______________________
मनोविज्ञान के संप्रदाय
(Community of Psychology)
___________________________

✨एक जैसी विचारधारा वाले लोग को एक संप्रदाय के अंतर्गत रखा जाता है।

इन संप्रदायों का विवरण निम्नवत है-
🌡️संरचनावाद (Structuralism)
🌡️प्रकार्यवाद (Functionalism)
🌡️व्यवहारवाद (Behaviorism)
🌡️मनोविश्लेषणवाद (Psychoanalism)
🌡️गेस्टाल्टवाद (Gestaltism)

🌜संरचनावाद (Structuralism)
🧚मनोविज्ञान को दर्शनशास्त्र से अलग करके क्रमबद्ध अध्ययन करने का श्रेय संरचनावाद को जाता है।

🧚संरचनावाद के प्रवर्तक विलियम वुण्ट और E.B. टीचनर हैं।

🧚विलियम वुण्ट ने मनोविज्ञान के स्वरूप को प्रयोगात्मक बताया।

🧚विलियम वुण्ट ने मनोविज्ञान की प्रथम प्रयोगशाला लिपजिग विश्वविद्यालय जर्मनी (Lipzig University Germany) में 1879 ई में स्थापित की।

🧚विलियम वुण्ट ने मनोविज्ञान को “चेतना अनुभूति” का अध्ययन करने वाला माना।

🌜प्रकार्यवाद (Functionalism)
💫प्रकार्यवाद संप्रदाय के जनक विलियम जेम्स है।
💫इसमें मानसिक क्रिया और अनुकूल व्यवहार को महत्व दिया जाता है।

Note:- इसमें व्यक्ति क्या करते हैं और क्यों कोई व्यवहार करते हैं इसकी समझ विकसित होती है।

🌜व्यवहारवाद (Behaviorism)
🌈व्यवहारवाद संप्रदाय के जनक जेबी वाटसन है
🌈मनोविज्ञान व्यवहार का विज्ञान है।
🌈व्यवहारवाद को आगे बढ़ाने का प्रयास हल, स्किनर, टोलमैन और गुथरी ने किया।

🌜मनोविश्लेषणवाद (Psychoanalysis)

👉मनोविश्लेषण संप्रदाय के जनक सिगमंड फ्रायड है।

👉इन्होंने व्यक्तित्व मापन की स्वप्न विश्लेषण विधि का प्रतिपादन किया।

🌜गोस्टाल्टवाद (Gestaltism)

👉गोस्टाल्टवाद के जनक कोहलर, कोफ्का और वर्दिमर है।

👉गोस्टाल्ट का मतलब समग्र अथवा पूर्ण आकार है अर्थात किसी वस्तु को समग्र रूप से समझा जाता है।

👉गोस्टाल्टवाद की स्थापना सर्वप्रथम 1912 ईस्वी में वर्दीमर ने से शुरुआत किया था।

🌑🌑🌑
✍️✍️ By Awadhesh Kumar ✍️✍️
———————————————

🔆 मनोविज्ञान के संप्रदाय ( Community of psychologically ) ➖

एक जैसी विचारधारा वाले लोगों को एक संप्रदाय के अन्तर्गत रखा जाता है |

⭕ मनोविज्ञान के संप्रदाय के प्रकार ➖

1) संरचनावाद ( Structuralism)

2)प्रकार्यवाद (Functionalism)

3) व्यवहारवाद (Behaviourism)

4) मनोविश्लेषण
( Psychoanalysim)

5) गेस्टाल्टवाद
(Gastaltisam)

🎯 संरचनावाद➖

मनोविज्ञान को दर्शनशास्त्र से अलग करके क्रमबद्ध अध्ययन करने का श्रेय संरचनावाद को ही जाता है |

संरचनावाद के जनक या प्रवर्तक “विलियम वुण्ट ” और “ई. बी. टिचनर ” को माना जाता है |

इन्होंने मनोविज्ञान के स्वरूप को प्रयोगात्मक बनाया |

विलियम वुण्ट ने सन् 1879 में लिपजिंग विश्वविद्यालय जर्मनी में मनोविज्ञान की प्रथम प्रयोगशाला स्थापित की |

