Date- 03/06/2021

Time- 9.00 am

🌸🌸 व्यक्तित्व का स्वभाव के आधार पर शेल्डन का वर्गीकरण  

👨 विरेरोटॉनिक ➖ मस्तमौला, खाना- पीना पसंद, आराम करना पसंद, प्रेम पसंद

👨 सोमेटोटोनिक ➖ कर्मठ, शक्तिशाली, साहसी, स्पष्ट -भाषी, अधिक प्रिय

👨 सेरिब्रो टॉनिक ➖ हैरान, परेशान, दुःखी, संकोची, शर्मीले, अंतर्मुखी

🌸 हिप्पोक्रेटस का वर्गीकरण

     👉 द्रव्य व स्वभाव के आधार पर

👨 कम प्रवत्ति वाले (- + ) ➖ सुस्त, चिड़चिड़ा, संवेगात्मक रूप से कमजोर, शरीर से शक्तिशाली ,रूधिर की मात्रा अधिक आशावादी आदि, 

👨 काले पित्त वाले ( – + ) ➖ निराशावादी शक्तिहीन दुखी शारीरिक व संवेग से कमजोर

 👨 पीले पित्त वाले ( – – ) ➖ शारीरिक और संवेगात्मक रूप से स्थिर और संतुलित

👨 अधिक रुधिर वाले ( + + ) ➖ संवेगात्मक रूप से सशक्त लेकिन अंदर से कमजोर

🌸 समाजशास्त्री के आधार पर वर्गीकरण

👨‍🏫 स्प्रिंगर ने इसे 6 भागों में बांटा

1.   सैद्धांतिक प्रवृत्ति वाले

2. राजनैतिक

3.  आर्थिक

4. सौंदर्य

5. धार्मिक

6.  सामाजिक

👨‍🏫  युंग के अनुसार वर्गीकरण ➖

1.  अंतर्मुखी ➖ लेखक एकांत प्रिय विचारशील

2.  बहिर्मुखी➖ शिक्षक नेता

3.  अभय मुखी ➖ ऊपर के दोनों अंतर्मुखी और बहिर्मुखी

🌸 भारतीय दृष्टिकोण से वर्गीकरण

 1. सतोगुण➖ ईश्वर व धर्म में विश्वास करने वाले

 2. रजोगुण  ➖कर्म में विश्वास करने वाले

3. तमोगुण ➖सुख प्राप्ति, बिलासी प्रवृत्ति

🌸 आधुनिक दृष्टिकोण से वर्गीकरण ➖

 1.भाव शील ➖हर कार्य को भाव के आधार पर करते हैं

2. कर्मशील ➖कर्म में  विश्वास

3. विचारशील ➖हर कार्य को विचार करने वाला 

📝📝नोटस बाय ➖ निधि तिवारी🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿

शेल्डन का वर्गीकरण

1. आधार -शारीरिक संरचना

प्रकार-3

1. गोलाकार /एडोमोरफिक-शारीरिक संतुलन स्वस्थ फुर्तीला

2. आयताकार/ मिसोमोर्फिक – बीच वाले

3. लंबाकार/ एक्टोमोर्फिक -शक्तिहीन

2. आधार-स्वभाव

प्रकार-3

1. विसेरो टॉनिक-मस्त मौला, खाना पीना पसंद ,आराम करना पसंद ,प्रेम पसंद

2. सोमेटो टॉनिक-कर्मठ, शक्तिशाली, साहसी, स्पष्ट भाषी, अधिक प्रिय

3. सेरिब्रो टॉनिक -हैरान,परेशान ,दुखी ,संकोची, शर्मीले अंतर्मुखी

हिप्पोक्रेट्स का वर्गीकरण

आधार- स्वभाव और द्रव्य

प्रकार-4

1. कफ  प्रवृत्ति वाले( स्वभाव ,द्रव्य )( –  ,+)-सुस्त, चिड़चिड़ा, संवेगात्मक रूप से कमजोर

शरीर से शक्तिशाली ,रुधिर की मात्रा अधिक ,आशावादी

2. काले पित्त वाले (-,- )-निराशावादी शक्तिहीन दुखी वह शारीरिक और संवेगात्मक रूप से कमजोर

