इतिहास के अंतर्गत हम जिस विषय का अध्ययन करते हैं उसमें अब तक घटित घटनाओं या उससे संबंध रखनेवाली घटनाओं का कालक्रमानुसार वर्णन होता है। दूसरे शब्दों में मानव की विशिष्ट घटनाओं का नाम ही इतिहास है। या फिर प्राचीनता से नवीनता की ओर आने वाली, मानवजाति से संबंधित घटनाओं का वर्णन इतिहास है।इन घटनाओं व ऐतिहासिक साक्ष्यों को तथ्य के आधार पर प्रमाणित किया जाता है। इस लेख में हम सामान्य जागरूकता के लिए 1885 से 1947 तक भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन की घटनाओं का कालक्रम दे रहे हैं।

1885 से 1947 तक भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन की घटनाओं का कालक्रम

1885 ईस्वी

1. भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का गठन बम्बई (मुंबई) में 28 दिसंबर को आयोजित हुआ था जिसके प्रथम सत्र में 72 प्रतिनिधि उपस्थित थे।

2. लॉर्ड रैंडोल्फ चर्चिल भारत के सचिव बने।

1905 ईस्वी

1. बंगाल विभाजन के निर्णय की घोषणा 19 जुलाई 1905 को भारत के तत्कालीन वाइसराय लॉर्ड कर्ज़न द्वारा की गयी थी।

1906 ईस्वी

1. ब्रिटिश भारत ने आधिकारिक तौर पर भारतीय मानक समय (Indian Standard Time) को अपनाया था।

2. दक्षिण अफ्रीका में अहिंसा आंदोलन को चिह्नित करने के लिए महात्मा गांधी ने शब्द ‘सत्याग्रह’ को प्रतीक रूप में इस्तेमाल किया था।

3. बंगाल के विभाजन ने सांप्रदायिक विभाजन को भी जन्म दे दिया। 30 दिसंबर, 1906 को ढाका के नवाब आगा खां और नवाब मोहसिन-उल-मुल्क  के नेतृत्व में भारतीय मुस्लिमों के अधिकारों की रक्षा के लिए मुस्लिम लीग का गठन किया गया।

1907 ईस्वी

1. कांग्रेस का सूरत अधिवेशन 1907 ई. में सूरत में सम्पन्न हुआ। ऐतिहासिक दृष्टि से यह अधिवेशन अति महत्त्वपूर्ण था। गरम दल तथा नरम दल के आपसी मतभेदों के कारण इस अधिवेशन में कांग्रेस दो भागों में विभाजित हो गई।

2. लाला लाजपत राय और अजीत सिंह को पंजाब की कैनाल कॉलोनी में दंगों के बाद मांडले भेज दिया गया था।

1908 ईस्वी

1. 8 जून, 1908 को खुदीराम बोसे को कैनेडी तथा उनकी बेटी के हत्या के जुर्म में अदालत में पेश किया गया था और 13 जून को उन्हें मौत की सजा सुनाई गई. इसके बाद 11 अगस्त, 1908 को उन्हें फांसी पर चढ़ा दिया गया।

2. देशद्रोह के आरोप में तिलक को छह साल की कारावास की सजा सुनाई गई।

1909 ईस्वी

1. मॉर्ले-मिंटो सुधार या भारतीय परिषद अधिनियम 1909: इस अधिनियम को ब्रिटिश संसद द्वारा पारित किया गया था जिसके द्वारा ब्रिटिश भारत के शासन में भारतीयों की हिस्सेदारी अल्प मात्रा में बढ़ायी गयी थी। इसे इस नाम से इसलिये जाना जाता है क्योंकि इस समय मार्ले भारत के सचिव एवं लार्ड मिन्टो, वायसराय थे। इन्हीं दोनों के नाम पर इसे मार्ले-मिन्टो सुधारों की संज्ञा दी गयी। सरकार द्वारा इन सुधारों को प्रस्तुत करने के पीछे मुख्य दो घटनाये थीं। अक्टूबर 1906 में आगा खां के नेतृत्व में एक मुस्लिम प्रतिनिधिमंडल वायसराय लार्ड मिन्टो से मिला और मांग की कि मुसलमानों के लिए पृथक निर्वाचन प्रणाली की व्यवस्था की जाए तथा मुसलमानों को उनकी जनसंख्या के अनुपात में प्रतिनिधित्व दिया जाये।

