YOP Education | A StartUp Story

Featured

1. Tell us a little bit about “YOP Education


YOP Education is India’s one of the Best Educational platform to provide online educational services. Currently we have more expertise on exams like CTET, All India State Level TETs, KVS, DSSSB, NVS, SSC, Bank, and other general competitive exams and we are expanding our services beyond boundaries. We provide Best educational contents like Study Material, Practice Sets, Test Series Material and guidelines, Motivational Videos, Educational Consultant and many more to educational institutions based on requirement.We are also open to discuss other customized requirements as well. Basic to advance regular video courses, Live classes, Doubt Clearing Sessions, motivational videos,etc are our services to learners of different platforms.

YOP Education (Powered by- Your Online partner) is founded by Young Entrepreneur (Author and Educator) Deepak Himanshu, who is also an owner of YouTube Educational channel ‘Your Online Partner’. He has 10 Years of teaching experience and trust of 4 Lakh+ students. He is also an Author of multiple Teaching Exams Books.


2. How did you come up with this idea and why this name?


While working with different software industries in India and abroad for a long time, I realised that apart from this, much more I can do to educate the people from remote areas of the country by growing them digitally. This will help those people who cannot come forward due to lack of opportunity in their area. So I started educating online to the aspirants of the Teaching exam on YouTube while I was working as software project leader in malaysia. Also I belong to a teaching family background where my father Shri Pran Mohan Jha is a well-known Government Teacher awarded by the President of India and my mother is also a teacher giving service since the last 40 years. This all combination of motivation was there in me since childhood and as soon as I started teaching I didn’t look back and finally came up with the all solution provider in the education sector.


3. How time-consuming or difficult was it to get started?


After my School I had started teaching parallely with my study due to my passion which later became the main reason of motivation in my life. Obviously it was not easy to come up with this solution as it was a long process which required a step by step process. After I started teaching online, in a year our YouTube online educational channel became the best in the category and I got the opportunity to write a few books for teacher training and exams which is continuing. Later I also got the opportunity to teach on different india’s learning platforms like Unacademy. While doing this I understood the major problems and requirements of learners and with a plan I started this platform.


4. What problem does “YOP Education” solve?


YOP Education is formed with a motto to help learners, teachers as well as institutions. Due to the current situation of Covid it’s very High time to have a solution in the educational sector where learners should have all access to education from home. We have courses, materials, test series and many more for students, teachers and institutions.


5. Tell us about your Team(Who are the founders and key team members).


Deepak Himanshu is the Co-Founder & Managing Director of the company.

Ms. Mitu Jha, Bachelor- Department of English, Banaras Hindu University is the Business Owner of the firm.

Suraj Sudhanshu (M.Tech Jadavpur university) is Head, “Board of Director for Technical Expertise” who has great vision for the future of Indian Education System.

Apart from this currently we have a Key team of 12 Members who manage and take care of different sections. As part of the new initiative, our team is growing day by day based on different services.


6. What are the different challenges you are facing for operation?


The main challenge is to reach out to the learners and let them know about the more they can do from home through online solutions. A major part of India is still not much comfortable with online study and other services due to which online institutions are also still struggling to share services. We understand that as per the latest change, now is the time of revolution with New Education policy as well. So we are trying our best to help and convince people.

A major part of people are interested but not aware about digital services and operation, so we have a plan to help people to understand and operate the services.

Because of high competition in every sector, the current Indian Education System has various ‘Not up to the mark’ handles which create confusion in students and make a wrong image of online education.


7. Your vision and mission


Our Vision is to help all learners directly or indirectly irrespective of the location they belong to. This will be much useful for those who cannot afford to go for study in big cities and cannot pay high fees.


8. If any funding is raised, please share the details.


Currently no major funding is raised. We have a reverse model where we work on different projects for institutions/Teachers/Learners based on requirement. We have a collaboration with Invincible Publishers for different requirements.