विलियम वुण्ट ने मनोविज्ञान को “चेतन अनुभूति का अध्ययन” करने वाला माना |

🎯 प्रकार्यवाद ➖

प्रकार्यवाद संप्रदाय के जनक विलियम जेम्स को माना जाता है |

इन्होंने “मानसिक क्रिया अनुकूली व्यवहार “को महत्व दिया |

इसमें व्यक्ति क्या करते हैं और क्यों व्यवहार करते हैं इसकी समझ विकसित होती है |

🎯 व्यवहारवाद ➖

व्यवहारवाद संप्रदाय के जनक “जे.बी .वाटसन” को माना जाता है |

उन्होंने कहा कि मनोविज्ञान व्यवहार का विज्ञान है यह बताता है कि व्यक्ति का मनोविज्ञान कैसा है |

वाटसन के बाद व्यवहारवाद को आगे बढ़ाने का प्रयास ” सी.एल.हल.,,, स्किनर ,,, टाॅलमैन ,,, तथा,,, गुथरी ” ,ने किया |

🎯 मनोविश्लेषण ➖

मनोविश्लेषण संप्रदाय के जनक सिगमंड फ्रायड को माना जाता है |

इन्होंने व्यक्तित्व मापन की “स्वपन विश्लेषण ” विधि का प्रतिपादन किया |

इन्होंने अपने मनोविश्लेषणवादी सिद्धांत के अंतर्गत “इदम्, अहम्, और परम अहम ” को केंद्र बिंदु माना |

जिनके अनुसार व्यक्ति इदम् की स्थिति में तत्कालिक सुख की प्राप्ति चाहता है और वह अपने सुख के लिए कुछ भी करना चाहता है बस अपने सुख की तत्काल प्राप्ति चाहता है इसके अंतर्गत दमित इच्छाएं होती है जिन की पूर्ति व्यक्ति शीघ्र चाहता है |
अहम की स्थिति को मैं व्यक्ति समाज के नियमों का पालन करता है समाज के मानदंडों को ध्यान में रखते हुए अपने क्रियाकलाप को आगे बढ़ाता है |
और परम अहम को देवत्व का प्रतीक माना जाता है |

🎯गेस्टाल्टवादी ➖

गेस्टाल्टवादी संप्रदाय के जनक तीन व्यक्ति” कोहलर कोफ्का और वर्दाइमर ” को माना जाता है |

यहां गैस्टाल्ट का अर्थ पूर्णाकार या समग्र आकार है यदि कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति के चिंतन, स्मृति या अधिगम आदि को समझता है और उसे संपूर्णता की ओर ले जाता है तो वह हमारा गेस्टाल्टबाद है |

सबसे पहले 1912 में इसकी स्थापना वर्दाइमर ने की थी |

नोट्स बाय ➖रश्मि सावले

🌻🌼🌸🍀🌺🌻🌼🌸🍀🌺🌻🌼🌸🍀🌺🌻🌼🌸🍀🌺

🌟 *मनोविज्ञान के संप्रदाय ( Community of psychology)* 🌟

एक जैसी विचार धारा वाले लोगों को एक संप्रदाय के अंतर्गत रखा जाता है।
मनोविज्ञान के संप्रदाय निम्न प्रकार के हैं–

✨ *संरचनावाद(Structuralism)*

✨ *प्रकार्यवाद (Functionalism)*

✨ *व्यवहारवाद (Behaviourism)*

✨ *मनोविश्लेषण ( Psychoanalysis)*

✨ *गेस्टालटवाद(Gestalism)*

💫 *१.संरचनावाद (Structuralism):-*
मनोविज्ञान को दर्शनशास्त्र से अलग करके क्रमबद्ध अध्ययन करने का श्रेय संरचनावाद को ही जाता है।

🌟 *संरचनावाद के प्रवर्तक:-* संरचनावाद के प्रवर्तक में दो लोगों का नाम आता है–

✨ *(i) विलियम वुंट*
✨ *(ii)E.B. टिचनर*

*Note:-* 👉🏻 विलियम वुंट ने मनोविज्ञान के स्वरूप को “प्रयोगात्मक” बनाया।

👉🏻 विलियम वुंट की प्रयोगशाला जर्मनी के लिपजिंग विश्वविद्यालय 1879 में मनोविज्ञान की प्रथम प्रयोगशाला स्थापित की गई।

