा संज्ञानात्मक मानचित्र बनाना है।
#️⃣अध्यापक को चाहिए कि शैक्षिक उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए इनाम और दंड का प्रयोग करें।

💎💎💎
✍️✍️ By Awadhesh Kumar ✍️✍️
_____________________________

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.