3. पीले पित्त वाले (+,+)- शारीरिक और संवेगात्मक रूप से स्थिर और संतुलित

4. अधिक रुधिर वाले (+,-)- संवेगात्मक रूप से सशक्त लेकिन अंदर से कमजोर

समाजशास्त्र के आधार पर वर्गीकरण

स्प्रैंगर का वर्गीकरण

प्रकार -6

1. सैद्धांतिक

2. सामाजिक

3. राजनीतिक

4. सौंदर्यात्मक 

5. आर्थिक

6. धार्मिक

जुंग या युंग का वर्गीकरण

प्रकार -3

1. अंतर्मुखी- लेखक एकांत प्रिय विचारशील

2. बहिर्मुखी -शिक्षक नेता

3. उभयमुखी  -ऊपर के दोनों

भारतीय दृष्टिकोण से वर्गीकरण 

प्रकार- 3

1. सतोगुणी-ईश्वर व धर्म में विश्वास करने वाला

2. रजोगुणी- कर्म में विश्वास करने वाला

3. तमोगुणी- सुख प्राप्ति विलासी प्रवृत्ति वाले

आधुनिक दृष्टि से वर्गीकरण

प्रकार -3

1. भावशील-हर कार्य को भाव के आधार पर करते हैं

2. कर्मशील- कर्म में विश्वास

3. विचारशील -हर कार्य को विचार से करने वाला

Notes by Ravi kushwah

स्वभाव के आधार पर 

      शेल्डन का वर्गीकरण 

💥💥💥💥💥💥💥💥

3 / 6 / 2021

9 – 10 am.

शेल्डन ने स्वभाव के आधार पर व्यक्तित्व का वर्गीकरण निम्नलिखित तीन प्रकार से किया है  :-

👉  1.  विसेरोटॉनिक  :-

इसमें ऐसे व्यक्तित्व वाले व्यक्ति शामिल होते हैं जो –

मस्त – मौला होते हैं ;

खाना-पीना आदि पसंद करने वाले होते हैं ;

आराम पसंद करने वाले होते हैं ;

प्रेम / आनंद / प्रशन्नता  आदि पसंद करने वाले होते हैं।

👉  2.  सोमेटोटॉनिक  :-

इसमें ऐसे व्यक्तित्व वाले व्यक्ति शामिल होते हैं जिनमें –

कर्मठ

शक्तिशाली 

साहसी 

स्पष्टभाषी 

अधिकप्रिय  ,  आदि व्यक्तित्व के गुण होते हैं।

👉 3.  सेरिब्रोटॉनिक  :-

इसमें ऐसे व्यक्तित्व वाले व्यक्ति शामिल होते हैं जो –

हैरान-परेशान 

दुखी 

संकोची 

शर्मीले 

अंतर्मुखी  ,   आदि व्यक्तित्व के होते हैं।

🌺🌺हिप्पोक्रेट्स के अनुसार व्यक्तित्व का वर्गीकरण

🌷द्रव्य और स्वभाव के आधार पर   –   [ 4 प्रकार ]

👉  1.  कफ प्रवृत्ति वाले     [  –  ,  +  ]

🍁  ( – )  सुस्त , चिड़चिड़े , संवेगात्मक रूप से कमजोर       व्यक्तित्व वाले व्यक्ति।

🍁( + )  शरीर से शक्तिशाली , रुधिर (रक्त , blood )की मात्रा अधिक , आशावादी  व्यक्तित्व वाले व्यक्ति।

👉  2.  काली पित्त  वाले    [ –  ,  – ]

निराशावादी , शक्तिहीन  , दुखी व शारीरिक और संवेगात्मक रूप से कमजोर व्यक्तित्व वाले व्यक्ति

👉  3.  पीले पित्त  वाले   [ +  ,  + ] 

शारीरिक और संवेगात्मक रूप से स्थिर व संतुलित व्यक्तित्व वाले व्यक्ति

👉  4.  अधिक रुधिर वाले  [ +  ,  – ]