👉🏻 विलियम वुंट ने मनोविज्ञान को “चेतन अनुभूति का अध्ययन” करने वाला माना है।

💫 *२. प्रकार्यवाद (Functionalism):-*
प्रकार्यवाद संप्रदाय के जनक “विलियम जेम्स” है।
इसमें “मानसिक क्रिया” , “अनुकूलित व्यवहार” को महत्व दिया जाता है।

*Note:-* 👉🏻 इसमें व्यक्ति क्या करते हैं और क्यों कोई व्यवहार करते हैं, इसकी समझ विकसित होती है।

💫 *३. व्यवहारवाद (Behaviourlism):-*
व्यवहारवाद संप्रदाय के जनक J.B. वाटसन है।

*वाटसन के अनुसार:-* “मनोविज्ञान व्यवहार का विज्ञान है”

👉🏻 व्यवहारवाद को आगे बढ़ाने का प्रयास –“हल, स्किनर, टॉलमैन व गुथरी ”के द्वारा किया गया है।

💫 *४.मनोविश्लेषणवाद ( Psychoanalysis):-*
मनोविश्लेषण संप्रदाय के जनक “सिग्मंड फ्रायड” है।
इन्होंने व्यक्तित्व मापन की “स्वपन विश्लेषण विधि” का प्रतिपादन किया।

💫 *५गेस्टालट्वादी(Gestalism):-*
गेस्टालट्वादी के तीन जनक है–

✨ *१. कोहलर*
✨ *२. कोफ्का*
✨ *३. वर्दाइमर*

गेस्टालट्वाद काम मतलब पूर्णआकार (समग्र आकार) किसी भी चीज की चिंतन/स्मृति/अधिगम को पूर्ण रूप से समझना तथा सभी को मिलाकर संपूर्णता की तरफ जाना गेस्टालट्वादी है।

*Note:-* 👉🏻“1912 में वर्दीइमर ने सबसे पहले “गेस्टालट्वादी” की शुरुआत की, फिर कोहलर, कोफ्का जुड़े थे”।

✍️✍️✍️ *Notes by – Pooja* ✍️✍️✍️

🌹मनोविज्ञान के संप्रदाय🌹 (community of psychology)

🙇🏼‍♀️एक जैसे विचारधारा वाले लोगों को इस संप्रदाय के अंतर्गत रखा जाता है।

🥳 मनोविज्ञान के संप्रदाय के अंतर्गत निम्न संप्रदाय आते है।

♦️ संरचनावाद

♦️ प्रकार्यवाद

♦️ व्यवहारवाद

♦️ मनोविश्लेषणवाद

♦️ गेस्टाल्टवाद

🌸 संरचनावाद➖
मनोविज्ञान को दर्शन से अलग करके क्रम बंद अध्ययन करने का श्रेय संरचनावाद को ही जाता है।

➖ संरचनावाद के प्रवर्तक:-
🌸 विलियम वूंट
🌸 इ.बी.टिंचर

🌹 विलियम वूंट ने मनोविज्ञान के स्वरूप को प्रयोगात्मक बनाया।

🌹 विलियम वूंट की प्रयोगशाला लिपजिंग विश्वविद्यालय,जर्मनी में 1879, में खोली गई।

🌹 यह मनोविज्ञान की प्रथम प्रयोगशाला थी ।

🌹 विलियम वूंट ने मनोवैज्ञानिक को➖
“चेतन अनुभूति का अध्ययन करने वाला माना”

🔆 प्रकार्यवाद:-

♦️ प्रकार्यवाद संप्रदाय के जनक विलियम जेम्स है।

♦️ इसमें “मानसिक क्रिया” “अनुकूल व्यवहार” को महत्ता दिया जाता है।

नोट:-
इसमें व्यक्ति क्या करते हैं और क्यों कोई व्यवहार करता है इसकी समझ विकसित होती है।

🌹 व्यवहारवाद:-

♦️व्यवहारवाद संप्रदाय के जनक J. B. Watson है।

♦️व्यवहारवाद को आगे बढ़ाने का श्रेय:-
हल, स्किनर, टॉलमैन,गुथरी को दिया जाता है।

🌹 मनोविश्लेषणात्मक:-

♦️ इस संप्रदाय के जनक सिगमंड फ्रायड है।

♦️ इन्होंने व्यक्तित्व मापन की “स्वप्न विश्लेषण विधि” का प्रतिपादन किया।

🌹 गेस्टाल्टवादी:-

♦️गेस्टाल्ट वादी में कोफ्क़ा, कोहलर और वरदाईमर का नाम आता है।

♦️ गेस्टाल्टवादी का अर्थ पूर्णआकार होता है।

Notes By Akanksha

🙏🌸🤗
✴️ *मनोविज्ञान के संप्रदाय* ✴️
*(Community of psychology)*

एक जैसी विचारधारा वाले लोगों को एक संप्रदाय के अंतर्गत रखा जाता है।

*मनोविज्ञान के संप्रदाय*✴️👉

1. संरचनावाद(structuralism)