1911 ईस्वी

1. भारत की राजधानी कलकत्ता से दिल्ली में स्थानांतरित कर दिया गया था

1912 ईस्वी

1. दिल्ली के चांदनी चौक में लॉर्ड हार्डिंगे पर रास बिहारी बोस और सच्चिंद्र सान्याल ने बम फेंका था।

1913 ईस्वी

1. ब्रिटिश शासन को खत्म करने के लिए भारत में विद्रोह का आयोजन करने के लिए सैन फ्रांसिस्को में गदर पार्टी का गठन किया गया था।

1914 ईस्वी

1. प्रथम विश्वयुद्ध की शुरुआत 28 जुलाई 1914 ई. में हुई। यह युद्ध 4 वर्ष तक चला जिसमे 37 देशो ने भाग लिया था। यह महायुद्ध यूरोप, एशिया व अफ़्रीका तीन महाद्वीपों और समुंदर, धरती और आकाश में लड़ा गया। इसमें भाग लेने वाले देशों की संख्या, इसका क्षेत्र (जिसमें यह लड़ा गया) तथा इससे हुई क्षति के अभूतपूर्व आंकड़ों के कारण ही इसे विश्व युद्ध कहते हैं। इस युद्ध के ख़त्म होते-होते चार बड़े साम्राज्य रूस, जर्मनी, ऑस्ट्रिया-हंगरी (हैप्सबर्ग) और उस्मानिया ढह गए। यूरोप की सीमाएँ फिर से निर्धारित हुई और अमेरिका एक ‘महाशक्ति ‘ बन कर उभरा।

1915 ईस्वी

1. दक्षिण अफ्रीका से महात्मा गांधी की वापसी

1916 ईस्वी

1. गांधी जी ने अहमदाबाद में साबरमती आश्रम का निर्माण किया था।

2. होम रूल आन्दोलन, एक राष्ट्रीय राजनीतिक संगठन था जिसकी स्थापना 1916 में बाल गंगाधर तिलक द्वारा भारत में स्वशासन के लिए राष्ट्रीय मांग का नेतृत्व करने के लिए “होम रूल” के नाम के साथ की गई थी।

3. एनी बेसेंट द्वारा एक और होमरूल लीग शुरूवात कि गयी।

4. बनारस हिंदू विश्वविद्यालय की स्थापना मदन मोहन मालवीय द्वारा की गयी

1917 ईस्वी

1. गांधीजी के नेतृत्व में बिहार के चम्पारण जिले में सन् 1917-18 में एक सत्याग्रह हुआ। इसे चम्पारण सत्याग्रह के नाम से जाना जाता है। गांधीजी के नेतृत्व में भारत में किया गया यह पहला सत्याग्रह था।

2. मोंटेग, भारत के राज्य सचिव, ने घोषणा की कि भारत में ब्रिटिश सरकार का लक्ष्य जिम्मेदार सरकार की शुरूआत है।

1918 ईस्वी

1. पहला अखिल भारतीय शोषित वर्ग सम्मेलन आयोजित किया गया था।

2. रोलेट (राजद्रोह) समिति अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की थी। रोलेट बिल 16 फरवरी, 1919 को पेश किया था।

1919 ईस्वी

1. एंटी-रौलट सत्याग्रह: एम.के. गांधी ने रौलट बिल के खिलाफ अभियान शुरू किया और सत्याग्रह सभा की स्थापना 24 फरवरी, 1919 को बॉम्बे में की। इस आंदोलन के दौरान, एम.के. गांधी ने प्रसिद्ध उद्धरण दिया “यह मेरा दृढ़ विश्वास है कि हम केवल पीड़ितों के माध्यम से मुक्ति प्राप्त करेंगे, अंग्रेजों से हम पर सुधार नहीं किए जाने वाले सुधारों के द्वारा हम क्रूरता, हम आत्मा बल का उपयोग करेंगे”।

2. जलियांवाला बाग त्रासदी और अमृतसर नरसंहार

3. मोंटेग चेम्सफोर्ड सुधार या भारत सरकार अधिनियम 1919 की घोषणा

1920 ईस्वी

1. लाला लाजपत राय की अध्यक्षता में बम्बई (मुंबई) में आयोजित अखिल भारतीय व्यापार संघ कांग्रेस (एआईटीयूसी) की पहली बैठक सम्पंन्य हुआ था”।

2. भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (कांग्रेस) असहयोग प्रस्ताव प्रस्तुत किया था।

1921 ईस्वी

1. इसी वर्ष प्रिंस की स्थायी सलाहकार परिषद का उद्घाटन; राज्य परिषद और विधान सभा की परिषद का उद्घाटन हुआ था।