संवेगात्मक रूप से सशक्त लेकिन अंदर से कमजोर

अर्थात ऐसे व्यक्तित्व वाले व्यक्ति जो कि आपको सामने से संवेगात्मक रूप से सशक्त / कठोर प्रदर्शित होंगे लेकिन अकेले में कमजोर दिल वाले होते हैं अर्थात अकेले में रो देने वाले परेशान हो जाने वाले व्यक्ति।

 हालांकि यहां जो हिप्पोक्रेट्स ने ( +)  और  ( – )  चिन्हों को प्रदर्शित किया है जिसका मतलब है की कुछ व्यक्ति बहुत नकारात्मक व्यक्तित्व वाले होते हैं और कुछ बहुत सकारात्मक व्यक्ति वाले होते हैं परंतु कोई भी व्यक्ति ना तो पूरी तरह नकारात्मक होता है और ना ही सकारात्मक होता है बल्कि दोनों व्यक्तित्व का  समावेश होता है।

🌺🌺 समाजशास्त्री के आधार पर वर्गीकरण

👉  स्प्रेंगर   ने समाजशास्त्र के आधार पर 6 वर्गों में व्यक्तित्व का वर्गीकरण किया है जैसे :-

1. सैद्धांतिक प्रवृत्ति वाले व्यक्ति 

2.  सामाजिक प्रवृत्ति वाले व्यक्ति 

3.  राजनैतिक प्रवृत्ति वाले व्यक्ति

4.  सौंदर्यात्मक प्रवृत्ति वाले व्यक्ति

5.  आर्थिक प्रवृत्ति वाले व्यक्ति

6.   धार्मिक प्रवृत्ति वाले व्यक्ति

🌺🌺 युंग ने निम्नलिखित 3 वर्गों के आधार पर  व्यक्तित्व का वर्गीकरण किया है :-

👉  1.  अंतर्मुखी व्यक्तित्व वाले व्यक्ति :-

इसमें लेखक , एकांतप्रिय व्यक्ति , विचारशील व्यक्ति आदि आते हैं।

👉  2.  बहिर्मुखी व्यक्तित्व वाले व्यक्ति :-

इसमें  शिक्षक ,  नेता आदि आते हैं।

👉  3.  अभयमुखी व्यक्तित्व वाले व्यक्ति :-

इसमें उपर्युक्त दोनों प्रकार के व्यक्तित्व वाले व्यक्ति आते हैं।

🌺🌺 भारतीय दृष्टिकोण के आधार पर निम्नलिखित तीन प्रकार से व्यक्तित्व का वर्गीकरण किया गया है :-

👉 1 सतोगुणी :-

ईश्वर व धर्म में विश्वास करने वाले

अर्थात सतोगुण  व्यक्तित्व वाले व्यक्ति नैतिक गुणों से युक्त होते हैं।

👉 2.  रजोगुणी  :-

कर्म में विश्वास करने वाले 

रजोगुणी व्यक्तित्व वाले व्यक्ति में अच्छाई व  बुराई दोनों का समावेश होता है । अर्थात गृहस्थ / मनुष्यता और कर्म के आधार पर जीने वाले व्यक्ति।

👉 3.  तमोगुणी :-

सुख प्राप्ति , भोग-विलास प्रवृत्ति वाले

अर्थात अमानवीय व्यवहार करने वाले व्यक्ति।

🌺 🌺 आधुनिक दृष्टि के आधार पर निम्नलिखित तीन प्रकार से व्यक्तित्व का वर्गीकरण किया गया है :-

👉 1. भावशील :-

 ऐसे व्यक्ति प्रत्येक कार्य को भाव (emotion) के आधार पर करते हैं ।

👉 2.  कर्मशील :-

ऐसे व्यक्ति कर्म ( काम ) करने में विश्वास करते हैं।

👉 3.  विचारशील :-

ऐसे व्यक्ति प्रत्येक कार्य को अत्यधिक ( आवश्यकता से अधिक )  विचार करके ही करते हैं।