Parallel Alternative Group One education

दल शिक्षण पद्धति द्वारा सामान्यतः व्यवहार में आने वाली समावेशी प्रथाएँ

एक शिक्षा, एक सहयोग—इस मॉडल में एक शिक्षक शिक्षा देता है और दूसरा प्रशिक्षित शिक्षक विशेष छात्र की आवश्यकताओं को और कक्षा को सुव्यवस्थित रखने में सहयोग करता है।

  1. एक शिक्षा एक निरीक्षण – एक शिक्षा देता है दूसरा छात्रों का निरीक्षण करता है।
  2. स्थिर और घूर्णन शिक्षा — इसमें कक्षा को अनेक भागों में बाँटा जाता है। मुख्य शिक्षक शिक्षण कार्य करता है दूसरा विशेष शिक्षक दूसरे दलों पर इसी की जाँच करता है।
  3. समान्तर शिक्षा – इसमें आधी कक्षा को मुख्य शिक्षक तथा आधी को विशिष्ट शिक्षा प्राप्त शिक्षक शिक्षा देता है। दोनों समूहों को एक जैसा पाठ पढ़ाया जाता है।
  4. वैकल्पिक शिक्षा – मुख्य शिक्षक अधिक छात्रों को पाठ पढ़ाता है जबकि विशिष्ट शिक्षक छोटे समूह को दूसरा पाठ पढ़ाता है।
  5. समूह शिक्षा – यह पारंपरिक शिक्षा पद्धति है। दोनों शिक्षक योजना बनाकर शिक्षा देते हैं। यह काफ़ी सफल शिक्षण पद्धति है।

Inclusive practices commonly practiced by team teaching method

One education, one collaboration – In this model, a teacher teaches and the other trained teacher contributes to the needs of the particular student and to keep the classroom organized.

  1. One education is an observation – one teaches and the other observes the students.
  2. Static and rotational learning – In this, the class is divided into several parts. The head teacher does the teaching work. The second special teacher examines the same on other teams.
  3. Parallel education – In this, half the class is given the head teacher and half the teacher with special education. Both groups are taught the same lesson.
  4. Alternative Education – The head teacher teaches the lesson to more students while the specific teacher teaches the second lesson to the small group.
  5. Group education – This is the traditional education method. Both teachers teach through planning. This is a very successful teaching method.

Mathematics Rules

साहचर्य नियम:

  • इसका अर्थ है कि संख्याएँ किसी वांछनीय तरीके या अनुक्रम में संबंधित होती हैं। संख्याओं का समूहीकरण परिणाम को प्रभावित नहीं करता है।
  • गुणकों के समूहीकरण को बदलने से गुणा नहीं बदलता है।

उदाहरण के लिए:- 

a × b × c = b × c × a = c × a × b 

16 × 25 = 400 = 40 × 10

Hint

  • पुनरावर्ती जोड़: इसका अर्थ है कि संख्याओं को उतनी बार जोड़ा जाता है जितनी बार इसे गुणा किया जाता है।
  • उदाहरण: 25 × 5 = 25 + 25 + 25 + 25 + 25 
  • व्युत्क्रम गुणन नियम: यह बताता है कि किसी संख्या का गुणनफल और इसका व्युत्क्रम सदैव 1 होता है।
  • उदाहरण: a × 1/a = 1 
  • वितरक नियम: इसका अर्थ है कि बहुपद के प्रत्येक पद पर एकपदी गुणक को वितरित या अलग से लागू किया जाता है, जो परिणाम को प्रभावित नहीं करता है।
  • उदाहरण: a(b + c) = ab + ac

अतः, उपरोक्त बिंदुओं से, हम स्पष्ट रूप 

MacDougall Emotion and Basic Nature

मैक्डूगल के अनुसार-‘संवेग उत्पन्न होने पर जो क्रिया होती है उसे मूल प्रवृत्ति कहलाती है’

प्रत्येक मूल प्रवृत्ति के साथ एक संवेग जुड़ा रहता है।

मूल प्रवृत्ति—-संवेग

1.पलायन – भय

2. युयुत्सा – क्रोध

3.निवृत्ति – घृणा

4.पुत्रकामना – वात्सल्य

5.शरणागत – करूणा

6.काम प्रवृत्ति – कामुकता

7.जिज्ञासा – आश्चर्य

8.दीनता – आत्महीनता

9.आत्मगौरव – आत्माभिमान

10.सामूहिकता – अकेलापन

11.भोजनान्वेषण – भूख

12.संग्रह – अधिकार

13.रचना – कृति

14. हास्य – मनोविनोद

15. प्रिय देखभाल- प्रेम

According to MacDougall – ‘The action that occurs when a momentum is generated is called the root tendency’.

There is a momentum associated with each core tendency.