2. वेल्स के राजकुमार (राजा एडवर्ड VIII) बम्बई (मुंबई), भारत में आगमन हुआ था और इनके आगमन पर व्यापक आंदोलन हुआ था जिसकी वजह से खाली सड़कों पर उनका स्वागत किया गया था।

3. हिंदू समाज में अस्पृश्यता के खिलाफ संघर्ष, वाइकम सत्याग्रह पर चर्चा के लिए टी के माधवन, तिरुनेलवेली में महात्मा गांधी से मिले।

1922 ईस्वी

1. चौरी चौरा की घटना: उत्तर प्रदेश में गोरखपुर के पास का एक कस्बा है जहाँ 4 फ़रवरी 1922 को भारतीयों ने बिट्रिश सरकार की एक पुलिस चौकी को आग लगा दी थी जिससे उसमें छुपे हुए 22 पुलिस कर्मचारी जिन्दा जल के मर गए थे। इस घटना को चौरीचौरा काण्ड के नाम से जाना जाता है। इसके परिणामस्वरूप गांधीजी ने कहा था कि हिंसा होने के कारण असहयोग आन्दोलन उपयुक्त नहीं रह गया है और उसे वापस ले लिया था। चौरी चौरा की इस घटना से महात्मा गाँधी द्वारा चलाये गये असहयोग आन्दोलन को आघात पहुँचा, जिसके कारण उन्हें असहयोग आन्दोलन को स्थागित करना पड़ा, जो बारदोली, गुजरात से शुरू किया जाने वाला था।

2. दूसरा मोप्ला विद्रोह, मालाबार तट, केरल

3. रबींद्रनाथ टैगोर ने विश्व भारती विश्वविद्यालय स्थापना की थी।

1923 ईस्वी

1. मोतीलाल नेहरू ने स्वराजवादी पार्टी की स्थापना की थी।

1925 ईस्वी

1. देशबंधु चित्तरंजन दास की मौत

2. क्रांतिकारियों द्वारा काकोरी साजिश का मामला

1927 ईस्वी

1. साइमन कमीशन की नियुक्ति

1928 ईस्वी

1. भारत के एक नए संविधान के लिए नेहरू रिपोर्ट

1929 ईस्वी

1. सभी दलों मुस्लिम सम्मेलन जिन्ना के नेतृत्व में “चौदह अंक” तैयार करता है।

2. लोक सुरक्षा विधेयक के खिलाफ विरोध करने के लिए केंद्रीय विधानसभा में भगत सिंह और बट्टूकेश्वर दत्त के बम फेंका।

3. जतिन दास की 64 दिनों के उपवास के बाद मृत्यु।

4. लॉर्ड इरविन की घोषणा कि भारत में ब्रिटिश नीति का लक्ष्य वर्चस्व स्थिति का अनुदान था।

5. जवाहरलाल नेहरू के तहत कांग्रेस का लाहौर सत्र भारत के लिए पूर्ण स्वतंत्रता (पूर्ण स्वराज) के लक्ष्य को अपनाया गया था।

1930 ईस्वी

1. जवाहरलाल नेहरू, भारत के तिरंगा को लाहौर में रवि के किनारों पर फहराया था।

2. पहले स्वतंत्रता दिवस मनाया गया।

3. कांग्रेस की कार्यकारिणी समिति साबरमती में मिलती है और सविनय अवज्ञा आंदोलन को दांडी मार्च के साथ पारित कर देती है।

महात्मा गांधी दांडी मार्च के साथ सविनय अवज्ञा आंदोलन की शुरूआत की थी।

5. भारत में भावी संवैधानिक व्यवस्था के लिए साइमन कमीशन की रिपोर्ट पर विचार करने के लिए लंदन में पहला गोलमेज सम्मेलन शुरू हुआ था।

1931 ईस्वी

1. गांधी-इरविन समझौते और सविनय अवज्ञा आंदोलन का निलंबित

2. भगत सिंह, सुख देव और राज गुरू (लाहौर मामले में) को फांसी दी गयी थी।

3. द्वितीय राउंड टेबल कॉन्फ्रेंस शुरू होता है महात्मा गांधी द्वितीय गोलमेज़ सम्मलेन में भाग लेने के लिए महात्मा गाँधी लंदन पहुंचे थे।

1932 ईस्वी

1. ब्रिटिश प्रधान मंत्री रामसे मैक डोनाल्ड ने अलग-अलग मतदाताओं की जगह हरिजनों को अलग मतदाताओं को अलग-अलग वोट देने के लिए सांप्रदायिक पुरस्कार की घोषणा की।