2. प्रकार्यवाद(functionalism)

3. व्यवहारवाद(behaviorism)

4. मनोविश्लेषणवाद(psychoanalism)

5. गेस्टाल्ट वाद(gestalism)

*संरचनावाद*👉

🌸मनोविज्ञान को दर्शनशास्त्र से अलग करके क्रम बद्ध अध्ययन करने का श्रेय संरचनावाद को जाता है।

✍️संरचनावाद के प्रवर्तक विलियन वुंट एवं ई.बी. टिचनर थे।

विलियम वुंट ने मनोविज्ञान के स्वरूप को प्रयोगात्मक बनाया।

इन्होंने की प्रथम प्रयोगशाला ‘लिपजिंग विश्वविद्यालय’ जर्मनी में 1879 में खोला था ।
विलियम वुंट ने “मनोविज्ञान को चेतन अनुभूति का अध्ययन” करने वाला माना।

*प्रकार्यवाद*👉

🌸 प्रकार्यवाद संप्रदाय के जनक विलियम जेम्स हैं इसमें मानसिक क्रिया और अनुकूलित व्यवहार को महत्व दिया जाता है।

✍️ इसमें व्यक्ति क्या करते हैं और क्यों कोई व्यवहार करते हैं इसकी समझ विकसित होती है।

*व्यवहारवाद*👉

🌸 व्यवहारवाद संप्रदाय के जनक
वाटसन है ।

“मनोविज्ञान व्यवहार का विज्ञान है।”

✍️ व्यवहारवाद को आगे बढ़ाने का प्रयास हल, स्किनर , टालमैन और गुथरी ने किया था।

*मनोविश्लेषणवाद*👉

🌸 मनोविश्लेषणवाद संप्रदाय के जनक सिगमंड फ्रायड हैं इन्होंने व्यक्तित्व मापन की स्वप्न विश्लेषण विधि का प्रतिपादन किया।

*गेस्टाल्ट वादी*👉

🌸गेस्टाल्ट वाद जर्मन भाषा का शब्द है जिसका अर्थ है पूर्ण आकार या समग्र आकार।

इस सिद्धांत के प्रवर्तक कोहलर , कोफ्का,मैक्स वर्दीमर थे। इनको गेस्टाल्ट वादी कहा जाता है।

✍️ *नोट्स – श्रेया राय* 🙏

🌺 मनोवैज्ञानिक के संप्रदाय🌺
(Community of psychology)

एक जैसी विचारधारा वाले लोगों को एक संप्रदाय के अंतर्गत रखा जाता है
मनोवैज्ञानिक के संप्रदाय प्रकार के हैं

🎯 रचनावाद (streamlism)

🎯 प्रकार्यवाद (functionalism)

🎯 व्यवहारवाद (behaviourism)

🎯 मनोविश्लेषण (psychonalysis)

🎯 गेस्टालटवाद (Gestalism)

💫 1-संरचनावाद ➖मनोविज्ञान को दर्शन साथ से अलग करके क्रमबद्ध अध्ययन करने का श्रेय सृजनात्मक बाद को जाता है।

✨ संरचनावाद के जनक / प्रवर्तक

1-विलियम वुण्ट
2-E.B.टिचनर

✨ वुण्ट ने मनोविज्ञान के स्वरूप को प्रयोगात्मक बताया है

✨विलियम वुण्ट की प्रयोगशाला लिपजिंग विश्वविद्यालय जर्मनी ने खोली गई।
✨यह मनोविज्ञान की प्रथम प्रयोगशाला थी।

✨ विलियम वुण्ट मनोविज्ञान को चेतन अनुभूति का अध्ययन करने वाला माना।

💫 प्रकार्यवाद ➖

✨प्रकार्यवाद संप्रदाय के जनक विलियम जेम्स हैं

✨ इसने मानसिक क्रिया अनुकुली व्यवहार को महत्व दिया जाता है।

✨ इसमें व्यक्ति क्या करता है और क्यों कोई व्यवहार करता है उसकी समझ विकसित होती है।