✍️✍️Notes by  जूही श्रीवास्तव✍️✍️

Date -03/06/21

Time- 09.00

         🌼🌸 व्यक्तित्व🌸🌼

 👨🏻‍💼शैल्डन के आधार पर स्वभाव का वर्गीकरण

1- 🌸 विसेरोटाॅनिक➖

  मस्त -मौला ,खाना पीना पसंद, आराम करना, प्रेम पसंद

2-🌸 सोमेटोटाॅनिक➖

  कर्मठ, शक्तिशाली, साहसी, स्पष्ट भाषी, अधिक प्रिय

3-🌸 सेरिब्रोटाॅनिक➖

 हैरान-परेशान, दुखी ,संकोची, शर्मिला , अंतर्मुखी

🌼 हिप्पोक्रेटिक का वर्गीकरण

🌸द्रव्य स्वभाव के आधार पर➖

1-🟣 कफ प्रवृत्ति (-,+)

सुस्त, चिड़चिड़ा, संवेगात्मक रूप से कमजोर ,शरीर से शक्तिशाली, रुधिर की मात्रा अधिक,

 आशावादी

2- 🟣 काले पित्त वाले➖

    निराशावादी, शक्तिहीन ,दुखी, व शारीरिक और  संवेगात्मक रूप से कमजोर

3- 🟣 पीले पित्त वाले➖

  शारीरिक और संवेगात्मक रूप से स्थिर और संतुलित

4-🟣 अधिक रुधिर वाले (+,-)

  संवेगात्मक रूप से सशक्त लेकिन अंदर से कमजोर

🌼☘️ समाजशास्त्री के आधार पर वर्गीकरण🌼☘️

       🌸  स्प्रेन्जर के आधार पर➖

      ☘️ सैद्धांतिक प्रवृत्ति वाले

       ☘️ सामाजिक

        ☘️ राजनीतिक

          ☘️ सौंदर्य

            ☘️आर्थिक, धार्मिक

🌸युंग के आधार पर➖

  ☘️ अंतर्मुखी➖

अंतर्मुखी व्यक्तित्व है जो अपने जीवन शक्ति के अंदर से संचित रखता है और आत्म केंद्रित होता है।

       इसमें लेखक ,एकांत प्रिय, विचारशील व्यक्ति आते हैं

☘️ बहिर्मुखी➖

   बहिर्मुखी व्यक्ति अपने जीवन शक्ति का संचार बाहर क्यों करते हैं यह मिलनसार और समाज केंद्रित होते हैं 

     इसमें शिक्षक, नेता जैसे व्यक्ति आते हैं।

☘️ उभयर्मुखी➖

वह व्यक्ति जिसमें अंतर्मुखी और बहिर्मुखी दोनों श्रेणियों की विशेषताएं पाई जाती हैं वह उन्हें उभयर्मुखी  कहलाते हैं।

🌼🌸भारतीय दृष्टिकोण से वर्गीकरण🌸🌼

 इन्हें तीन प्रकार से वर्गीकृत किया गया है

1-☘️ सतोगुणी➖ ईश्वर व धर्म पर विश्वास करने वाले

2-☘️ रजोगुणी➖ कर्म में विश्वास रखने वाले

3-☘️ तमोगुणी➖ सुख प्राप्ति, विलासी प्रवृत्ति

🌼🌸 आधुनिक दृष्टिकोण से वर्गीकरण🌸🌼

1-☘️ भावशील➖ हर कार्य को भाव के आधार पर करते हैं

2-☘️ कर्मशील➖ कर्म पर विश्वास करते हैं

3-☘️ विचारशील➖ हर कार्य  को विचार से करने वाले होते हैं

✍🏻📚📚 Notes by….. Sakshi Sharma📚📚✍🏻

स्वभाव  के आधार पर शैल्डन का वर्गीकरण 

1) विसेरोटॉनिक

 खाना पीना पसंद, मस्तमौला,आराम करना पसंद, प्रेम पसंद आदि |

सोमेरोटाॅनिक

कर्मठ, शक्तिशाली, साहसी ,स्पष्ट भाषी, अधिक प्रिय आदि |

2) सेरिब्रोटाॅनिक

 हैरान-परेशान ,दुखी, संकोची शर्मीली, अंतर्मुखी आदि |

हिप्पोक्रेट्स का वर्गीकरण

हिप्पोक्रेट्स ने द्रव्य या स्वभाव के आधार पर व्यक्तित्व का वर्गीकरण चार प्रकार से किया है—