2. गांधी ने उपवास करके अंग्रेजो से विरोध जताया था

3. पूना समझौते पर हस्ताक्षर किए जिसके द्वारा हरिजन अलग मतदाताओं के स्थान पर आरक्षित सीटें प्राप्त करें।

4. तीसरा गोलमेज सम्मेलन लंदन से शुरू हुआ था।

1935 ईस्वी

1. भारत सरकार अधिनियम पारित हुआ था।

1937 ईस्वी

1. 1935 के अधिनियम के तहत भारत में आयोजित चुनाव।

2. भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस सात प्रान्तों में मंत्रियों का गठन किया था।

1938 ईस्वी

1. भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस 19 से 22 फरवरी 1938 के दौरान हरिपुरा कांग्रेस सत्र की अध्यक्षता सुभाष चंद्र बोस ने की थी। सरदार वल्लभभाई पटेल ने सम्मेलन के लिए हरिपुरा का चयन किया था। 51 बुलॉक्सचार्यो को इस अवसर के लिए सजाया गया था। प्रसिद्ध चित्रकार नंदलाल बोस ने हरिपुरा सत्र के लिए महात्मा गांधी के अनुरोध पर सात पोस्टर तैयार किए।

1939 ईस्वी

1. भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का त्रिपुरी सत्र।

2. सुभाष चंद्र बोस ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की अध्यक्षता से इस्तीफा दिया।

3. द्वितीय विश्व युद्ध शुरू हुआ था। वाइसराय ने घोषणा की कि भारत भी युद्ध में शामिल होगा।

4. ब्रिटिश सरकार की युद्ध नीति के खिलाफ प्रांतों में कांग्रेस मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया था।

5. मुस्लिम लीग ने कांग्रेस मंत्रालयों के त्यागपत्र के उपलक्ष में उद्धार दिवस मनाया था।

1940 ईस्वी

1. मुस्लिम लीग का लाहौर सत्र पाकिस्तान के संकल्प को प्रस्तुत किया था।

2. वाइसरॉय लिनलिथगो ने अगस्त ऑफ़र की घोषणा की।

3. कांग्रेस ने व्यक्तिगत सत्याग्रह आंदोलन की शुरुआत की

1941 ईस्वी

1. रबींद्रनाथ टैगोर की मृत्यु

2. सुभाष चंद्र बोस भारत से जर्मनी को भाग निकले।

1942 ईस्वी

1. चर्चिल ने क्रिप्स मिशन की घोषणा की

2. क्रेप्स मिशन के प्रस्तावों को कांग्रेस ने खारिज कर दिया था।

3. भारत छोड़ो का संकल्प एआईसीसी के बॉम्बे सत्र द्वारा पारित किया गया, जिसने पूरे भारत में एक ऐतिहासिक सविनय अवज्ञा आंदोलन की शुरुआत की।

4. जवाहरलाल नेहरू की बेटी इंदिरा एक पारसी वकील और विद्रोही, फिरोज गांधी से उनके पिता की इच्छाओं के विरुद्ध विवाह कर लिया था।

5. भारतीय नेता, मोहनदास गांधी को ब्रिटिश सेना द्वारा मुंबई में गिरफ्तार किया गया था।

6. नए विवाहित जोड़े इंदिरा गांधी और फिरोज गांधी को भारत छोड़ो आंदोलन में अपनी भागीदारी के लिए गिरफ्तार कर लिए गए थे।

7. द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान सन 1942 में भारत को अंग्रेजों के कब्जे से स्वतन्त्र कराने के लिये आजाद हिन्द फौज या इन्डियन नेशनल आर्मी (INA) नामक सशस्त्र सेना का संगठन किया गया।

1943 ईस्वी

1. सुभाष चंद्र बोस ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेतृत्व पर कहा और सिंगापुर में ‘नि: शुल्क भारत की अस्थायी सरकार’ के गठन की घोषणा की।

2. मुस्लिम लीग के कराची सत्र ‘विभाजन और छोड़ो’ के नारे को ग्रहण किया था।

3. कोलकाता के बंदरगाह पर जापानी हमले।

4. कुलाल कोनवार, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस गोलघाट के अध्यक्ष, भारत छोड़ो आंदोलन के पहले शहीद।

1944 ईस्वी

1. वावेल ने भारतीय राजनीतिक नेताओं की कार्यकारी परिषद बनाने के लिए शिमला सम्मेलन का आह्वाहन किया था।