Core tendency —- Emotion

  1. 1.Escape – Fear
  2. 2. Combat and Pugnacity- Anger
  3. 3. Repulsion- Disgust
  4. 4.Putnamna – Lust
  5.  Curiosity – Wonder
  6. Submission- Negative Self feeling
  7. Food Seeking- Appetite
  8. Sextuality- Lust
  9. Parental care- love
  10. Gregariousness – Loneliness
  11. Appeal- Distress
  12. Self Assertion- Positive self feeling
  13. Constructiveness-Feeling of creativeness
  14. Acquisitiveness – Feeling of Ownership
  15. Laughter-Amusement

Guilford’s three-dimensional theory

त्रिआयामी सिद्धांत– इस सिद्धांत के अनुसार व्यक्ति की मानसिक योग्यता को तीन आयामों में वर्गीकृत किया गया है 

1. संक्रिया(operations)

2. विषय वस्तु(content)

3. उत्पाद(product)

संक्रिया में छह प्रमुख बुद्धि की योग्यताओं को देखा गया है- 1. संज्ञान  2.स्मृति अभिलेखन 3.  स्मृति धारणा 3.अपसारी चितंन 4.अभिसारी चिंतन 5.मूल्यांकन

विषयवस्तु के 5 आधार हैं- 1. दृष्टि  विषयवस्तु  2. श्रवण  विषयवस्तु 3. सांकेतिक विषयवस्तु   4.शाब्दिक विषयवस्तु 5. व्यवहारात्माक विषयवस्तु 

किसी भी बौद्धिक क्रिया में छह प्रकार के उत्पाद सम्मिलित रहते हैं-1. इकाई  2. वर्ग 3. संबंध  4. रूपांतरण 5. आशय 6. पद्धति

गिलफोर्ड के अनुसार यह तीनों आयाम-  1.संक्रिया(6), 2.विषय वस्तु(5) और 3.उत्पाद(6) कुल मिलकर 6*5*6=180  उप  जाते तत्व बनहैं। 

Three dimensional theory – According to this theory, the mental ability of a person is classified into three dimensions.

1. Operations

2. Content

3. Product

Six major intelligence abilities have been seen in the operation- 1. Cognition 2. Memory Reading 3. Memory Relation 4-Divergent thinking 5. Convergent thinking 6. Evaluation

Five major intelligence abilities have been seen in the Content- 1. Visual  2. Auditing 3. Symbolic 4. Semantic 5. Behavioral.

Six types of products are included in any intellectual activity – 1. Unit 2. Classes 3. 3-Relation 4. System 5. Transformations 6.Implications.

According to Gilford, these three dimensions – 1. Operation (6)   2. Content (5) and 3. Product (6) together become 180 sub elements.

Rorschach inkblot test

रोर्शा स्याही धब्ब परीक्षण (Rorschach test), जिसका प्रतिपादन स्विट्जरलैण्‍ड के मनोवैज्ञानिक

हरमन रॉर्शोक ने सन् 1921 में किया।

1. इस परीक्षण में 10 कार्ड पर स्याही के धब्बे बने होते है।

2. 7 कार्डों पर काले व सफेद तथा बाकी 3 कार्डों पर विभिन्न रंगों के धब्बे बने होते है।

3. हरमन रॉर्शोक ने कार्डों पर चित्रों का वर्णन इस प्रकार किया है—5 कार्ड बिल्कुल काले, 2 कार्ड काले + सफेद, 3 कार्ड अनेक रंगों के।

4. यह परीक्षण व्यक्तिगत रूप से किसी भी आयु वर्ग पर प्रयोग किया जा सकता है। 

रॉर्शोक स्याही धब्बा परीक्षण पर दी गई अनुक्रियाओं का विश्‍लेषण →

W अनुक्रिया → तीव्र बुद्धि तथा अमूर्त चिन्‍तन का बोध

D अनुक्रिया → स्‍पष्‍ट रूप से देखने व समझने की क्षमता का बोध 

S अनुक्रिया → नकारात्‍मक प्रवृत्ति तथा आत्‍म-हठधर्मी का बोध

F अनुक्रिया → चिन्‍तन के समय एकाग्रता का बोध

A अनुक्रिया → बौद्धिक संकीर्णन तथा सांवेगिक असंतुलन का बोध

P अनुक्रिया → रूढिगत चिन्‍तन एवं सृजनात्‍मकता का बोध

Z अनुक्रिया → उच्‍च बुद्धि, सृजनात्‍मकता तथा निपुणता का बोध

The Rorschach test, which was presented in 1921 by psychologist  Hermann Rorschach of Switzerland.