1) कफ प्रवृत्ति वाले ( -, + )

ऋणात्मक-  सुस्त, चिड़चिड़ा, संवेगात्मक रूप से कमजोर, आदि |

धनात्मक– शरीर से शक्तिशाली, रूधिर की मात्रा अधिक, आशावादी |

3) काले पित्त वाले (-,-)

 निराशावादी, शक्तिहीन ,दुखी, शारीरिक व संवेगात्मक रूप से कमजोर |

3) पीले पित्त वाले (+,+)

शारीरिक और संवेगात्मक रूप से स्थिर और संतुलित  |

4) अधिक रुधिर वाले (+, -)

संवेगात्मक रूप से सशक्त लेकिन अंदर से कमजोर |

समाजशास्त्री के आधार पर व्यक्तित्व का वर्गीकरण

 स्प्रेंगर के अनुसार–6

 1) सैद्धांतिक 

2) आर्थिक

3) सामाजिक

4) राजनीतिक 

5) सौंदर्यात्मक 

6) धार्मिक |

युग के अनुसार — 3

1) अंतर्मुखी 

लेखक, एकांतप्रिय, विचारशील आदि |

2) बहिर्मुखी

 शिक्षक, नेता आदि |

3) उभयमुखी

लेखक, एकांतप्रिय, विचारशील शिक्षक , नेता  इत्यादि |

भारतीय दृष्टिकोण के आधार पर वर्गीकरण — 3

1) सतोगुणी

 ईश्वर व धर्म कार्य में विश्वास रखने वाला  |

2) रजोगुणी

कर्म में विश्वास रखने वाला |

3) तमोगुणी

 सुख प्राप्ति, बिलासी प्रवृत्ति आदि |

आधुनिक दृष्टिकोण के आधार पर वर्गीकरण — 3

1) भावशीव 

 से हर कार्य को भाव के आधार पर करने वाला |

2) कर्मशील

कर्म में विश्वास करने वाला |

3) विचारशील

 हर कार्य पर विचार करने वाला |

𝙉𝙤𝙩𝙚𝙨 𝙗𝙮 𝙍𝙖𝙨𝙝𝙢𝙞 𝙎𝙖𝙫𝙡𝙚

9.45 am 

स्वभाव के आधार पर शैल्डन का वर्गीकरण:-

1. विसेरोटॉनिक:-

        इसके अंतर्गत मस्त मौला ,खाना पीना पसंद ,आराम करना पसंद ,प्रेम व्यवहार आते हैं

2 सोमेरोटॉनिक:-

      इसके अंतर्गत कर्मठ, शक्तिशाली ,साहसी ,स्पष्ट भाषा ,अधिक प्रिय आते हैं।

3 सेरिबोटोनीक:-

       इसके अंतर्गत हैरान-परेशान, दुखी ,संकोची, अंतर्मुखी   आते हैं।

◼हिपोक्रेटल  का वर्गीकरण:-

द्रव्य व स्वभाव के आधार पर:-

• कफ प्रवृत्ति वाले(- +):-    

       _  सुस्त ,चिरचिरा, संवेगात्मक रूप से कमजोर

     +  शरीर से शक्तिशाली ,रुधिर की मात्रा ,रुधिर की मात्रा अधिक आशावादी,।

2) काले पीत वाले (- -):-

     निराशा, शक्तिहीन ,दुखी व शारीरिक और संवेगात्मक रूप से कमजोर।

3) पीले पीत वाले(++):-

      शारीरिक और संवेगात्मक रूप से स्थिर और संतुलित।

4) अधिक रुधिर वाले(+-):-

    संवेगात्मक रूप से सशक्त लेकिन अंदर से कमजोर।

समाजशास्त्री के आधार पर वर्गीकरण—

स्प्रेंगर :-

• सैद्धांतिक प्रवृत्ति वाले 

• सामाजिक

•  राजनैतिक

•  सौंदर्य

•  आर्थिक 

• धार्मिक

यूंग:-

• अंतर्मुखी :-(लेखक, एकांत प्रिय ,विचारशील )