💫 व्यवहारवाद➖

✨ व्यवहारवाद संप्रत्यय के जनक J.B. वाटसन है

✨ मनोविज्ञान व्यवहार का विज्ञान है।

✨ इसे आगे बढ़ाने का प्रयास कुछ वैज्ञानिकों ने किया
हल, स्पिनर, टॉल मैन, गुथरी

💫 मनोविश्लेषण➖

✨ मनोविश्लेषण संप्रत्यय के जनक सिगमंड फ्रायड हैं।

✨ इन्होंने व्यक्तित्व मापन की स्वरूप विश्लेषण विधि का प्रतिपादन किया।

💫 गेस्टालवाद ➖

✨ गेस्टाल्ट बाद जर्मन भाषा का शब्द है जिसका अर्थ है पूर्ण आकार या समग्र आकार।

✨ इस सिद्धांत के प्रवर्तक कोहलर फूफा मैक्स वर्दीमर थे इसको गेस्टाल्ट वादी कहा जाता है।

✍🏻📚📚 Notes by….. Sakshi Sharma
📚📚✍🏻

*🌹 मनोविज्ञान के सम्प्रदाय* 🌹
🌹 **Community Of Psychology 🌹**

एक जैसी विशेष विचारधारा वाले लोगों को एक संप्रदाय के अंतर्गत रखा जाता है।

🌻 मनोविज्ञान के संप्रदाय :-

1. संरचनावाद structuralism

2. प्रकार्यवाद functionalism

3. व्यवहारवाद Behaviorism

4. मनोविश्लेषण Psychoanalysis

5. गेस्टाल्टवाद Gestaltism

1. 🌺 संरचनावाद

“मनोविज्ञान” को “दर्शनशास्त्र” से अलग करके क्रमबद्ध अध्ययन करने का श्रेय “संरचनावाद” को ही जाता है ।

संरचनावाद के जनक / प्रवर्तक हैं :-

” *विलियम वुन्ट” और
“E. B. टिचनर”*

विलियम वुन्ट ने “लिम्पजिंग विश्वविद्यालय” , जर्मनी” में “1879” में मनोविज्ञान की “प्रथम प्रयोगशाला” स्थापित की।

विलियम वुन्ट ने मनोविज्ञान के स्वरूप को “प्रयोगात्मक” बनाया है।

विलियम वुन्ट ने मनोविज्ञान को “चेतन अनुभूति” का अध्ययन करने वाला माना है।

2. 🌺 प्रकार्यवाद

प्रकार्यवाद के जनक हैं :-

*विलियम जेम्स*

प्रकार्यवाद में “मानसिक क्रिया” और “अनुकूली व्यवहार” को महत्व दिया जाता है।

प्रकार्यवाद में व्यक्ति क्या करते हैं और , क्यों कोई व्यवहार करते हैं इसकी समझ विकसित होती है।

3. 🌺 व्यवहारवाद

व्यवहारवाद के जनक हैं :-

*J. B. वाटसन*

” मनोविज्ञान व्यवहार का विज्ञान है ।”

व्यवहार को आगे बढ़ाने का प्रयास निम्नलिखित 4 वैज्ञानिकों ने भी किया है जैसे :-

1. *C. L. हल*
2. *B. F. स्किनर*
3. *टॉलमैन*
4. *गुथरी*

4. 🌺 मनोविश्लेषण

मनोविश्लेषण के जनक हैं :-

” *ऑस्ट्रिया मनोवैज्ञानिक सिग्मंड फ्रायड* ”

इन्होंने व्यक्तित्व मापन की स्वप्न विश्लेषण विधि का प्रतिपादन किया।

5. 🌺 गेस्टॉल्टवादी

गेस्टाल्टवादी के जनक / प्रवर्तक हैं :-

1. *मैक्स बरदाईमर*
2. *कर्ट कौफ़्का*
3. *ओल्फगैंग कोहलर*

गेस्टाल्टवाद की स्थापना सबसे पहले 1912 में मैक्स बरदाईमर ने की थी।

गेस्टाल्ट का अर्थ होता है – पूर्णाकार
अर्थात जिसमें की व्यक्ति के चिंतन / स्मृति / अधिगम को समझकर आगे अध्ययन को समझा / बढ़ाया जाता है।