1. In this test, ink spots are made on 10 cards.

2. Black and white are made on 7 cards and different color spots are made on the remaining 3 cards.

3.H. Rorschach  has described the pictures on the cards in this way – 5 cards absolutely black, 2 cards black + white, 3 cards of multi colors.  

4. This test can be used individually on any age group.

Analysis of responses given on Rorschach inkblot test →

W Response → Sharp intelligence and sense of abstract thinking

D Response → Realization of the ability to see and understand clearly

S Response → Negative tendency and sense of self-belief

F Response → Realization of concentration at the time of thinking

A Response → Intellectual narrowing and sense of emotional imbalance

P Response → Conformed Thinking and Creativity

Elephant

हाथी और उसके झुंड के बारे में:

  • हाथी पृथ्वी पर मौजूद सबसे बड़ा स्तनपायी है। 
  • झुंड मातृसत्ता का पालन करता है, यानी सबसे बड़ी मादा हाथी झुंड की मुखिया बनती है।
  • एक झुंड में 10 से 12 मादा हाथी और बच्चे होते हैं।
  • इसमें मुख्य रूप से मादा और बच्चे हाथी शामिल हैं।
  • झुंड में कोई नर हाथी नहीं होता, वे 14 या 15 वर्ष की आयु में झुंड से निकल जाते हैं।
  • झुंड कभी-कभी जलवायु और इलाके के आधार पर (नर ) हाथियों से जुड़ जाता है।
  • एक वयस्क हाथी एक दिन में 100 किलो (1 क्विंटल) तक पत्ते और टहनियाँ खा सकता है।
  • तीन महीने के हाथी का वजन करीब 200 किलो (2 क्विंटल) होता है।
  • हाथी ज्यादा आराम नहीं करते और दिन में सिर्फ 2-3 घंटे ही सोते हैं।
  • हाथी आमतौर पर उष्णकटिबंधीय आवासों में पाए जाते हैं।
  • हाथियों को कीचड़ और पानी से खेलना बहुत पसंद होता है। कीचड़ उनकी त्वचा को ठंडा रखता है।
  • इनके बड़े कान भी पंखे की तरह काम करते हैं। हाथी खुद को ठंडा रखने के लिए इन्हें फड़फड़ाते हैं।
  • परिवार वह है जो हाथियों के निर्माण का आधार बनता है लेकिन इसमें एक से अधिक परिवार शामिल हो सकते हैं।

Athelatic, Aesthemic, Pyknic, Displastic

क्रेचमर के अनुसार शारीरिक प्रारूप के आधार पर आयताकार की व्याख्या नहीं की है इसकी व्याख्या शेल्डन के अनुसार की गई है।

1925 में क्रैचमर‌ ने शारीरिक प्रारूप के आधार पर व्यक्तित्व का वर्गीकरण किया जिसके अंतर्गत व्यक्तित्व के चार प्रकार व्याख्या की है

1. सुडौलकाय-शारीरिक रूप से सुदृढ़,अधिक कार्यक्षमता स्वयं से संतुष्ट,कम शिकायतें करना,इच्छा अनुसार समायोजन इनकी विशेषताएं हैं।

2. लम्बकाय-दुबले,लंबे,शारीरिक रूप से कम सुदृढ़ 

कम कार्यक्षमता,स्वयं से संतुष्ट परनिंदा करना,स्वयं के प्रति सजग रहना इनकी विशेषताएं हैं।

3. गोलकाय-विनोदप्रिय,समाज कार्यों में रुचि,लोकप्रिय दूसरों के साथ समायोजन,कोई विशेष योग्यता नहीं यह इनकी विशेषताएं हैं।

4.डायसप्लास्टिक-कोई विशेष गुण नहीं सामान्य व्यक्तित्व इनकी विशेषताएं हैं।

शारीरिक प्रारूप के आधार पर शेल्डन ने 1930 में व्यक्तित्व  वर्गीकरण किया इन्होंने व्यक्तित्व के तीन प्रकार बताएं

1. कोमल एवं गोलाकार

2. आयताकार

3. लम्बाकार

According to Krechmer, the rectangle is not interpreted on the basis of anatomical design, according to Sheldon.