• बहिर्मुखी:- (शिक्षक और नेता )     

• उभयमुखी:-(ऊपर के दोनों)

भारतीय दृष्टिकोण से वर्गीकरण

• सतोगुनी:- ( ईश्वर मुद्रा में विश्वास करने वाला)

• राजोगुनी:-(कर्म में विश्वास)

• तमोगुणी:-(सुख प्राप्ति, विलासी प्रवृती)

आधुनिक दृष्टिकोण से वर्गीकरण :-

• भावशील 🙁 हर कार्य को भाव के आधार पर करते हैं।)

• कर्मशील:-( कर्म में विश्वास)

• विचारशील :-(हर कार्य को विचारों से करने वाला)

      Notes by=Mahima🦚

🔆 स्वभाव के आधार पर शैल्डन का वर्गीकरण ➖

(1) विसेरोटाॅनिक – मस्त मौला , खाना पीना , पसंद , आराम करना , प्रेम 

(2) सोमेटोटाॅनिक – कर्मठ , शक्तिशाली , साहसी , स्पष्ट भाषी , अधिक प्रिय 

(3) सेरिब्रो टाॅनिक – हैरान , परेशान , दु:खी , संकोची , शर्मीले ,अन्तर्मुखी 

🔆हिप्पोक्रेटस का वर्गीकरण ➖ 

🔅द्रव्य व स्वभाव के आधार पर :- 

(1) कफ प्रवृत्ति वाले – 

 (-) सुस्त , चिड़चिडा, संवेगात्मक रूप से कमजोर |

(+) शरीर से शक्तिशाली , रूधिर की मात्रा अधिक  , आशावादी 

(2) काले पित्त वाले :- (-,-)

निराशावादी, शक्तिहीन , दुखी व शारीरिक और संवेगात्मक रूप से कमजोर |

(3) पिले पित्त वाले (+,+)

शारीरिक और संवेगात्मक रूप से स्थिर और संतुलित |

(4) अधिक रूधिर वाले (+,-) 

संवेगात्मक रूप से सशक्त लेकिन अंदर से कमजोर |

🔅समाजशास्त्री के आधार पर वर्गीकरण ➖

स्प्रेंगर – 

सैद्धान्तिक प्रवृत्ति वाले 

सामाजिक 

राजनैतिक

सौन्दर्य

आर्थिक

धार्मिक

🔅युंग ➖ 

(1) अंतर्मुखी – लेखक एकांत प्रिय विचार शील

(2) बहिर्मुखी – शिक्षक नेता 

(3) उभयर्मुखी – ऊपर के दोनो

🔅भारतीय दृष्टिकोण के आधार पर वर्गीकरण ➖

1) सतोगुणी

 ईश्वर व धर्म कार्य में विश्वास रखने वाला  |

2) रजोगुणी

कर्म में विश्वास रखने वाला |

3) तमोगुणी

 सुख प्राप्ति, बिलासी प्रवृत्ति आदि |

🔅आधुनिक दृष्टिकोण के आधार पर वर्गीकरण ➖

1) भावशीव 

 से हर कार्य को भाव के आधार पर करने वाला |

2) कर्मशील

कर्म में विश्वास करने वाला |

3) विचारशील

 हर कार्य को विचारों से करने वाले

✍️✍️Notes by ➖Ranjana Sen

व्यक्तित्व का वर्गीकरण

 सेल्डन का शारीरिक संरचना के आधार पर वर्गीकरण

 स्वभाव के आधार पर वर्गीकरण

1.  विसेरोट्रॉनिक – मस्त मौला, खाना पसंद, आराम पसंद, प्रेम पसंद

2. सेमेट्रोटॉनिक – कर्मठ, शक्तिशाली, साहसी, स्पष्ट भाषी, अधिक प्रिय

 3.सेरिब्रोटोनिक-  हैरान-परेशान ,दुखी ,संकोची ,शर्मीले, अंतर्मुखी

 हिप्पोक्रेट्स का वर्गीकरण

 द्रव्य स्वभाव के आधार पर

 A.कफ प्रवृत्ति वाले:-(- +)