🌹✒️ *Notes by – जूही श्रीवास्तव ✒️🌹*

🌼🌼मनोविज्ञान के संप्रदाय🌼🌼 (community of psychology)

🌼एक जैसे विचारधारा वाले लोगों को इस संप्रदाय के अंतर्गत रखा जाता है।

🌼 मनोविज्ञान के संप्रदाय के अंतर्गत निम्न संप्रदाय आते है।

🌼1. संरचनावाद

🌼2. प्रकार्यवाद

🌼3. व्यवहारवाद

🌼4.मनोविश्लेषणवाद

🌼5. गेस्टाल्टवाद

🌼🌼🌼 संरचनावाद 🌼🌼🌼
मनोविज्ञान को दर्शन से अलग करके क्रम बंद अध्ययन करने का श्रेय संरचनावाद को ही जाता है।

🌼🌼 संरचनावाद के प्रवर्तक:-
🌼विलियम वूंट
🌼 इ.बी.टिंचर

🌼 विलियम वूंट ने मनोविज्ञान के स्वरूप को प्रयोगात्मक बनाया।

🌼 विलियम वूंट की प्रयोगशाला लिपजिंग विश्वविद्यालय,जर्मनी में 1879, में खोली गई।

🌼 यह मनोविज्ञान की प्रथम प्रयोगशाला थी ।

🌼 विलियम वूंट ने मनोवैज्ञानिक को-
“चेतन अनुभूति का अध्ययन करने वाला माना”

🌼🌼🌼 प्रकार्यवाद🌼🌼🌼

🌼🌼 प्रकार्यवाद संप्रदाय के जनक विलियम जेम्स है।

🌼🌼 इसमें “मानसिक क्रिया” “अनुकूल व्यवहार” को महत्ता दिया जाता है।

🌼🌼🌼नोट—
🌼इसमें व्यक्ति क्या करते हैं और क्यों कोई व्यवहार करता है इसकी समझ विकसित होती है।