In 1925, Kretschmer classified personality on the basis of physical form, under which four types of personality are explained:-

1.Athelatic- physically stronger, more self-satisfied, less complaining, willful adjustments are their characteristics.

2.Aesthemic-lean, tall, physically less strong Golfer-humor dear, interest in social work, popular adjustment with others, no special abilities.These are their characteristics. 

3.Pyknic-Humorous,interest in social work, popular adjustment with others,no special abilities.These are his characteristics.

4.Displastic-no special qualities.General personality are their characteristics.

Sheldon made a personality classification in 1930 based on anatomical model, he described three types of personality:-

1.Endomorphic

2.Mesomorphic

3.Ectomorphic

counting, Geoboard, Number chart, Quizinaire sticks

शिक्षण सहायक: ये संवेदी उपकरण हैं, वे शिक्षार्थी को एक संवेदी अनुभव प्रदान करते हैं, और अर्थात शिक्षार्थी अपनी इंद्रियों का उपयोग करके एक साथ देख और सुन सकते हैं। ये निर्देशात्मक उपकरण हैं जिनका उपयोग ध्वनि और दृश्य के माध्यम से संदेशों को अधिक प्रभावी ढंग से संप्रेषित करने के लिए किया जाता है।

Important Points

क्रिजनेयर छड़ शिक्षण और गणित अधिगम के लिए शिक्षण सहायक हैं। एक क्रिजनेयर छड़ के प्रतिनिधित्व वाली संख्या के बराबर वर्ग से बना होता है, और छड़ हमें गणित कार्यों की कल्पना करने में मदद करती है।

यह सहायता छात्रों को अनुभव प्रदान करती है जो गणित का पता लगाने और गणितीय संकल्पनाओं को सीखने में मदद करता है:

  • अंकगणितीय संक्रियाएँ 
  • भिन्नों के साथ कार्य 
  • विभाजक ज्ञात करना 

Additional Information

गणित पढ़ाने के लिए अन्य शिक्षण सहायक उपकरण

  • संख्या चार्ट एक बहुत ही उपयोगी उपकरण है, यह एक छोटे बच्चे को गणित अधिगम में संख्याओं की गिनती सिखाते हैं।
  • गिनतारा सबसे अच्छा शिक्षण सहायता है जो गणित में होता है। जो बच्चे गिनतारा का उपयोग करते हैं वे संख्याओं को अच्छी तरह समझते हैं, वे देख सकते हैं कि वे गणित में क्या हैं और उन्हें इसका जवाब क्यों मिला। छोटे बच्चों के लिए अमूर्त अवधारणाओं को समझना कठिन है।
  • जियोबार्ड आकार, परिधि, क्षेत्र और बहुत कुछ सहित ज्यामिति मूल बातें सिखाने के लिए एक इलेक्ट्रॉनिक शिक्षण सहायता है।

इसलिए, हम यह निष्कर्ष निकाल सकते हैं कि बच्चों के लिए भिन्नों की संकल्पना को पढ़ाने के लिए क्रिजनेयर छड़ सबसे उपयुक्त हैं।

Math Rules

जोड़: जब समान वस्तुओं के दो संग्रह एक साथ रखे जाते हैं, तो उनमें से कुल को जोड़ दिया जाता है।

प्राकृतिक और पूर्ण संख्याओं में जोड़ के गुण:

  • संवरक गुण: दो प्राकृतिक / पूर्ण संख्याओं का योग भी एक प्राकृतिक /पूर्ण संख्या है।
  • क्रमविनिमय गुण: p + q = q + p जहां p और q कोई भी दो प्राकृतिक / पूर्ण संख्याएं हैं।
  • साहचर्य गुण: (p + q) + r = p + (q + r) = p + q + r यह गुण 3 (या अधिक) प्राकृतिक / पूर्ण संख्याओं को जोड़ने के लिए प्रक्रिया प्रदान करती है।
  • पूर्ण संख्याओं में योज्य तत्समक4 + 0 = 0 + 4 = 4. पूर्ण संख्याओं के सेट में, इसी प्रकार, p + 0 = 0 + p = p (जहाँ p कोई पूर्ण संख्या है)। इसलिए, 0 को पूर्ण संख्याओं का योज्य तत्समक कहा जाता है।

Key Points

गुणन के गुण:

