🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿 CDP UPTET PAPER I & II
DATE -20 MAY

🏵🏵 किशोरावस्था मे शारीरिक विकास 🏵🏵

🍁भार🍁

👉किशोर/किशोरी दोनों का भार बढ़ता है और भार का अंतर 25 पौंड होता है |

🍁 ऊँचाई🍁

👉16 वर्ष की आयु तक किशोरियाँ अधिकतम ऊंचाई ग्रहण कर लेती हैं | लेकिन किशोर 18 वर्ष तक या उसके बाद भी थोड़ा बहुत बढ़ता रहता है |

🍁सिर का आकार / मस्तिष्क का भार🍁

👉 सिर का आकार प्रौढ़ आकार ग्रहण कर लेता है |
👉भार – 1200-1400 ग्राम तक होता है |

🍁 दांत 🍁

👉 दांतो की संख्या 28 हो जाती है |
👉 इसके bad प्रज्ञा दांत ( अकल के दांत ) आने लगते है, इनकी संख्या चार होती है |
👉 ये किशोरावस्था के अंत या प्रौढ़अवस्था के प्रारंभ मे आते है |

🍁हड्डियाँ 🍁

👉 छोटी -छोटी हड्डियों के जुड़ने के कारण हड्डियों की संख्या 206 रह जाती है |

🍁धड़कन 🍁

👉अब ह्रदय की धड़कन 1 मिनट मे 72 बार धड़कती है |
👉अब यौन अंगो का सम्पूर्ण विकास हो जाता है |
👉 मांसपेशियों का कुल भार 44% हो जाता है | 🏵 मानसिक विकास🏵

👉मानसिक विकास का मतलब ज्ञान मे वृद्धि से है |

👉 मानसिक शक्ति, चिंतन, तर्क, समस्या समाधान, निर्णय लेना आदि का विकास मानसिक विकास में शामिल हैं |

🟢 टेलफोर्ड – शिशु जैसे- जैसे प्रतिदिन, प्रति सप्ताह, प्रति माह, प्रति वर्ष बढ़ता है उसकी शक्तियों मे परिवर्तन आ जाता है |

🍁 प्रथम सप्ताह 🍁

🟢 जॉन लॉक – जब शिशु का जन्म होता है तो उसका मस्तिष्क कोरे कागज़ के समान होता है जिस पर वह धीरे- धीरे अनुभव दिखता है |

🍁 दूसरा सप्ताह🍁

👉 शिशु प्रकाश और चमकीली वस्तु की तरफ आकर्षित होने लगता है |

🍁प्रथम माह 🍁

👉 शिशु को कष्ट या भूख का अनुभव होने पर अलग – अलग प्रकार से रोता है |

🍁द्वितीय माह🍁

👉 शिशु आवाज सुनने के लिए सिर घुमाने लगता है | वह भी ध्वनि उत्पन्न करता है |

🍁 तृतीय माह🍁

👉 बच्चा अपनी माँ को पहचानने लगता है |

🎄🎄 📝📝 Notes BY – निधि तिवारी🌿🌿

☘☘☘☘☘☘☘☘☘☘

🌏 किशोरावस्था में शारीरिक विकास ➖

🧿 भार ➖ बालक और बालिकाओं दोनों का भार बढ़ता है और भार में 25 पौंड का अंतर बढ़ जाता है |

🧿 ऊंचाई ➖ 16 वर्ष की आयु तक बालिकाएं अधिकतम ऊंचाई ग्रहण कर लेती है लेकिन बालक 18 वर्ष तक उसके बाद भी थोड़ा बहुत बढ़ते रहते हैं |

🧿 सिर का आकार और मस्तिष्क का भार ➖

सिर का आकार प्रौढ़ आकार ग्रहण कर लेता है तथा भार 1200-1400 ग्राम जाता है |

🧿 दांत ➖

दांतों की संख्या 28 हो जाती है इसके बाद प्रज्ञा दांत अर्थात अक्ल के दांत आने लगते हैं जिनकी संख्या 4 होती है |
ये किशोरावस्था के अंत या प्रौढ़ावस्था के प्रारंभ में आते हैं |

🧿 हड्डियां➖

छोटी-छोटी हड्डियों के जुड़ने के कारण हड्डियों की संख्या 206 हो जाती है |

🧿 धड़कन➖

हृदय की धड़कन 1 मिनट में 72 बार धड़कती है |

🧿 किशोरावस्था के अंत तक यौन अंगों का संपूर्ण विकास हो जाता है |

🧿 मांस पेशियों का भार कुल भार का 44% हो जाता है •

🌏 मानसिक विकास ➖

मानसिक विकास का अर्थ ज्ञान में वृद्धि से है अर्थात नए परिस्थिति में ज्ञान को काम में लाने की क्षमता ही मानसिक विकास है |

मानसिक शक्ति, चिंतन ,तर्क, समस्या समाधान ,निर्णय लेना आदि का विकास मानसिक विकास में शामिल होता है |

🧿 टेलफोर्ड ➖

शिशु जैसे-जैसे प्रतिदिन प्रतिसप्ताह, प्रतिमाह प्रतिवर्ष बढ़ता है उसकी शक्तियों में परिवर्तन आ जाता है 1