1946 ईस्वी

1. ब्रिटिश और भारतीय वायु सेना इकाइयों की रॉयल एयर फोर्स  ने ब्रिटिश शासन के खिलाफ़ विद्रोह किया था।

2. ब्रिटिश प्रधान मंत्री अटली ने कैबिनेट मिशन की घोषणा की थी।

3. वावेल ने अंतरिम सरकार बनाने के लिए नेहरू को आमंत्रित किया था।

4. संविधान सभा का पहला सत्र इसी वर्ष हुआ था।

5. नेहरू कांग्रेस पार्टी के नेता चुने गए।

6. भारत के लिए संविधान सभा पहली बार मिली थी।

1947 ईस्वी

1. ब्रिटिश प्रधान मंत्री एटली ने घोषणा कि ब्रिटिश सरकार जून 1948 तक भारत छोड़ देगी।

2. लॉर्ड माउंटबेटन, पिछले ब्रिटिश वासीराय और भारत के गवर्नर जनरल की शपथ ली।

3. भारत के विभाजन के लिए माउंटबेटन योजना की घोषणा की गई थी।

4. भारतीय स्वतंत्रता विधेयक को हाउस ऑफ कॉमन्स में पेश किया गया और 18 जुलाई, 1947 को ब्रिटिश संसद ने पारित किया।

5. कश्मीर में भारत और पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर बलों के बीच युद्ध हुआ था।

6. जूनागढ़ भारत के डोमिनियन में शामिल हो गया था।

7. एयर इंडिया ने पहली बार का अंतरराष्ट्रीय उडान भरा था।

8. भारतीयों को आजादी मिली

9. जवाहरलाल नेहरू भारत के पहले प्रधान मंत्री बने और लाल किले पर भारतीय तिरंगा फहराए, जो प्रतीकात्मक रूप से ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के अंत को दर्शाते हैं।

1885 से 1947 तक भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के ऊपर की समय-समय पर भारत के स्वतंत्रता संग्राम के दौरान होने वाली घटनाओं की घटनाक्रम के बारे में पाठकों के ज्ञान में वृद्धि होगी।

राष्ट्रीय आंदोलन की महत्वपूर्ण घटनाएं- शोर्ट नोट्स

►1904 ➖ भारतीय विश्वविद्यालय अधिनियम पारित
►1905 ➖ बगाल का विभाजन
►1906 ➖ मस्लिम लीग की स्थापना
►1907 ➖ सरत अधिवेशन, कांग्रेस में फूट
►1909 ➖ मार्ले-मिंटो सुधार
►1911 ➖ बरिटिश सम्राट का दिल्ली दरबार
►1916 ➖ होमरूल लीग का निर्माण
►1916 ➖ मस्लिम लीग-कांग्रेस समझौता (लखनऊ पैक्ट)
►1917 ➖ महात्मा गाँधी द्वारा चंपारण में आंदोलन
►1919 ➖ रौलेट अधिनियम
►1919 ➖ जलियाँवाला बाग हत्याकांड
►1919 ➖ मांटेग्यू-चेम्सफोर्ड सुधार
►1920 ➖ खिलाफत आंदोलन
►1920 ➖ असहयोग आंदोलन
►1922 ➖ चौरी-चौरा कांड
►1927 ➖ साइमन कमीशन की नियुक्ति
►1928 ➖ साइमन कमीशन का भारत आगमन
►1929 ➖ भगतसिंह द्वारा केन्द्रीय असेंबली में बम विस्फोट
►1929 ➖ कांग्रेस द्वारा पूर्ण स्वतंत्रता की माँग
►1930 ➖ सविनय अवज्ञा आंदोलन
►1930 ➖ परथम गोलमेज सम्मेलन
►1931 ➖ दवितीय गोलमेज सम्मेलन
►1932 ➖ ततीय गोलमेज सम्मेलन
►1932 ➖ सांप्रदायिक निर्वाचक प्रणाली की घोषणा
►1932 ➖ पना पैक्ट
►1942 ➖ भारत छोड़ो आंदोलन
►1942 ➖ करिप्स मिशन का आगमन
►1943 ➖ आजाद हिन्द फौज की स्थापना
►1946 ➖ कबिनेट मिशन का आगमन
►1946 ➖ भारतीय संविधान सभा का निर्वाचन
►1946 ➖ अतरिम सरकार की स्थापना
►1947 ➖ भारत के विभाजन की माउंटबेटन योजना
►1947 ➖ भारतीय स्वतंत्रता प्राप्ति

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.