  • क्रमविनिमय गुण: a × b = b × a उदाहरण, 9 × 4 = 4 × 9 = 36
  • संवरक गुण: यदि p और q प्राकृतिक या पूर्ण संख्या हैं तो p × q भी एक प्राकृतिक या पूर्ण संख्या है। जैसा कि ऊपर दिए गए उदाहरण में, 4 और 9 प्राकृतिक संख्याएँ हैं, इसलिए उनका गुणन (36) है।
  • साहचर्य गुण: (p × q) × r = p × (q × r) (जहाँ p, q, और r कोई तीन प्राकृतिक / पूर्ण संख्याएँ हैं)
  • गुणन तत्समक: संख्या ‘1’ में गुणन के संबंध में निम्नलिखित विशेष गुण हैं। p × 1 = 1 × p = p (जहाँ p एक प्राकृतिक संख्या है)
  • इसके अलावा गुणन का वितरण गुण : p × (q + r) = (p × q) + (p × r)

ध्यान दें: जोड़ के लिए कोई वितरण गुण नहीं है। किसी को भ्रमित नहीं होना चाहिए (p + q) + r = p + (q + r) वितरण के रूप में, दिया गया गुण जोड़ के साहचर्य गुण है।

Bloom Taxonomy

ब्लूम का वर्गीकरण Bloom Taxonomy बेंजामिन ब्लूम (1913-1999) एक अमेरिकी मनोवैज्ञानिक थे,जिन्होंने 1956 में प्रकाशित अपनी पुस्तक Taxonomy of Educational Objectives में इस वर्गीकरण को दर्शाया। जो Bloom Taxonomy के नाम से प्रचलित हुई। वर्तमान की शिक्षा ब्लूम के वर्गीकरण पर ही आधारित हैं, जैसे एक अध्यापक पढ़ाने से पहले उस प्रकरण से जुड़े ज्ञानात्मक,बोधात्मक एवं क्रियात्मक उद्देश्यों का चयन करता है यह सब ब्लूम के वर्गीकरण की ही देन हैं।

ब्लूम टैक्सोनोमी 1956 में प्रकाशित हुई। इसका निर्माण कार्य ब्लूम द्वारा हुआ, इसलिये यह bloom taxonomy के नाम से प्रचलित हुई । ब्लूम के वर्गीकरण को “शिक्षा के उद्देश्यों” के नाम से भी जाना जाता हैं अतः शिक्षण प्रक्रिया का निर्माण इस तरीके से किया जाता हैं ताकि इन उद्देश्यों की प्राप्ति की जा सकें।

ब्लूम का वर्गीकरण |Bloom Taxonomy in Hindi

ब्लूम के वर्गीकरण के आधार पर ही कई मनोवैज्ञानिकों ने अपने परीक्षण किए और वह अपने परीक्षणों में सफल भी हुए। इस आधार पर यह माना जा सकता है कि ब्लूम का यह सिद्धांत काफी हद तक सही हैं। बेंजामिन ब्लूम के वर्गीकरण (bloom taxonomy) में संज्ञानात्मक उद्देश्य, भावात्मक उद्देश्य, मनोशारीरिक उद्देश्य समाहित हैं। सर्वप्रथम हम संज्ञानात्मक उद्देश्य (Cognitive Domain) की प्राप्ति के लिए निम्न बिंदुओं को जानिंगे –

संज्ञानात्मक उद्देश्य Cognitive Domain

1. ज्ञान (Knowledge) – ज्ञान को ब्लूम ने प्रथम स्थान दिया क्योंकि बिना ज्ञान के बाकी बिंदुओं की कल्पना करना असंभव हैं। जब तक किसी वस्तु के बारे में ज्ञान (knowledge) नही होगा तब तक उसके बारे में चिंतन करना असंभव है और अगर संभव हो भी जाये तो उसको सही दिशा नही मिल पाती। इसी कारण ब्लूम के वर्गीकरण में इसकी महत्ता को प्रथम स्थान दिया गया।

2. बोध (Comprehensive) – ज्ञान को समझना उसके सभी पहलुओं से परिचित होना एवं उसके गुण-दोषों के सम्बंध में ज्ञान अर्जित करना।