🧿 प्रथम सप्ताह ➖ जानलाॅक➖ जब शिशु का जन्म होता है तो उसका मस्तिष्क कोरे कागज के समान होता है जिस पर वह धीरे-धीरे अनुभव दिखाता है |

🧿 द्वितीय सप्ताह ➖

शिशु प्रकाश और चमकीली वस्तु की तरह आकर्षित होता है |

🧿 प्रथम माह➖

प्रथम माह में कष्ट या सुख का अनुभव होने पर अलग-अलग प्रकार से रोता है |

द्वितीय माह➖

शिशु आवाज सुनने के लिए सिर घुमाने लगता है तथा वह भी ध्वनि उत्पन्न करता है |

🧿 तीसरे माह ➖

तीसरे में बच्चा अपनी मां को पहचानने लगता है |

नोट्स बाय➖ रश्मि सावले

☘🌼🌻🌺🌸💐☘🌼🌻🌺🌸💐☘🌻🌻🌺🌻☘🌻🌺💐🌸🌻🌺

Date-20/05/2021
Batch-UPTET
Time-9:@m
Topic-किशोरावस्था मे शारीरिक विकास

नोट÷लड़कियों में लड़कों से 2 वर्ष पहले परिपक्वता आ जाती है।

किशोरावस्था में भार
किशोर व किशोरी दोनों ही का भार बढ़ता है और भार में लगभग 25 पाउंड का अंतर होता है।

किशोरावस्था में ऊंचाई
16 वर्ष की उम्र तक किशोरियों की अधिकतम ऊंचाई ग्रहण कर ली जाती है,
किंतु किशोर 18 वर्ष तक या उसके बाद भी थोड़ा बहुत बढ़ते रहते हैं।

किशोरावस्था में सिर का आकार या मस्तिष्क का भार

सिर का आकार प्रौढ़ आकार ग्रहण कर लेता है , अर्थात सिर के आकार में किसी भी प्रकार का परिवर्तन नहीं होता है।

सिर का भार-12०० ग्राम से 14०० ग्राम तक हो जाता है।

किशोरावस्था में दांत
दांतो की संख्या किशोर व किशोरियों में 28 हो जाती है,
32 में से चार अन्य दांत जो बचे हुए रहते हैं जिनको” प्रज्ञाधात”या अक्ल के दांत बोलते हैं वह किशोरावस्था के अंत में या प्रौढ़ावस्था के प्रारंभ में आ जाते हैं।

किशोरावस्था में हड्डी

बाल्यावस्था में हड्डियां छोटी-छोटी हो जाने के कारण उनकी संख्या बढ़ जाती है किंतु किशोरावस्था में छोटी-छोटी हड्डियों के जुड़ जाने के कारण हड्डियों की संख्या घटकर 206 ही रह जाती है।

किशोरावस्था में हृदय की धड़कन
किशोरावस्था में हृदय की धड़कन 1 मिनट में 72 बार धड़कती है।

बाल्यावस्था में यौन अंगों का विकास शुरू हुआ रहता है किंतु किशोरावस्था में वह विकास पूर्ण हो जाता है।

किशोरावस्था में मांसपेशियों का कुल भार का 44% ही रह जाता है।

किशोरावस्था में मानसिक विकास

किशोरावस्था में मानसिक विकास का मतलब ज्ञान में वृद्धि से है और साथ ही नए परिस्थिति में ज्ञान को उपयोग में लाने की क्षमता से भी है अर्थात इसी समस्या को सुलझा ने या हल करने के लिए प्राप्त किए गए ज्ञान का उपयोग करना।

किशोरावस्था में मानसिक शक्ति, चिंतन, समस्या समाधान, निर्णय लेना,आदि विकास मानसिक विकास में शामिल होता है।

टेलफोर्ड का कथन-शिशु जैसे जैसे दिन प्रतिदिन प्रतिसप्ताह प्रतिमाह प्रतिवर्ष बढ़ता है उसकी शक्तियों में परिवर्तन आता है।

कुछ महत्वपूर्ण तथ्य निम्नलिखित है÷

प्रथम सप्ताह
जान लाक (तबुला रासा के अनुनायी)जब शिशु का जन्म होता है तो उसका मस्त कोरे कागज के समान होता है जिस पर धीरे धीरे अनुभव दिखता है।

दूसरा सप्ताह
दूसरे सप्ताह में शिशु प्रकाश और चमकीली वस्तु की तरफ़ आकर्षित होने लगता है।

प्रथम माह- शिशु को कष्ट यादों का अनुभव होने पर वह अलग-अलग प्रकार से रोदन करता है।

द्वितीय माह-शिशु आवाज सुनने के लिए सिर घुमाने लगता है और वह भी तरह-तरह की ध्वनि उत्पन्न करता है।

तीसरा माह-इस माह में शिशु अपनी मां को पहचानने लगता है और दूर होने पर उनसे रोने लगता है वापस आने पर खुशनुमा मुस्कान करने लगता है।

✍️✍️हस्तलिखित-शिखर पाण्डेय ✍️✍️

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.