🌼🌼🌼🌼 व्यवहारवाद🌼🌼🌼🌼

🌼व्यवहारवाद संप्रदाय के जनक J. B. Watson है।

🌼व्यवहारवाद को आगे बढ़ाने का श्रेय–
हल, स्किनर, टॉलमैन,गुथरी को दिया जाता है।

🌼🌼🌼 मनोविश्लेषणात्मक🌼🌼🌼

🌼 इस संप्रदाय के जनक सिगमंड फ्रायड है।

🌼 इन्होंने व्यक्तित्व मापन की “स्वप्न विश्लेषण विधि” का प्रतिपादन किया।

🌼🌼🌼 गेस्टाल्टवादी🌼🌼🌼

🌼गेस्टाल्ट वादी में कोफ्क़ा, कोहलर और वरदाईमर का नाम आता है।

🌼 गेस्टाल्टवादी का अर्थ पूर्णआकार होता है।

Notes By manjari soni 🌼🌼

🏵️ मनोविज्ञान के संप्रदाय 🏵️
(Community of psychology)
🏵️👉 एक जैसी विचारधारा वाले लोगों को एक संप्रदाय में रखा जाता है।
🏵️👉 मनोविज्ञान के संप्रदाय—
🏵️1•संरचनावाद (structuralism)
🏵️2•प्रकार्यवाद (functionalism)
🏵️3•व्यवहारवाद (behaviourism)
🏵️4•मनोविश्लेषण (psychoanalysim)
🏵️5•गेस्टाल्टबाद (gastaltism)
🏵️1-संरचनावाद:-
मनोविज्ञान को दर्शनशास्त्र से अलग करके क्रमबद्ध अध्ययन करने का श्रेय संरचनावाद को जाता है।
🔹संरचनावाद के प्रवर्तक “William bunt” और “E.B टिचनर”
🔸 William bunt ने मनोविज्ञान के स्वरूप को प्रयोगात्मक बनाया।
🔹 William bunt की प्रयोगशाला लिपजिंग विश्वविद्यालय, जर्मनी में 1879में स्थापित हुई यह मनोविज्ञान की प्रथम प्रयोगशाला थी।
🔹 William bunt ने मनोविज्ञान को ‘चेतन अनुभूति का अध्ययन’ करने वाला माना है।
🏵️2-प्रकार्यवाद:-
प्रकार्यवाद संप्रदाय के जनक विलियम जेम्स है।
🔸 इसमें ‘मानसिक क्रिया’ ‘अनुकूली’ व्यवहार को महत्व दिया जाता है।
नोट:—इसमें व्यक्ति क्या करते हैं और क्यों कोई व्यवहार करते हैं इसका पता चल जाता है।
🏵️3-व्यवहारवाद:-
व्यवहारवाद संप्रदाय के जनक “जे बी वाटसन” को माना जाता है।
उन्होंने कहा कि मनोविज्ञान व्यवहार का विज्ञान है ।
व्यवहारवाद को आगे बढ़ाने का प्रयास सी.एल.हल, Skinner, टोलमैन, गुथरी ने किया।
🏵️4-मनोविश्लेषण:-
मनोविश्लेषण संप्रदाय के जनक सिगमंड फ्रायड है।
🔸 इन्होंने व्यक्तित्व मापन की स्वप्न विश्लेषण विधि का प्रतिपादन किया।
🏵️ 5-गेस्टाल्टबादी:-
🔹गेस्टाल्ट वादी के जनक कोहलर, कोफ्का, वर्दीमर है।
🔸 गेस्टाल्टबाद का अर्थ:-
पूर्ण आकार या समग्र आकर/ चिंतन/ स्मृति/ अधिगम
1912 में वर्दीमर ने सबसे पहले गेस्टाल्ट बादी की शुरुआत की फिर इसके बाद कोहलर, कोफ्का आकर शामिल हुए थे।

🔹🔸🔹
🏵️🌸🏵️✍️ Notes by≈Vinay Singh Thakur

🤔🤔🤔🤔🤔मनोविज्ञान के संप्रदाय🤔🤔🤔🤔( community of psychology)

मनोविज्ञान के 5 संप्रदाय हैं
1 संरचनावाद (structuralism)
2 प्रकार्यवाद (functionalism)
3 व्यवहारवाद (behaviourism)
4 मनोविश्लेषण(psyenanlisis)
5 गेस्टाल्टवाद(gestaltism)

💠💠💠💠 संरचनावाद💠💠💠💠💠💠
मनोविज्ञान को दर्शनशास्त्र से अलग करके क्रमबद्ध अध्ययन करने का श्रेय संरचनावाद को जाता है
संरचनावाद के प्रवर्तक
1 विलियम wynt
2 EB tichner

विलियम wynt ने मनोविज्ञान के स्वरूप को प्रयोगात्मक बताया है
इन्होंने मनोविज्ञान को चेतन अनुभूति का अध्ययन करने वाला माना है
सन 1879 में जर्मन मनोवैज्ञानिक विलियम wynt लिपजिंग में बुद्धि मापन के लिए मनोवैज्ञानिक प्रयोगशाला स्थापित की

💠💠💠💠💠 प्रकार्यवाद💠💠💠💠💠
प्रकार्यवाद संप्रदाय के जनक विलियम जेम्स हैं इसमें मानसिक क्रिया अनुकूल व्यवहार को महत्व दिया जाता है

नोट:- इसमें व्यक्ति क्या करते हैं और क्यों कोई व्यवहार करते हैं इसकी समझ विकसित होती है

💠💠💠💠💠 व्यवहारवाद 💠💠💠💠💠

व्यवहारवाद संप्रदाय के जनक JB watson है
मनोविज्ञान त्यौहार का विज्ञान है
इसे आगे बढ़ाने का प्रयास किया
हल स्किनर टोलमैन गुथरी

💠💠💠💠 मनोविश्लेषण 💠💠💠💠

मनोविश्लेषण संप्रदाय के जनक सिगमंड फ्रायड हैं
इन्होंने व्यक्तित्व मापन की सपने विश्लेषण विधि का प्रतिपादन किया

💠💠💠💠गेस्टाल्टवादी 💠💠💠💠

गेस्टाल्ट का मतलब पूर्ण आकार ( पूर्णाकार)या समग्र आकार होता है
ऐसे तीन वैज्ञानिकों ने मिल कर दिया कोफ्ता Kofta Kolar vardaimar

note ;:- इसकी शुरुआत सबसे पहले 1912 में vardaimar ने की थी

💠💠💠💠sapna sahu 💠💠💠💠

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.