3. अनुप्रयोग (Application) – ज्ञान को क्रियान्वित (Practical) रूप देना अनुप्रयोग कहलाता हैं प्राप्त किये गए ज्ञान की आवश्यकता पड़ने पर उसका सही तरीके से अपनी जिंदगी में उसे लागू करना एवं उस समस्या के समाधान निकालने प्राप्त किये गए ज्ञान के द्वारा। यह ज्ञान को कौशल (Skill) में परिवर्तित कर देता है यही मार्ग छात्रों को अनुभव प्रदान करने में उनकी सहायता भी करता हैं।

4. विश्लेषण (Analysis) – विश्लेषण से ब्लूम का तात्पर्य था तोड़ना अर्थात किसी बड़े प्रकरण (Topic) को समझने के लिए उसे छोटे-छोटे भागों में विभक्त करना एवं नवीन ज्ञान का निर्माण करना तथा नवीन विचारों की खोज करना। यह ब्लूम का विचार समस्या-समाधान में भी सहायक हैं।

5. संश्लेषण (Sysnthesis) – प्राप्त किये गए नवीन विचारो या नवीन ज्ञान को जोड़ना उन्हें एकत्रित करना अर्थात उसको जोड़कर एक नवीन ज्ञान का निर्माण करना संश्लेषण कहलाता हैं।

6. मूल्यांकन (Evaluation) – सब करने के पश्चात उस नवीन ज्ञान का मूल्यांकन करना कि यह सभी क्षेत्रों में लाभदायक है कि नहीं। कहने का तात्पर्य है कि वह वैध (Validity) एवं विश्वशनीय (Reliability) हैं या नहीं। जिस उद्देश्य से वह ज्ञान छात्रों को प्रदान किया गया वह उस उद्देश्य की प्राप्ति करने में सक्षम हैं कि नही यह मूल्यांकन द्वारा पता लगाया जा सकता हैं।

2001 रिवाइज्ड ब्लूम वर्गीकरण |Revised Bloom Taxonomy

ब्लूम के वर्गीकरण (Bloom Taxonomy) में संशोधित रूप एंडरसन और कृतवोल ने दिया। इन्होंने वर्तमान की आवश्यकताओं को देखते हुए उसमे कुछ प्रमुख परिवर्तन किये। जिसे रिवाइज्ड ब्लूम वर्गीकरण (Revised bloom taxonomy) के नाम से जाना जाता हैं।

1. स्मरण (Remembering)  प्राप्त किये गये ज्ञान को अधिक समय तक अपनी बुद्धि (Mind) में संचित रख पाना एवं समय आने पर उसको पुनः स्मरण (recall) कर पाना स्मरण शक्ति का गुण हैं।

2. समझना (Understanding) – प्राप्त किया गया ज्ञान का उपयोग कब, कहा और कैसे करना है यह किसी व्यक्ति के लिए तभी सम्भव हैं जब वह प्राप्त किये ज्ञान को सही तरीके से समझे।

3. लागू करना (Apply) – जब वह ज्ञान समझ में आ जाये जब पता चल जाये कि इस ज्ञान का प्रयोग कब,कहा और कैसे करना हैं तो उस ज्ञान को सही तरीके से सही समय आने पर उसको लागू करना।

4. विश्लेषण (Analysis) – उस ज्ञान को लागू करने के पश्चात उसका विश्लेषण करना अर्थात उसको तोड़ना उसको छोटे-छोटे भागों में विभक्त करना।

5. मूल्यांकन (Evaluate) – विश्लेषण करने के पश्चात उसका मूल्यांकन करना कि जिस उद्देश्य से उसकी प्राप्ति की गयी है वह उस उद्देश्य की प्राप्ति कर रहा हैं या नहीं इसका पता हम उसका मूल्यांकन करके कर सकते हैं।

6. रचना (Creating) – मूल्यांकन करने के पश्चात उस स्मरण में एक नयी विचार का निर्माण होता हैं जिससे एक नवीन विचार की रचना होती हैं।

भावात्मक उद्देश्य (Affective Domain)

Bloom taxonomy के अंतर्गत भावात्मक उद्देश्य (Affective Domain)का निर्माण क्रयवाल एवं मारिया ने 1964 में किया। इन्होंने छात्रों के भावात्मक पक्ष पर ध्यान देते हुए कुछ प्रमुख बिंदुओं को हमारे सम्मुख रखा। भावात्मक पक्ष से तात्पर्य हैं कि उस प्रत्यय (Topic) के प्रति छात्रों के भावात्मक (गुस्सा,प्यार,चिढ़ना, उत्तेजित होना, रोना आदि) रूप का विकास करना।

