🏵🏵🏵🏵🏵🏵
Date: 19may
अधिगम में अभिप्रेरणा

बच्चे को पढ़ाते वक़्त अभिप्रेरणा एक बहुत बड़ी समस्या मानी जाती हैं
प्रत्येक मानवीय कार्य के तह में किसी ना किसी रूप में अभिप्रेरणा अवश्य रहती है|
अभिप्रेरणा के विभिन्न रूप
🍁सीखने की सुनहरी सड़क ( स्वर्ण पथ)
🍁सीखने का हृदय
🍁अधिगम की अनिवार्य स्थिति
🍁अधिगम का प्रमुख कारक

अध्यापक की यह बड़ी समस्या ही बच्चे के रूप को समझे, आवश्यकता को समझे, बच्चे के मनोरथ और शौक को समझे, और उन कारको के मद्देनजर निर्देशन देने की कोशिश करें|

MOTIVATION शब्द की उत्पत्ति Motum शब्द से हुई— Motum शब्द लटिन भाषा का शब्द है इसका अर्थ है insight to action ( गति karna)

विद्यार्थी में पढाई मे या अन्य कार्य में रुचि पैदा करना या जोश भरने की, कला शिक्षक के पास होना, अभिप्रेरित करने मे मदद करता है|
इच्छा ➡ऊर्जा➡प्रेरक शक्ति ➡गतिशील

🏵अभिप्रेरणा की महत्वपूर्ण परिभाषायें 🏵
🟢स्किनर– विद्यालय मे सीखने के लिए अभिप्रेरणा का अर्थ अपेक्षित व्यवहार के लिए प्रोत्साहित करना, आरंभ करना, जारी रखना तथा दिशा प्रदान करना होता हैं|

🟢गुड— अभिप्रेरणा क्रिया को प्रारंभ करने, जारी रखने और नियंत्रित रखने की प्रक्रिया हैं|

🟢 वूडवर्थ– अभिप्रेरणा व्यक्ति की वह दशा हैं जो किसी निश्चित उद्देश्य की पूर्ति के लिए निश्चित व्यवहार को स्पष्ट करती हैं|

🟢गेट्स व अन्य— अभिप्रेरणा प्राणी के भीतर की वह शारीरिक और मनोवैज्ञानिक दशाये है, जो उसे विशेष प्रकार की क्रिया करने के लिए प्रेरित करती हैं|

🟢जॉनसन–अभिप्रेरणा सामान्य क्रियाकलापो का प्रभाव हो, जो प्राणी के व्यवहार को इंगित और निर्देशित करती है

🟢 गिल्फोर्ड— अभिप्रेरणा एक विशेष आंतरिक कारक या दशा हैं, जिसमे क्रिया को आरंभ करने एवं बनाये रखने की प्रक्रिया होती हैं|

🟢बर्नार्ड— अभिप्रेरणा द्वारा उन विधियों की खोज की जाती है, जो बालक को विद्यालय द्वारा प्रदत्त अधिगम के लिए इच्छुक बनाती है|

🟢पी. टी. युंग— प्रेरणा व्यवहार को जागृत करने, क्रिया के विकास को संबोधित करने और क्रिया के तरीको को नियमित करने की प्रक्रिया हैं|

🏵🍁अभिप्रेरणा के विभिन्न परिभाषा को विश्लेषण करने पर निम्नलिखित तथ्य स्पष्ट होते है|🍁🏵

  1. प्रेरणा व्यक्ति के व्यवहार को उत्तेजित करते है, व्यवहार का संचालन प्रेरणा के द्वारा ही होता है|
  2. प्रेरणा व्यक्ति के अंदर शक्ति परिवर्तन से प्रारंभ होती है|
  3. प्रेरणा क्रियाशीलता का धोतक ( संकेत) होता है|
  4. प्रेरणा मे आप भावनात्मक प्रदर्शन करते है जो कि संवेगों से जुड़ी होती है|
  5. प्रेरणा साधन है साध्य नही|
  6. प्रेरणा एक शक्ति है जो क्रिया को प्रारंभ करती है|
  7. प्रेरणा प्राणी की आंतरिक अवस्था है|
  8. प्रेरणा एक कल्पनात्मक प्रक्रिया है जो व्यवहार को निर्धारित करती है|
  9. प्रेरणा पर शारीरिक, मानसिक, बाह्य और आंतरिक परिस्तिथि प्रभाव पड़ता है|

🌿🌿 Notes by 📝📝निधि तिवारी🌿🌿

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.