  सुस्त, चिड़चिड़ा, संवेगात्मक रूप से कमजोर, शारीरिक बलवान, रुधिर की मात्रा अधिक, आशावादी 

B.काले पित्त वाले :- ( – – )

निराशावादी, शक्तिहीन,दुखी ,शारीरिक व संवेगात्मक रूप से कमजोर 

C.पीलीभीत वाले:- ( + + )

 शारीरिक व संवेगात्मक रूप से स्थिर व संतुलित 

D. अधिक रुधिर वाले:- (+ – ) संवेगात्मक रूप से सशक्त लेकिन अंदर से कमजोर 

समाजशास्त्र के आधार पर वर्गीकरण

 स्प्रिंगर 

1.सौंदर्यआत्मक 

2.धार्मिक

3. सैद्धांतिक 

4.सामाजिक 

5.आर्थिक 

6.राजनीतिक

 यूंग के अनुसार 

1.अंतर्मुखी

2. बहिर्मुखी 

3.उभयमुखी 

भारतीय दृष्टिकोण से वर्गीकरण

1. सतोगुण 

2.रजोगुण 

3.तमोगुण

 आधुनिक दृष्टिकोण से वर्गीकरण

1. भावशील 

2.कर्मशील 

3 विचारशील

Deepika Ray 

🙏🏻

व्यक्तित्व का स्वभाव के आधार पर शेल्डन का वर्गीकरण  :-

 विरेरोटॉनिक – मस्तमौला, खाना- पीना पसंद, आराम करना पसंद, प्रेम पसंद

 सोमेटोटोनिक – कर्मठ, शक्तिशाली, साहसी, स्पष्ट -भाषी, अधिक प्रिय

सेरिब्रो टॉनिक – हैरान, परेशान, दुःखी, संकोची, शर्मीले, अंतर्मुखी

हिप्पोक्रेटस का वर्गीकरण:- 

 द्रव्य व स्वभाव के आधार पर :-

 कम प्रवत्ति वाले (- + ) – सुस्त, चिड़चिड़ा, संवेगात्मक रूप से कमजोर, शरीर से शक्तिशाली ,रूधिर की मात्रा अधिक आशावादी आदि, 

काले पित्त वाले ( – + ) – निराशावादी शक्तिहीन दुखी शारीरिक व संवेग से कमजोर

  पीले पित्त वाले ( – – ) – शारीरिक और संवेगात्मक रूप से स्थिर और संतुलित

अधिक रुधिर वाले ( + + ) – संवेगात्मक रूप से सशक्त लेकिन अंदर से कमजोर

 समाजशास्त्री के आधार पर वर्गीकरण:-

 स्प्रिंगर ने इसे 6 भागों में बांटा:-

1.   सैद्धांतिक प्रवृत्ति वाले

2. राजनैतिक

3.  आर्थिक

4. सौंदर्य

5. धार्मिक

6.  सामाजिक

  युंग के अनुसार वर्गीकरण :-

1.  अंतर्मुखी – लेखक एकांत प्रिय विचारशील

2.  बहिर्मुखी – शिक्षक नेता

3.  अभय मुखी – ऊपर के दोनों अंतर्मुखी और बहिर्मुखी

भारतीय दृष्टिकोण से वर्गीकरण :-

 1. सतोगुण – ईश्वर व धर्म में विश्वास करने वाले

 2. रजोगुण  – कर्म में विश्वास करने वाले

3. तमोगुण – सुख प्राप्ति, बिलासी प्रवृत्ति

 आधुनिक दृष्टिकोण से वर्गीकरण :-

 1.भाव शील – हर कार्य को भाव के आधार पर करते हैं

2. कर्मशील – कर्म में  विश्वास

3. विचारशील – हर कार्य को विचार करने वाला 

Notes by:- Neha Kumari

🌸🙏🌸🙏🌸

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.