1. अनुकरण (Receiving) – भावात्मक उद्देश्य (Affective Domain) की प्राप्ति के लिए सर्वप्रथम बालको को अनुकरण (नकल) के माध्यम से ज्ञान प्रदान करना चाहिए। एक अध्यापक को छात्रों को पढ़ाने के समय उस प्रकरण का भावात्मक पक्ष को महसूस कर उसको क्रियान्वित रूप देना चाहिये जिससे छात्र उसका अनुकरण कर उसको महसूस कर सकें।

2. अनुक्रिया (Responding) – तत्पश्चात अनुकरण कर उस अनुकरण के द्वारा क्रिया करना अनुक्रिया कहलाता हैं।

3. अनुमूल्यन (Valuing) – उस अनुक्रिया के पश्चात हम उसका मूल्यांकन करते है कि वह सफल सिध्द हुआ कि नहीं।

4. संप्रत्यय (Conceptualization) – हम उसके सभी पहलुओं पर एक साथ विचार करते हैं।

5. संगठन (Organization) – उस प्रकरण को एक स्थान में रखकर उसके बारे में चिंतन करते हैं उसमें विचार करना शुरू करते हैं।

6. चारित्रीकरण (Characterisation) – तत्पश्चात हम उस पात्र का एक चरित्र निर्माण करते हैं जिससे हमारे भीतर उसके प्रति एक भाव उत्त्पन्न होता हैं जैसे गुंडो के प्रति गुस्से का भाव हीरो के प्रति सहानुभूति वाला भाव आदि।

मनोशारीरिक उद्देश्य (Psychomotor Domain)

Bloom taxonomy के अंतर्गत मनोशारीरिक उद्देश्य का निर्माण सिम्पसन ने 1969 में किया। इन्होंने ज्ञान के क्रियात्मक पक्ष पर बल देते हुए निन्म बिंदुओं को प्रकाशित किया।

1. उद्दीपन (Stimulation) – उद्दीपन से आशय कुछ ऐसी वस्तु जो हमे अपनी ओर आकर्षित करती हैं तत्पश्चात हम उसे देखकर अनुक्रिया करतें हैं जैसे भूख लगने पर खाने की तरफ क्रिया करते हैं इस उदाहरण में भूख उद्दीपन हुई जो हमें क्रिया करने के लिये उत्तेजित कर रहीं हैं।

2. कार्य करना (Manipulation) – उस उद्दीपन के प्रति क्रिया हमको कार्य करने पर मजबूर करती हैं।

3. नियंत्रण (Control)  उस क्रिया पर हम नियंत्रण रखने का प्रयास करते हैं।

4. समन्वय (Coordination) – उसमें नियंत्रण रखने के लिए हम उद्दीपन ओर क्रिया के मध्य समन्वय स्थापित करते हैं।

5. स्वाभाविक (Naturalization) – वह समन्वय करते करते एक समय ऐसा आता हैं कि उनमें समन्वय स्थापित करना हमारे लिए सहज हो जाता हैं हम आसानी के साथ हर परिस्थिति में उनमें समन्वय स्थापित कर पाते हैं वह हमारा स्वभाव बन जाता हैं।

6. आदत ( Habit formation) – वह स्वभाव में आने के पशचात हमारी आदत बन जाता है। ऐसी परिस्थिति दुबारा आने के पश्चात हम वही क्रिया एवं प्रतिक्रिया हमेशा करते रहते हैं जिससे हमारे अंदर नयी आदतों का निर्माण होता हैं।

निष्कर्ष Conclusion –

ब्लूम के वर्गीकरण में ब्लूम ने छात्रों के ज्ञान एवं बौद्धिक पक्ष पर पूरा ध्यान केंद्रित किया हैं। वह छात्रों के सर्वांगीण विकास के लिये बौद्धिक विकास पर अध्यधिक बल देते हैं। उनका यह वर्गीकरण छात्रों के व्यवहार में वांछित परिवर्तन लाने हेतु काफी उपयोगी सिद्ध हुआ हैं। ब्लूम के वर्गीकरण के माध्यम से चलकर ही हम शिक्षण के उद्देश्यों की प्राप्ति कर सकतें हैं।